Skip to main content

कोरोना से जुड़े अहम सवाल

आंकड़ों को दर्ज करने के मामले में भारतीय स्वास्थ्य प्रबंधन तंत्र कभी अच्छा नहीं रहा। बीमारियों के मामलों को दर्ज करने में पूर्वाग्रह की स्थिति रही है। यह स्थिति कोविड-19 महामारी में भी जारी है। उदाहरण के तौर पर तेलंगाना में छह डॉक्टर ने लिखा कि कैसे राज्य के कुल आंकड़ों में कोविड 19 से होनेवाली मौतों का जिक्र नहीं किया जा रहा है।

कोविड-19 से संबंधित मौतों को दर्ज करने के प्रोटोकॉल में लापरवाही का यह एक नमूना है। संशय इस बात को लेकर भी है कि केंद्र स्वयं कैसे इन आकडो को दर्ज कर रहा है। आधिकारिक बयान दिया गया कि अब महामारी का वक्त नीचे की तरफ हो जायेगा। मेडिकल प्रबंधन पर सरकार की सशक्त समिति ने 24 अप्रैल के सप्ताहांत में अनुमान लगाया कि मई के आखिर तक महामारी खत्म हो जायेगी। कुछ अज्ञात कारणों से सरकार ने 5 मई को घोषणा कि स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय की वेबसाइट पर कोविड-19 से जुड़े मामलों को रोजाना दो बार दर्ज करने की बजाय अब एक बार ही अपडेट किया जायेगा।

कोविड-19 से जुड़े मामलों की संख्या और इससे उत्पन्न कठिनाई एक महत्वपूर्ण मुद्दा है, जिस पर खुलकर चर्चा करने की जरूरत है। एक तरह से दर्ज आंकड़ा भारत की जनसंख्या के अनुपात में काफी कम है।

क्या सार्वजनिक बीबीजी टीकाकरण की वजह से कुछ प्रतिरक्षा प्राप्त हुई है? दूसरी ओर, लग रहा है कि भारत में मामलों के दोगुना होने की दर इटली के मुकाबले तेज हो चुकी है। भारत में 24 मार्च से 30 अप्रैल के बीच संक्रमण के मामले 257 से बढ़कर 34,863 हो गएं। यह अवधि लॉकडाउन क पहले और पिछले महीने के अंत तक की है। इटली में 1 मार्च को जहां 1694 मामले थे, वह 30 अप्रैल को 205463 हो गई। यानी इसमें सात गुना की बढ़ोतरी हुई।

जहां अधिक मामले हो, वे अधिक मदद और यहां तक कि धन की मांग कर सके, इसके लिए ईमानदार और पारदर्शी आंकड़ों का बाहर आना जरूरी है, जिससे महामारी से लड़ाई में हमें बेहतर मदद मिलेगी। हमें यह समझना होगा कि महामारी का समय आंकड़ों के हेरफेर का नहीं है। आइए हम इस बीमारी का इलाज करें। आंकड़ों से इस महामारी की सही स्थिति को दर्शाना सबसे अच्छा तरीका है ।

-भावना भारती
एमिटी यूनिवर्सिटी
कोलकाता

Comments

Post a Comment

Most Popular

विष्णु भक्त नारद मुनि

भगवान विष्णु के परम भक्त नारद ब्रह्मा जी के पुत्र हैं। उन्होंने भगवान विष्णु की भक्ति और तपस्या की। नारद जी पर देवी सरस्वती की भी कृपा थी। उन्हें हर तरह की विद्या में महारत हासिल थी।

प्रकृति का सुहाना मोड़

सड़कों पर सन्नाटा, दफ्तरों, कारखानों और सावर्जनिक स्थानों पर पड़े ताले से भले ही मानव जीवन में ठहराव आ गया है, लेकिन लॉकडाउन के बीच प्रकृति एक नयी ताजगी महसूस कर रही है। हवा, पानी और वातावरण साफ हो रहे हैं। हम इंसानों के लिए कुछ समय पहले तक ये एक सपने जैसा था। इन दिनों प्रकृति की एक अलग ही खूबसूरती देखने को मिल रही हैं जो वर्षों पहले दिखाई देती थी।

ना धर्म देखा ना उम्र देखा, ना अमीर देखा और ना ही गरीब!

कोरोना महामारी से एक बात तो साफ हो गई कि प्रकृति ही सबसे बड़ा धर्म है। इसने किसी भी धर्म को अनदेखा नहीं किया और सब पर बराबर की मार की है। चाहे वह किसी भी धर्म का हो, अमीर हो या गरीब, कोरोना ने किसी को नहीं छोड़ा।

हॉलीवुड की टॉप 10 हॉरर मूवी

क्या आप को हॉरर फिल्में देखना बहुत पसंद हैं? और अगर वो हॉरर फिल्म अगर किसी सच्ची कहानी से प्रेरित हो