Skip to main content

धवलगिरी RWA चुनाव में पुरानी टीम की जोरदार वापसी, दिनेश भाटी फिर बने अध्यक्ष

उत्तर प्रदेश के नोएडा में धवलगिरी अपार्टमेंट के रेजिडेंट वेलफेयर एसोसिएशन (आरडब्ल्यूए) चुनाव में पुरानी टीम की जोरदार वापसी हुई है। दिनेश भाटी एक बार फिर से आरडब्ल्यूए प्रेसिडेंट चुन लिए गए हैं।

अध्यक्ष पद के लिए चुनाव में दिनेश भाटी को 124 वोट मिले, जबकि विपक्षी उम्मीदवार अंबर वर्मा को सिर्फ 34 वोट मिले। ज्वाइंट सेक्रेटरी पद के लिए शशि अधिकारी विजयी घोषित की गईं। उन्हें 95 वोट मिले, जबकि उनके खिलाफ चुनाव लड़ने वाले प्रमोद कुमार को 63 मत प्राप्त हुए।


धवलगिरी अपार्टमेंट बी-12ए आरडब्ल्यूए कार्यकारिणी के लिए इस साल पांच में से तीन पदाधिकारियों का चयन सर्वसम्मति से हो गया। उपाध्यक्ष पद के लिए ओएस पोखरियाल, महासचिव पद के लिए एसपी चमोली और ट्रेजरर के लिए अशोक गोयल का चयन निर्विरोध हुआ। सोसायटी के लिए हुए इस चुनाव में उन्हें किसी विपक्षी उम्मीदवार ने चुनौती नहीं दी।

धवलगिरी सोसायटी के लिए 14 मार्च को हुए चुनाव में कुल 172 लोगों ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया। सुबह 9 बजे से दोपहर डेढ़ बजे तक चले मतदान में सोसायटी के लोगों ने बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया। चुनाव को लेकर लोगों में उत्साह देखते ही बन रहा था। रिजल्ट आते ही अपार्टमेंट के निवासियों ने सभी पदाधिकारियों को जीत की बधाई दी।

धवलगिरी अपार्टमेंट बी-12ए  की नई कार्यकारिणी इस तरह है-

अध्यक्ष- दिनेश भाटी
उपाध्यक्ष- ओएस पोखरियाल
महासचिव- एसपी चमोली
संयुक्त सचिव- शशि अधिकारी
खजांची- अशोक गोयल

Comments

  1. सभी नवनिर्वाचित पदाधिकारियों को बहुत बहुत बधाई एवं हार्दिक शुभकामनाएं

    ReplyDelete

Post a Comment

Most Popular

कोरोना से जुड़े अहम सवाल

आंकड़ों को दर्ज करने के मामले में भारतीय स्वास्थ्य प्रबंधन तंत्र कभी अच्छा नहीं रहा। बीमारियों के मामलों को दर्ज करने में पूर्वाग्रह की स्थिति रही है। यह स्थिति कोविड-19 महामारी में भी जारी है। उदाहरण के तौर पर तेलंगाना में छह डॉक्टर ने लिखा कि कैसे राज्य के कुल आंकड़ों में कोविड 19 से होनेवाली मौतों का जिक्र नहीं किया जा रहा है।

विष्णु भक्त नारद मुनि

भगवान विष्णु के परम भक्त नारद ब्रह्मा जी के पुत्र हैं। उन्होंने भगवान विष्णु की भक्ति और तपस्या की। नारद जी पर देवी सरस्वती की भी कृपा थी। उन्हें हर तरह की विद्या में महारत हासिल थी।

प्रकृति का सुहाना मोड़

सड़कों पर सन्नाटा, दफ्तरों, कारखानों और सावर्जनिक स्थानों पर पड़े ताले से भले ही मानव जीवन में ठहराव आ गया है, लेकिन लॉकडाउन के बीच प्रकृति एक नयी ताजगी महसूस कर रही है। हवा, पानी और वातावरण साफ हो रहे हैं। हम इंसानों के लिए कुछ समय पहले तक ये एक सपने जैसा था। इन दिनों प्रकृति की एक अलग ही खूबसूरती देखने को मिल रही हैं जो वर्षों पहले दिखाई देती थी।

ना धर्म देखा ना उम्र देखा, ना अमीर देखा और ना ही गरीब!

कोरोना महामारी से एक बात तो साफ हो गई कि प्रकृति ही सबसे बड़ा धर्म है। इसने किसी भी धर्म को अनदेखा नहीं किया और सब पर बराबर की मार की है। चाहे वह किसी भी धर्म का हो, अमीर हो या गरीब, कोरोना ने किसी को नहीं छोड़ा।

हॉलीवुड की टॉप 10 हॉरर मूवी

क्या आप को हॉरर फिल्में देखना बहुत पसंद हैं? और अगर वो हॉरर फिल्म अगर किसी सच्ची कहानी से प्रेरित हो