Skip to main content

Posts

कोविड के नए वैरियेंट और वर्ष 2020 में बनी आंतरिक इम्युनिटी में समय पूर्व आई कमी विज्ञान के लिए चुनौती

कैंब्रिज विश्व विद्यालय के इम्युनोलोजी एवं इन्फ़ेक्सन्श डिसीज के विशेषज्ञ प्रो डॉ रवीन्द्र गुप्ता जो कि टाइम मैगजीन के प्रथम सौ प्रभावशाली लोगो की सूची में शामिल हैं, उन्होंने इंडोलोजी फ़ाउंडेशन द्वारा आयोजित ऑनलाइन कॉन्फ्रेंस में भारत में कोरोना की दूसरी लहर की समस्या पर चेतावनी दी है कि कोरोना वायरस के नए वैरियेंट्स
Recent posts

कोरोना काल में सुकून देने वाला भजन लॉन्च, पत्रकार से भजन गायक बने हरीश ने पूछा- तो क्या मेरा कोई कन्हैया नहीं

कोरोना के इस संकट काल में चारों ओर भय और निराशा का माहौल है। लोग डरे हुए हैं और डिप्रेशन के शिकार हो रहे हैं। कष्ट की इस घड़ी में ताजा हवा के झोंके की तरह है वरिष्ठ पत्रकार और लेखक हरीश चंद्र बर्णवाल का नया भजन। भगवान कृष्ण की तरह खूबसूरत है यह भजन- 'तो क्या मेरा कोई कन्हैया नहीं।' इस भजन को सुनकर आप अपने सारे गम भूल जाएंगे।

प्रवीण मिश्रा को दिल्ली में मिला मीडिया एक्सेलेंस का बेस्ट प्रोड्यूसर अवार्ड

बिहार के मधुबनी जिला में खजौली थाना के सुक्की गांव के प्रवीण कुमार मिश्रा को मीडिया में उत्कृष्ट योगदान के लिए मीडिया फेडरेशन ऑफ इंडिया के बेस्ट प्रोड्यूसर अवार्ड से सम्मानित किया गया है। प्रवीण कुमार मिश्रा को यह सम्मान मीडिया में उत्कृष्ट योगदान के लिए दिया गया है।

सभी भारतीयों को आयुर्वेद के माध्यम से प्रतिरक्षा विकसित करना आवश्यक- गुरु मनीष

प्रसिद्ध आयुर्वेद विशेषज्ञ गुरु मनीष ने आयुर्वेद का उपयोग करते हुए प्राकृतिक इम्युनिटी बढ़ाने पर जोर दिया है, ताकि कोरोना सहित सभी तरह के संक्रमण को दूर रखा जा सके। 'शुद्धि आयुर्वेद' के संस्थापक गुरु मनीष ने टीकाकरण अभियान के बाद भी सभी भारतीयों के लिए यह महत्वपूर्ण है कि वे आयुर्वेद के जरिए प्रतिरक्षा विकसित करें।

हुमा कुरैशी ने दिल्ली में किया अपनी मां के सैलून 'अमीकुर' को रीलांच

अभिनेत्री हुमा कुरैशी ने दिल्ली की कैलाश कालोनी में अपनी मां की सैलून 'अमीकुर' को रीलांच किया। सैलून के रीलांच पर हुमा कुरैशी सैलून काफी उत्साहित नजर आईं। रीलांच कार्यक्रम के दौरान हुमा ने कहा कि

रेड बुल स्‍पॉटलाइट के फाइनलिस्‍ट्स नई सीरीज में टाइटल के लिए करेंगे मुकाबला

भारत के सर्वश्रेष्‍ठ उभरते रैपर्स को ढूंढकर उनका करियर संवारने के लिए रेड बुल स्‍पॉटलाइट एक देशव्‍यापी टैलेंट खोज अभियान है, जिसकी वापसी पिछले साल के शुरुआती महीनों में हुई थी और जिसके क्‍वालिफायर्स देश के 15 शहरों— मुंबई, दिल्‍ली, बेंगलुरु, गुवाहाटी, हैदराबाद, चंडीगढ़, कोच्चि, इंदौर आदि के सिटी के थे।

धवलगिरी RWA चुनाव में पुरानी टीम की जोरदार वापसी, दिनेश भाटी फिर बने अध्यक्ष

उत्तर प्रदेश के नोएडा में धवलगिरी अपार्टमेंट के रेजिडेंट वेलफेयर एसोसिएशन (आरडब्ल्यूए) चुनाव में पुरानी टीम की जोरदार वापसी हुई है। दिनेश भाटी एक बार फिर से आरडब्ल्यूए प्रेसिडेंट चुन लिए गए हैं।

मैथिली के लिए ऐतिहासिक दिन, विज्ञान की बातें भी होंगी इस भाषा में: अखिलेश झा

मैथिली भाषियों के लिए अब सहज और सरज भाषा में पुस्तकें प्रकाशित होंगी। उनके लिए पत्रिका, ब्लाॅग लेखन, टीवी-रेडियो कार्यक्रम का निर्माण होगा। इसके लिए विज्ञान प्रसार ने जो बीडा उठाया है, वह स्वागतयोग्य है। मिथिला ही नहीं, बल्कि देश और विदेश में रहने वाले मैथिलभाषियों के लिए यह ऐतिहासिक दिन है।

सभ्यता संवाद पत्रिका का हुआ ई-लोकार्पण, भारतीय संचार परंपरा पर हुई चर्चा

आज जब संचार माध्यमों के चाल-चरित्र को लेकर लगातार विमर्श किया जा रहा है, ऐसे में भारत की मीडिया कैसी है? किस तरह की होनी चाहिए? संचार की भारतीय अवधारणाएं क्या हैं? इन विषयों के समेटे हुए सभ्यता अध्ययन केन्द्र की त्रैमासिक शोध पत्रिका सभ्यता संवाद के ‘सभ्यतागत संघर्ष और संचार की भारतीय अवधारणा'पर केंद्रित अंका का ई-लोकार्पण हिमाचल प्रदे श केन्द्रीय विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. कुलदीप अग्निहोत्री,आरएसएस के सह-प्रचार प्रमुख नरेंद्र ठाकुर, भारतीय जनसंचार संस्थान, नई दिल्ली के महानिदेशक प्रो. संजय द्विवेदी, आरएसएस के सह-प्रचार प्रमुख नरेंद्र ठाकुर, अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राजकुमार भाटिया, वरिष्ठ पत्रकार उमेश चतुर्वेदी, वरिष्ठ पत्रकार अनिल सौमित्र, हंसराज कॉलेज, दिल्ली विश्वविद्यालय की प्राचार्या डॉ. रमा सहित देश भर के संचार प्रेमियों की उपस्थिति में हुआ। इस अवसर पर बोलते हुए वक्ताओं ने कहा कि भारत की संचार-परंपरा लोकमंगलकारी रही है एवं भारतीय सभ्यता ऐसे वक्त में भी संवाद की बात करती है, जब संघर्ष अवश्यंभावी दिख रहा हो। कार्यक्रम की अध्यक्षता

कोविड युग में फिर से उभरने का अवसर मिला है आयुर्वेद को

जाने-माने आयुर्वेद विशेषज्ञ और प्रेरक वक्ता, आचार्य मनीष ने कोविड-19 के प्रसार को रोकने के लिए एक सामाजिक अभियान की शुरुआत की है। आचार्य मनीष आयुर्वेद के सदियों पुराने उपचारों का उपयोग 5000 साल पुराने वैदिक विज्ञान को बढ़ावा देने के लिए करते हैं।

अपनों से करते हैं प्यार तो करें मास्क का प्रयोग: विभय कुमार झा

राजधानी पटना में कोरोना संक्रमण का खतरा बढता ही जा रहा है। राज्य सरकार ने एहतियात के तौर पर लाॅकडाउन किया हुआ है। स्वयंसेवी संस्था अभ्युदय के राष्ट्रीय अध्यक्ष विभय कुमार झा ने आज पटना के कई क्षेत्रों में गरीबों और जरूरतमंदों के बीच मास्क का वितरण किया। इस दौरान उनके साथ कई दूसरे साथी भी थे। सभी ने दो गज की दूरी सहित कोरोना से बचाव के लिए तमाम उपायों का पालन किया। मास्क वितरण करने के दौरान अभ्युदय के राष्ट्रीय अध्यक्ष सह युवा भाजपा नेता विभय कुमार झा ने सभी को कोरोना से बचाव के उपायों को भी बताया। इसमें सोशल डिस्टेनशिंग को सबसे जरूरी बताया।  विभय कुमार झा ने कहा कि यदि आप लोग स्वयं से और अपने परिवार से सही मायने में प्रेम करते हैं, तो इस समय मास्क का जरूर प्रयोग करें। बहुत आवश्यक होने पर भी घरों से बाहर निकलें। सरकार की ओर से भी जो दिशा निर्देश दिया गया है। स्वास्थ्य सेवाओं के विशेषज्ञ और डाॅक्टर्स जो सलाह देते हैं, उसका अक्षरशः पालन करना चाहिए। विभय कुमार झा ने कहा कि यह समय संयम और धैर्य का है। भले ही यह बुरा समय हो, लेकिन हम सब मिलकर इसका सामना करेंगे। समाज म

मरुकिया अस्पताल परिसर की साफ-सफाई कर युवाओं ने पेश की मिसाल

कोरोना संकट काल में भले ही गांव-गली के साथ अस्पताल को स्वच्छ रखने का दावा किया जा रहा हो, लेकिन मधुबनी के मरुकिया उप स्वास्थ्य केन्द्र परिसर में बरसात के दौरान जलजमाव के कारण चारों ओर गंदगी का सैलाब देखने को मिला।

कोरोना काल में मिथिला पर विशेष ध्यान देने की मांग: विभय कुमार झा

बिहार में कोरोना संक्रमितों की संख्या में बेतहाशा वृद्धि दर्ज की जा रही है। इसी समय में स्वयंसेवी संस्था अभ्युदय के राष्ट्रीय अध्यक्ष विभय कुमार झा ने केंद्रीय स्वास्थ्य राज्यमंत्री श्री अश्विनी चौबे से बात की। बिहार विशेषकर

बरसात के मौसम में सीजनल फ्लू और बैक्टीरिया से दूर रहने के लिए अपने पीने के पानी का रखें खास ध्यान

कोरोनावायरस (कोविड-19) महामारी के इस बेहद चुनौतीपूर्ण दौर में हम लगातार मुश्किलों का सामना कर रहे हैं और ऐसे में पीने के स्वच्छ पानी तक पहुंच और भी अधिक महत्वपूर्ण हो गई है। ये जानना जरूरी है कि कोविड-19 से बचाव के उपायों में सुरक्षित पेयजल भी एक महत्वपूर्ण उपाय है।

देश के सभी पत्रकारों को बीमा सुविधा दे सरकार- संतोष ठाकुर

जर्नलिस्ट वेलफेयर फंड की नवगठित कमेटी की पहली बैठक में यह मांग की गई कि देश के सभी पत्रकारों को, चाहे वह मान्यता प्राप्त हो या गैर मान्यता प्राप्त हो, सरकार की ओर से इंश्योरेंस / बीमा योजना दी जाए.  इस मांग

योग दिवस पर IGNCA कर रहा है पीएम मोदी पर vBook की लॉन्चिंग, देशभर के कुलपति करेंगे चर्चा

योग दिवस के अवसर पर इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केंद्र (IGNCA) 21 जून को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर vBook की लॉन्चिंग कर रहा है। अपनी तरह की इस पहली vBook के लेखक और निर्माता हैं वरिष्ठ पत्रकार डॉ. हरीश चन्द्र बर्णवाल,

चीन के शंघाई में मिथिला पेंटिंग्स प्रदर्शनी

चीन की प्रतिष्ठित 10वी अंतर्रष्ट्रीय पारम्परिक कला प्रदर्शनी में लोगों ने मिथिला पेंटिंग्स की जमकर सराहना की। इस कला प्रदर्शनी का आयोजन शंघाई कला संग्रहालय में 11 जून को किया गया।

इंटरनेशनल फैक्ट चेकिंग नेटवर्क (IFCN) ने कोविड-19 के लिए हिंदी में वॉट्सऐप चैटबॉट लॉन्च किया

इंटरनेशनल फैक्ट चेकिंग नेटवर्क (IFCN) ने अपने वैश्विक फैक्ट चेकिंग कोविड-19 वॉट्सऐप चैटबॉट का हिंदी संस्करण आज लॉन्च किया। यह सेवा पहले अंग्रेजी और स्पैनिश में ही उपलब्ध थी। इसे खासकर कोविड-19

दुनिया के टॉप 10 सबसे अमीर देश

क्या आप जानते हैं दुनिया के 10 सबसे अमीर देश कौन से हैं? साथ ही इनमें भारत का नंबर कौन सा है? इस लिस्ट में कई ऐसे देश शामिल हैं जिन्हें लोग पहले गरीब देश समझते थे, लेकिन ये देश इतनी तेजी से तरक्की कर रहे है कि इनका नाम अब सबसे अमीर देशों की लिस्ट में शामिल हो गया है। आइये जानते हैं दुनिया के टॉप 10 सबसे अमीर देश- - -Maswood Ahmed Amity University Kolakata

भारत के 7 सबसे लंबे रेलवे प्लेटफॉर्म

क्या आपको पता है गोरखपुर जंक्शन का प्लेटफॉर्म भारत ही नही दुनिया का सबसे लंबा प्लेटफॉर्म है। कोल्लम जंक्शन इसके साथ ही भारत और दुनिया का दूसरा सबसे लम्बा रेलवे प्लेटफॉर्म है। तो चलिए जानते है कौन से ऐसे 7 भारत के सबसे लंबे रेलवे प्लेटफॉर्म हैं- -Maswood Ahmed Amity University Kolakata

घर में रखने योग्य मूर्तियां

हिंदू धर्म के अनुसार घर में सभी देवी-देवताओं के लिए एक अलग स्थान बनाया जाता है। हिंदू धर्म में देवताओं के लिए जो स्थान बता रखे हैं, लोगों ने वैसे ही अपने घरों में देवताओं को स्थापित किया है। आप सभी के घर में देवी-देवताओं का मंदिर जरूर होगा। सबसे पहले आपको बता दें कि घर के मंदिर को हमेशा ही साफ रखना चाहिए। मंदिर में किसी भी तरह की खंडित मूर्ति ना रखें। हम आपको ऐसे देवी-देवताओं के बारे में बताएंगे जिनकी पूजा घर पर नहीं होनी चाहिए। 1. भैरव देव:   भैरव देव भगवान शिव के एक अवतार हैं। भैरव देव की मूर्ति कभी भी अपने घर के मंदिर में नहीं रखनी चाहिए। अब आप बोलेंगे कि ऐसा क्यों है। ऐसा इसलिए है क्योंकि भैरव तंत्र विद्या के देवता माने जाते हैं। भैरव देव की पूजा करनी चाहिए, परंतु घर के अंदर ऐसा नहीं करना चाहिए। 2. नटराज: कुछ लोग ऐसे होंगे जो नटराज जी की मूर्ति को घर में रखते होंगे। नटराज की मूर्ति देखने में तो बहुत सुंदर लगती है।यह मूर्ति भगवान शिव के रौद्र रूप की है। नटराज की मूर्ति को आप भूल कर भी घर के अंदर ना रखें, क्योंकि नटराज भगवान शिव के रौद्र रूप में है यानी भगवान शिव के क्रोधित रूप में ह

झारखंड का आदिवासी समाज और भूमि का उत्तराधिकार!

यूं तो झारखंड के आदिवासी समाज में औरतों की स्थिति, अन्य समाज की स्त्रियो की तुलना में पुरुष से संपत्ति के अधिकार की हो, तो ये उन सारी महिलाओं से पिछडी है जो अन्य क्षेत्रों में इनका अनुकरण करती है। आपको यह जानकर विस्मय होगा कि राज्य के जनजातीय समाज में महिलाओं को अचल संपत्ति में कोई वंशानुक्रम का अधिकार नहीं दिया जाता है। वर्तमान युग में, जब लैंगिक समानता का विषय विश्व भर में जोरों से चर्चा में है, यह अति अफसोसनाक है कि प्रदेश की आदिवासी महिलाओं को प्रथागत कानून के तहत भूमि के उत्तराधिकार से वंचित रखा गया है। छोटानागपुर काश्तकारी अधिनियम, 1908 कि धारा 7 एवं 8 में इस बात का उल्लेख है कि आदिवासी समाज में जमीन का उत्तराधिकार सिर्फ पुरुष वंश में ही किया जा सकता है। अर्थात, समाज की औरतों को इसका कतई अधिकार नहीं। हालांकि अधिनियम कि एक अन्य धारा पर गौर किया जाय तो यह मालूम होता  है कि यादि आदिवासी समाज में भूमि का हस्तांतरण, भेंट अथवा विनिमय किया जाना हो तो इसके लिए वंशानुगत पुरूष अथवा ‘अन्य ‘ योग्य है। जहां एक तरफ संथालपरगना के इलाके में ‘तानसेन जोम’ की परंपरा हैं, वही दूसरी तरफ संथालपरगना का

भारत के 10 सबसे साफ शहर 2020

2020 मे भारत के 10 सबसे साफ शहर कौन से हैं? किसी शहर के साफ होने में वहां की जनता और नगरपालिका का काफी योगदान होता है। अगर शहर की जनता साफ-सफाई के प्रति काफी जागरूक है तो वह अपने शहर को साफ बनाये रखती है। अब भी भारत के ज्यादातर शहर गंदे हैं। ऐसे में गंदे शहरों के लोगो को इन टॉप साफ 10 शहरों से सबक लेनाी चाहिए... -Maswood Ahmed Amity University Kolakata

2019 की टॉप 10 बॉलीवुड फिल्म

हर साल की तरह पिछले साल 2019 में भी बॉलीवुड में कई फिल्में रिलीज हुईं और कुछ फिल्में दर्शकों की कसौटी पर खरी उतरीं। कई फिलमों ने बॉक्स ऑफिस पर शानदार कमाई की पर कई को असफलता का स्वाद भी चखना पड़ा। आइए जानते है 2019 की सबसे ज्यादा कमाई करने वाली बॉलीवुड फिल्में -Maswood Ahmed Amity University Kolakata

तम्बाकू नियंत्रण में उत्कृष्ट कार्य के लिए सीड्स को मिला अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार

विश्व स्वास्थ्य संगठन  (WHO) ने तम्बाकू नियंत्रण के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य के लिए "सोसिओ  इकनोमिक एंड एजुकेशनल डेवलपमेंट सोसाइटी (सीड्स)" को इस वर्ष का विश्व तम्बाकू निषेध दिवस पुरस्कार देने का फैसला किया है। विश्व तम्बाकू निषेध दिवस के अवसर पर WHO दुनिया के चुनिंदा संस्थाओं और व्यक्तियों को प्रतिवर्ष तम्बाकू नियंत्रण के क्षेत्र में महत्वपूर्ण योगदान के लिए सम्मानित करता है।  राष्ट्रीय स्तर की सामाजिक संस्था सीड्स बिहार और झारखण्ड में तम्बाकू नियंत्रण के क्षेत्र में काम करती है। सीड्स पिछले एक दशक से तम्बाकू नियंत्रण कार्यक्रम के संचालन में राज्य सरकार को सहयोग दे रही है। सीड्स ने सरकारी, गैर सरकारी संस्था, मीडिया सहित सभी हितधारकों के साथ मिलकर तम्बाकू नियंत्रण हेतु जबरदस्त माहौल तैयार करते हुए दोनों राज्यों में तम्बाकू नियंत्रण अधिनियम (कोटपा 2003) के अनुपालन में महत्वपूर्ण भूमिका अदा किया है। सीड्स के प्रयास से दोनों राज्यों में पान मसाला,  गुटखा, इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट एवं अवैध हुक्का पर पूर्ण प्रतिबन्ध लगाया गया है। सीड्स के प्रयास से बिहार और झारखण्ड में

धरती का सबसे छोटा बच्चा!

काका उदास थे। उदासी उनके पास कोई पड़ा कारण नहीं था। बदलती आबोहवा से जब भी परेशानी होती है, उदासी उनके चेहरे पर बैठ जाती है। जब कोई चिड़िया गीत गाती हुई फुर्र से उड़ती है या कोई वृक्ष तेज हवा में घूमने लगता है, तब जाकर उनका चेहरा सामान्य हो पाता है। वे बड़ी देर से चुप बैठे थे। जो व्यक्ति खुद में उतर रहा हो या सामने किसी दृश्य को टटोल रहा हो, उसे टोकना अच्छी बात नहीं है। मौन में भी मजे है। मैं कभी-कभी सोचने लगती हूं कि पृथ्वी पर चिड़िया कब आयी होगी। हठात काका का मौन टूटा। वे मुझसे पूछ रहे थे कि तुम्हें क्या लगता है, पृथ्वी पर मानव पहले आया होगा और बहुत दिनों के बाद जब वह बोर होने लगा होगा, तब चिड़िया बनायी गयी होगी! मुझे चुप देख कहने लगे कि मनुष्य के पास चिड़िया बनाने का कोई हुनर नहीं है। इतने उपकरण और होशियार हो जाने के बाद, अगर आज भी मानव चिड़िया बनाने बैठे तो असफलता ही हाथ लगेगी। इस बात से यह साबित होता है कि मानव बाद में आया होगा, चिड़िया पहले आयी होगी। वे कहने लगे कि वृक्ष चिड़िया का घर तो होता ही है, साथ ही उनका जीवन भी होता है। पृथ्वी पर पहले वृक्षों को लगाया गया होगा कि चिड़िया आ

टॉप 10 कोरोना प्रभावित देश

दुनियाभर में कोरोना वायरस का कहर बढ़ता जा रहा है। कोरोना वायरस से संक्रमितों की कुल संख्या 35 लाख से ज़्यादा हो गई है। दुनिया वैश्विक महामारी कोरोना के कहर से लगातार जूझ रही है। इस वायरस की चपेट में आकर दुनिया भर में अब तक 3.45 लाख से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है। आइए जानते हैं टॉप 10 कोरोना प्रभावित देशों के बारे में - -Maswood Ahmed Amity University Kolakata

भोजन में सलाद की महिमा

कुछ बरस पहले जब महंगाई की मार इस कदर नहीं हुआ करती थी, तब सलाद की प्लेट मुफ्त में ग्राहक को पेश की जाती थी। इस सलाद में प्याज और टमाटर के गोलाकार पतले टुकड़े के साथ एक-दो हरी मिर्च और आधा-चौथाई नींबू ही यथेष्ट समझा जाता था। बड़े रेस्तराओं और घरों में भी सलाद इससे ज्यादा अलग नहीं होता था, मूली-गाजर के साथ खीरे की कुछ फाँक भी उसमें दिख जाती थी। मजेदार बात यह है कि इसे हरा सलाद कहा जाता था, जबकि इसमें हरी धनिया पत्ती नाममात्र को ही होती थी। अंग्रेजी में जिसे लेट्स कहते हैं, उसका हिंदी में अनुवाद सलाद की पत्ती किया जाता था। जाहिर है, इसका रिश्ता अंगेज साहबों के खान-पान से ही जोड़ा जाता था। वैसे ही जैसे गोलाकार तीखी लाल मारियो को सलाद की मूली कहा जाता था, जाड़े के मौसम में धूप में फुर्सत में बैठे लोग भले ही नमक व मिर्च मसाला के साथ ताजा मूली और गाजर तबियत से खाते हैं, पर इसे सलाद का नाम नहीं दिया जाता। दक्षिण में खाने को किश्त में बारी-बारी से खाया जाता है। इन किश्तों को कोर्स की संज्ञा दी जाती है। भोजन की उस परंपरा में सलाद सबसे पहले भूख खोलनेवाले कोर्स के रूप में  पेश किया जाता है। बीते क

दुनिया के टॉप 10 सबसे अमीर क्रिकेटर

पूरी दुनिया में क्रिकेट का क्रेज़ छाया हुआ है। हम सभी जानते है कि भारत का सबसे लोकप्रिय खेल क्रिकेट है जिसे

टॉप 10 मोबाइल फ़ोन्स इन इंडिया

आप को तो पता ही होगा कि आजकल स्मार्टफ़ोन का जमाना है

10 प्रसिद्ध भारतीय हवाई अड्डे

एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया के मुताबिक वर्तमान समय के भारत में कुल 486 एयरपोर्ट हैं। इनमें कई एयरपोर्ट

अर्थव्यवस्था का पुनर्निर्माण!

आत्मनिर्भर भारत का विचार भारतीय लोकाचार और जन-सामान्य से सीधे जुडा हुआ है। अंग्रेजी को हराने के लिए

विकसित देशों के पैंतरे- भावना भारती

मौजूदा संकट ने वैश्विक अर्थव्यवस्था को संकटग्रस्त कर दिया है और इसके असर से कोई भी देश अछुता नहीं है। विशेषज्ञों ने आशंका जताई है कि