Skip to main content

झारखंड का आदिवासी समाज और भूमि का उत्तराधिकार!

यूं तो झारखंड के आदिवासी समाज में औरतों की स्थिति, अन्य समाज की स्त्रियो की तुलना में पुरुष से संपत्ति के अधिकार की हो, तो ये उन सारी महिलाओं से पिछडी है जो अन्य क्षेत्रों में इनका अनुकरण करती है। आपको यह जानकर विस्मय होगा कि राज्य के जनजातीय समाज में महिलाओं को अचल संपत्ति में कोई वंशानुक्रम का अधिकार नहीं दिया जाता है। वर्तमान युग में, जब लैंगिक समानता का विषय विश्व भर में जोरों से चर्चा में है, यह अति अफसोसनाक है कि प्रदेश की आदिवासी महिलाओं को प्रथागत कानून के तहत भूमि के उत्तराधिकार से वंचित रखा गया है।

छोटानागपुर काश्तकारी अधिनियम, 1908 कि धारा 7 एवं 8 में इस बात का उल्लेख है कि आदिवासी समाज में जमीन का उत्तराधिकार सिर्फ पुरुष वंश में ही किया जा सकता है। अर्थात, समाज की औरतों को इसका कतई अधिकार नहीं। हालांकि अधिनियम कि एक अन्य धारा पर गौर किया जाय तो यह मालूम होता  है कि यादि आदिवासी समाज में भूमि का हस्तांतरण, भेंट अथवा विनिमय किया जाना हो तो इसके लिए वंशानुगत पुरूष अथवा ‘अन्य ‘ योग्य है। जहां एक तरफ संथालपरगना के इलाके में ‘तानसेन जोम’ की परंपरा हैं, वही दूसरी तरफ संथालपरगना काश्तकारी अधिनियम में यह स्पष्ट रूप से अंकित है जमीन के मामले में स्त्रियों को कोई उत्तराधिकार नहीं है। क्या यह विरोधाभास परंपरागत अधिकारों की मुखालफत का नमूना नहीं है?

यह बात बिल्कुल सत्य है कि आदिवासी समाज में जमीन का दर्जा संपत्ति से कहीं ऊपर है। यह विषय इनकी संपूर्ण संस्कृति से जुड़ा हुआ है। अतः समाज ऐसा कोई भी नियम बनाने के विरुद्ध है जिससे उनकी भूमि छिन जाने का संकट हो। मगर जब पूरा समाज ही अस्तित्व की लड़ाई लड़ रहा हो तो उसे संपूर्ण रूप से अक्षुण्ण रखने की बात की जानी चाहिए। महिलाओं के अधिकारियों की बात इससे परे नहीं हो सकती क्योंकि वे भी इसी समाज का अभिन्न अंग है।

असल में आदिवासी महिलाओं के जमीन में उत्तराधिकार की चर्चा व्यापक स्तर पर तब शुरू हुई जब मधु किश्वर एवं अन्य बनाम बिहार सरकार तथा जूलियाना लड़का एवं अन्य बनाम बिहार सरकार की याचिका पर सुनवाई करते हुए सर्वोच्च न्यायालय ने 17 अप्रैल,1996 को महिलाओं को संपत्ति में अधिकार देने के बाबत अपना निर्णय सुनाया। अदालत ने कहा था कि आदिवासी समाज में महिलाओं को संपत्ति का अधिकार नहीं है। प्रथागत कानून के तहत उन्हें पिता अथवा पति के जमीन का उत्तराधिकार नहीं बनाया जाता। भारतीय संविधान के तहत प्रत्येक नागरिक को स्वच्छंदतावाद और समानता का अधिकार प्रदान करने वाले धारा 14,15 एवं 21 के भी इन्हें वंचित रखा गया है। इसपर क्षेत्र के आदिवासियों ने तीव्र प्रतिरोध जताया। स्त्रियों को भूमि का अधिकार दिये जाने के मसले पर आए इस अदालती फैसले का यह कह कर विरोध प्रकट किया गया कि आदिवासियों में जमीन खरीद-फरोख्त की नहीं है।

झारखंड के अधिकांश आदिवासी घरों में महिलाएं ही घर की आर्थिक जिम्मेवारी निभाती हैं। खेत में पुरुष के समक्ष काम करने से लेकर गृहस्थी चलाने के हर महत्वपूर्ण फैसले में उनकी एक अहम भागीदारी होती है। बावजूद इन उपलब्धियों के औरतों को भूमि के उत्तराधिकारी बनने से क्यों वंचित रखा जाय? झारखंड आदोलन के महानायक रामदयाल मुंडा ने भी कहा था कि सैद्धांतिक रूप से जमीन किसी एक की नहीं हो सकती। प्रथा और परंपरा ने इसे पुरुषों का मान लिया और महिलाओं को इससे पृथक कर दिया अन्यथा भूमि तो स्त्री और पुरुष दोनों की है। बदलते समय के साथ जमीन पर मालिकाना हक कायम होता जा रहा है। ऐसे में पति-पत्नी का नाम संयुक्त रुप से जमीन के दस्तावेजो में दर्ज किया जाना चाहिए, इसमें औरतों की न सिर्फ सामाजिक उन्नति होगी बल्कि उनको आथिक आत्मनिर्भरता का अनुभव होगा। झारखंड में विधवा और अकेली महिलाओं को डायन करार कर हत्या किए जाने के मामले में भी ऐसे कदम से कमी आएगी।
-भावना भारती


Comments

Post a Comment

Most Popular

ज्योतिष विज्ञान और कोरोना- ज्योतिषाचार्य राजकिशोर

वर्त्तमान समय में कोरोना महामारी एक ऐसा संकट है , एक ऐसी समस्या है जिससे न सिर्फ हिंदुस्तान बल्कि पूरा विश्व जूझ रहा है। बार बार लोगों के दिमाग में सिर्फ और सिर्फ एक ही सवाल आ रहा है और उस सवाल ने सभी की रातों की नींद उड़ा कर रख दी है कि कोरोना महामारी का अंत कब होगा ? इस महामारी के संकट से कैसे और कब छुटकारा मिल पायेगा ?

धरती का सबसे छोटा बच्चा!

काका उदास थे। उदासी उनके पास कोई पड़ा कारण नहीं था। बदलती आबोहवा से जब भी परेशानी होती है, उदासी उनके चेहरे पर बैठ जाती है। जब कोई चिड़िया गीत गाती हुई फुर्र से उड़ती है या कोई वृक्ष तेज हवा में घूमने लगता है, तब जाकर उनका चेहरा सामान्य हो पाता है। वे बड़ी देर से चुप बैठे थे। जो व्यक्ति खुद में उतर रहा हो या सामने किसी दृश्य को टटोल रहा हो, उसे टोकना अच्छी बात नहीं है। मौन में भी मजे है। मैं कभी-कभी सोचने लगती हूं कि पृथ्वी पर चिड़िया कब आयी होगी। हठात काका का मौन टूटा। वे मुझसे पूछ रहे थे कि तुम्हें क्या लगता है, पृथ्वी पर मानव पहले आया होगा और बहुत दिनों के बाद जब वह बोर होने लगा होगा, तब चिड़िया बनायी गयी होगी! मुझे चुप देख कहने लगे कि मनुष्य के पास चिड़िया बनाने का कोई हुनर नहीं है। इतने उपकरण और होशियार हो जाने के बाद, अगर आज भी मानव चिड़िया बनाने बैठे तो असफलता ही हाथ लगेगी। इस बात से यह साबित होता है कि मानव बाद में आया होगा, चिड़िया पहले आयी होगी। वे कहने लगे कि वृक्ष चिड़िया का घर तो होता ही है, साथ ही उनका जीवन भी होता है। पृथ्वी पर पहले वृक्षों को लगाया गया होगा कि चिड़िया आ

ईमानदारी की श्रेष्ठता

अजीब स्वभाव है मानव का! हमारी भले ही ईमान से जान पहचान ना हो, पर हम चाहते हैं कि हमारे संपर्क में आने वाले प्रत्येक व्यक्ति ईमानदार हों। व्यापार में, व्यवहार में , साहित्य में या संसार में सभी जगह ईमानदारी की मांग है।

नव वर्ष 2022 में राहु, केतु, शनि और गुरु ग्रहों का गोचर एवं उनका विभिन्न चंद्र राशियों पर होने वाला प्रभाव

2021 की समाप्ति और 2022 की शुरुआत बड़े ही नाटकीय ढंग से हुई है। यह हम इसलिए कह रहे हैं क्योंकि 2021 के आखिरी महीने यानी की दिसंबर महीने में कोरोना के एक और रूप ओमीक्रॉन ने बड़े ही अलग तरीके से, बिना किसी लक्षण के अचानक ही पूरे विश्व पर धावा बोल दिया। भारत या अन्य देश इसके रूप, स्वरुप, असर, परिणाम  को जान और समझ पाते उससे पहले ही इसने लगभग पूरी दुनिया को अपनी चपेट में ले लिया। कोरोना ने इस नए रूप में आकर सभी को एक बार फिर डरा दिया है।