Skip to main content

ब्यूटी और वेलनेस सेक्टर स्किल काउंसिल की ओर से होलिस्टिक वैलनेस वर्कशॉप का आयोजन

समग्र रूप से वेलनेस प्राप्त करने और बढ़ावा देने के दृष्टिकोण के साथ ब्यूटी और वेलनेस सेक्टर स्किल काउंसिल (बी एंड डब्ल्यू एस एस सी ) द्वारा कौशल विकास मंत्रालय  के अधिकारियों के लिए एक 360* वेलनेस कार्यशाला  का आयोजन किया गया। इस कार्यशाला का उद्देश्य होलिस्टिक लाइफ्स्टाइल पर जानकारी देना और अवेयरनेस क्रिएट करते हुए होलिस्टिक अप्रोच के साथ स्वस्थ जीवनशैली अपनाने के लिए प्रेरित करना था।  


इस अवसर पर डॉ. केके द्विवेदी, संयुक्त सचिव, एमएसडीई, श्रीमती मोनिका बहल, सीईओ-बी एंड डब्ल्यूएसएससी,  श्रीमती श्रुति पांडेय, उप निदेशक एमएसडीई और एएसव्यासा यूनिवर्सिटी से आचार्य रविंद्रा ने अपने संबोधन से लोगों को लाभान्वित किया।


इस वर्कशॉप के अंतर्गत स्वस्थ जीवनशैली और वेलनेस के लिए ज़रूरी महत्वपूर्ण विषयों पर जानकारी दी गयी जिनमे अच्छी खानपान की आदतें, योग का स्वास्थ्य के लिए महत्त्व, ध्यान लगाने का महत्त्व और सही तरीका और व्यस्त होने के साथ-साथ खुद का ध्यान रखने की आवश्यकता पर भी विशेष जोर दिया गया। इसके साथ ही सटीक टिप्स भी शेयर किये गए।  

जीवनशैली में सही संतुलन बनाये रखने के लिए अच्छी आदतों पर विस्तार से चर्चा भी इस वर्कशॉप का एक प्रमुख विषय रहा। इस वर्कशॉप का उद्घाटन श्री केके द्विवेदी, संयुक्त सचिव, एम एस डी ई के प्रेरक संबोधन से हुआ।


इस कार्यशाला में सही भोजन के विषय पर चर्चा के दौरान इस बात की भी प्रशंसा की गयी कि किस प्रकार से भारत के पास इसके पूर्वजों से विरासत में संतुलित और सात्विक भोजन पर प्रचुर ज्ञान उपलब्ध है और किस प्रकार पश्चिमी देश भी आज भारत की संतुलित और सात्विक खानपान की शैली को अपना रहे हैं। इस अवसर पर पार्टिसिपेंट्स द्वारा फिजिकल और मेडिटेटिव योगा एक्सरसाइज़ को भी करके दिखाया गया जो सम्पूर्ण रूप से खुश रहने और स्वास्थ्य जीवन शैली के लिए बहुत ज़रूरी हैं। अंत में वर्कशॉप का एक बड़ा टेकअवे रहा सकारात्मक ऊर्जा के साथ आगे बढ़ना।  

सत्र की शुरुआत बॉडी कंपोजिशन एनालिसिस (बीसीए) से हुई जिसका आयोजन इन बॉडी द्वारा सभी के लिए किया गया और इसमें हर इंडिविजुअल की विस्तृत बीसीए रिपोर्ट जिसमे बीएमआई, डब्ल्यू एच आर, फैट मास, विस्क्रेल फैट आदि रिकॉर्ड किये गए और उनके बारे में बारीकी से सभी को बताया गया।  


इस अवसर पर डॉ. केके द्विवेदी ने स्वस्थ जीवन जीने के महत्व को साझा किया और स्वस्थ जीवनशैली को अपनाना जैसे किताबें पढ़ना, सोशल मीडिया से डिस्कनेक्ट करना, नियमित अंतराल पर परिवार के साथ समय बिताना, संतुष्ट रहना और योग करना आदि विषयों पर सभी को एड्रेस किया। इस मौके पर श्रीमती मोनिका बहल, सीईओ-बी एंड डब्ल्यूएसएससी ने सीजनल और घर के बने हुए सादे भोजन के फायदों के बारे में अपने विचार सबके सामने रखे और बताया कि कैसे सादा, सीजनल और घर पर पका हुआ भोजन न केवल हमारे स्वास्थ्य को बेहतर बनाता है बल्कि हमारी प्रतिरक्षा शक्ति को भी बढ़ाता है और हमें ना केवल बाहर से बल्कि अंदर से भी सुन्दर बनाता है।  

इस अवसर पर उपस्थित श्रीमती श्रुति पांडे, उप निदेशक एमएसडीई ने सभी को इन बेहद महत्वपूर्ण बातों को अपने जीवन में अमल में लाने की ज़रूरत पर ज़ोर दिया और कहा कि किस प्रकार ये बुनियादी आदतें जीवनशैली की गुणवत्ता में बढ़ोतरी करने के साथ-साथ कार्य स्थल पर खुश रहने में भी मददगार साबित होंगी।  इस अवसर पर एएसव्यासा यूनिवर्सिटी से आचार्य रविंद्रा ने सभी को योग प्रैक्टिसेज को एक "वे ऑफ़ लाइफ" बताते हुए डेस्क टॉप योगा, वर्क आउट और तनाव रहित होने और एक सम्पूर्ण जीवन के लिए ध्यान करना सिखाया। इस अवसर पर बी एंड डब्ल्यू एस एस सी से अर्शी  रेहमान द्वारा स्किन केयर, हाथों और पैरों की देखभाल, बालों की देखभाल आदि के विषय में जानकारी और टिप्स शेयर किये गए।   


Comments

Most Popular

विज्ञान से लाभ-हानि

आधुनिक युग को 'विज्ञान का युग' कहा जाता है। आधुनिक जीवन में विज्ञान ने हर क्षेत्र में अद्भुत क्रांति उत्पन्न कर रखी है। इसने हमारे जीवन को सहज व सरल बना दिया है। विज्ञान ने मानव की सुख-सुविधा के अनेक साधन जुटाएँ हैं। टेलीफ़ोन, टेलीविजन, सिनेमा, वायुयान, टेलीप्रिंटर आदि विज्ञान के ही आविष्कार हैं। विद्युत के

प्रधानमंत्री मोदी ने किया एम्स नागपुर राष्ट्र को समर्पित

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज, 11 दिसंबर को एम्स नागपुर राष्ट्र को समर्पित किया। प्रधानमंत्री ने नागपुर एम्स परियोजना मॉडल का निरीक्षण भी किया और इस अवसर पर प्रदर्शित माइलस्टोन प्रदर्शनी गैलरी का अवलोकन किया।

 संघर्ष जितना अधिक होगा, संवेदना उतनी ही अधिक छुएगीः ऊषा किरण खान

साहित्य आजतक के मंचपर अंतिम दिन 'ये जिंदगी के मेले' सेशन में देशकी जानी मानी लेखिकाओं ने साहित्य, लेखन और मौजूदा परिदृश्य पर बातें कीं. इनमें लेखिका उपन्यासकार डॉ. सूर्यबाला, लेखिका ममताकालिया, लेखिका ऊषाकिरण खान शामिल हुईं. 

 प्रधानमंत्री मोदी ने नागपुर रेलवे स्टेशन से वंदे भारत एक्सप्रेस को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 11 दिसंबर को नागपुर रेलवे स्टेशन से नागपुर और बिलासपुर को जोड़ने वाली वंदे भारत एक्सप्रेस को झंडी दिखाकर रवाना किया। प्रधानमंत्री ने वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन के डिब्बों का निरीक्षण किया और ऑनबोर्ड सुविधाओं का जायजा लिया। उन्होंने नागपुर और अजनी रेलवे स्टेशनों की विकास योजनाओं का भी जायजा लिया।

चितरंजन त्रिपाठी बने राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय-NSD के नए निदेशक

आखिरकार राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय- NSD को स्थायी निदेशक चितरंजन त्रिपाठी के रूप में मिल गया है। संस्कृति मंत्रालय के अंतर्गत भारत सरकार की स्वायत्त संस्था राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय विश्व पटल पर रंगमंच के लिए स्थापित रंग संस्था है। चितरंजन त्रिपाठी एनएसडी ते 12 वें निदेशक हैं। अच्छी बात यह है कि वे यहां के 9वें स्नातक भी हैं, जिन्होंने निदेशक का पद भार सम्भाला है। श्री त्रिपाठी राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय के 1996 बैच के स्नातक हैं।