Skip to main content

ब्यूटी और वेलनेस सेक्टर स्किल काउंसिल की ओर से होलिस्टिक वैलनेस वर्कशॉप का आयोजन

समग्र रूप से वेलनेस प्राप्त करने और बढ़ावा देने के दृष्टिकोण के साथ ब्यूटी और वेलनेस सेक्टर स्किल काउंसिल (बी एंड डब्ल्यू एस एस सी ) द्वारा कौशल विकास मंत्रालय  के अधिकारियों के लिए एक 360* वेलनेस कार्यशाला  का आयोजन किया गया। इस कार्यशाला का उद्देश्य होलिस्टिक लाइफ्स्टाइल पर जानकारी देना और अवेयरनेस क्रिएट करते हुए होलिस्टिक अप्रोच के साथ स्वस्थ जीवनशैली अपनाने के लिए प्रेरित करना था।  


इस अवसर पर डॉ. केके द्विवेदी, संयुक्त सचिव, एमएसडीई, श्रीमती मोनिका बहल, सीईओ-बी एंड डब्ल्यूएसएससी,  श्रीमती श्रुति पांडेय, उप निदेशक एमएसडीई और एएसव्यासा यूनिवर्सिटी से आचार्य रविंद्रा ने अपने संबोधन से लोगों को लाभान्वित किया।


इस वर्कशॉप के अंतर्गत स्वस्थ जीवनशैली और वेलनेस के लिए ज़रूरी महत्वपूर्ण विषयों पर जानकारी दी गयी जिनमे अच्छी खानपान की आदतें, योग का स्वास्थ्य के लिए महत्त्व, ध्यान लगाने का महत्त्व और सही तरीका और व्यस्त होने के साथ-साथ खुद का ध्यान रखने की आवश्यकता पर भी विशेष जोर दिया गया। इसके साथ ही सटीक टिप्स भी शेयर किये गए।  

जीवनशैली में सही संतुलन बनाये रखने के लिए अच्छी आदतों पर विस्तार से चर्चा भी इस वर्कशॉप का एक प्रमुख विषय रहा। इस वर्कशॉप का उद्घाटन श्री केके द्विवेदी, संयुक्त सचिव, एम एस डी ई के प्रेरक संबोधन से हुआ।


इस कार्यशाला में सही भोजन के विषय पर चर्चा के दौरान इस बात की भी प्रशंसा की गयी कि किस प्रकार से भारत के पास इसके पूर्वजों से विरासत में संतुलित और सात्विक भोजन पर प्रचुर ज्ञान उपलब्ध है और किस प्रकार पश्चिमी देश भी आज भारत की संतुलित और सात्विक खानपान की शैली को अपना रहे हैं। इस अवसर पर पार्टिसिपेंट्स द्वारा फिजिकल और मेडिटेटिव योगा एक्सरसाइज़ को भी करके दिखाया गया जो सम्पूर्ण रूप से खुश रहने और स्वास्थ्य जीवन शैली के लिए बहुत ज़रूरी हैं। अंत में वर्कशॉप का एक बड़ा टेकअवे रहा सकारात्मक ऊर्जा के साथ आगे बढ़ना।  

सत्र की शुरुआत बॉडी कंपोजिशन एनालिसिस (बीसीए) से हुई जिसका आयोजन इन बॉडी द्वारा सभी के लिए किया गया और इसमें हर इंडिविजुअल की विस्तृत बीसीए रिपोर्ट जिसमे बीएमआई, डब्ल्यू एच आर, फैट मास, विस्क्रेल फैट आदि रिकॉर्ड किये गए और उनके बारे में बारीकी से सभी को बताया गया।  


इस अवसर पर डॉ. केके द्विवेदी ने स्वस्थ जीवन जीने के महत्व को साझा किया और स्वस्थ जीवनशैली को अपनाना जैसे किताबें पढ़ना, सोशल मीडिया से डिस्कनेक्ट करना, नियमित अंतराल पर परिवार के साथ समय बिताना, संतुष्ट रहना और योग करना आदि विषयों पर सभी को एड्रेस किया। इस मौके पर श्रीमती मोनिका बहल, सीईओ-बी एंड डब्ल्यूएसएससी ने सीजनल और घर के बने हुए सादे भोजन के फायदों के बारे में अपने विचार सबके सामने रखे और बताया कि कैसे सादा, सीजनल और घर पर पका हुआ भोजन न केवल हमारे स्वास्थ्य को बेहतर बनाता है बल्कि हमारी प्रतिरक्षा शक्ति को भी बढ़ाता है और हमें ना केवल बाहर से बल्कि अंदर से भी सुन्दर बनाता है।  

इस अवसर पर उपस्थित श्रीमती श्रुति पांडे, उप निदेशक एमएसडीई ने सभी को इन बेहद महत्वपूर्ण बातों को अपने जीवन में अमल में लाने की ज़रूरत पर ज़ोर दिया और कहा कि किस प्रकार ये बुनियादी आदतें जीवनशैली की गुणवत्ता में बढ़ोतरी करने के साथ-साथ कार्य स्थल पर खुश रहने में भी मददगार साबित होंगी।  इस अवसर पर एएसव्यासा यूनिवर्सिटी से आचार्य रविंद्रा ने सभी को योग प्रैक्टिसेज को एक "वे ऑफ़ लाइफ" बताते हुए डेस्क टॉप योगा, वर्क आउट और तनाव रहित होने और एक सम्पूर्ण जीवन के लिए ध्यान करना सिखाया। इस अवसर पर बी एंड डब्ल्यू एस एस सी से अर्शी  रेहमान द्वारा स्किन केयर, हाथों और पैरों की देखभाल, बालों की देखभाल आदि के विषय में जानकारी और टिप्स शेयर किये गए।   


Comments

Most Popular

सद्भावना ट्रस्ट लखनऊ में महिला दिवस समारोह एवं लीडरशिप बिल्डिंग सर्टिफिकेशन कार्यक्रम

सद्भावना ट्रस्ट, 2009 से लखनऊ शहर की बस्तियों में ज़रूरतमंद समुदाय के साथ काम रही हैं। संस्था विशेषकर लड़कियों और महिलाओं के साथ सामाजिक मुद्दे पर नज़रिया निर्माण करके उन्हें नेतृत्व में लाने का काम करती हैं। साथ ही युवा महिलाओं को तकनीकि कौशल का हुनर देते हुये उनको सशक्तीकरण एवं आत्मनिर्भर बनने के लिए प्रोत्साहित करती हैं।

झारखंड का आदिवासी समाज और भूमि का उत्तराधिकार!

यूं तो झारखंड के आदिवासी समाज में औरतों की स्थिति, अन्य समाज की स्त्रियो की तुलना में पुरुष से संपत्ति के अधिकार की हो, तो ये उन सारी महिलाओं से पिछडी है जो अन्य क्षेत्रों में इनका अनुकरण करती है। आपको यह जानकर विस्मय होगा कि राज्य के जनजातीय समाज में महिलाओं को अचल संपत्ति में कोई वंशानुक्रम का अधिकार नहीं दिया जाता है। वर्तमान युग में, जब लैंगिक समानता का विषय विश्व भर में जोरों से चर्चा में है, यह अति अफसोसनाक है कि प्रदेश की आदिवासी महिलाओं को प्रथागत कानून के तहत भूमि के उत्तराधिकार से वंचित रखा गया है। छोटानागपुर काश्तकारी अधिनियम, 1908 कि धारा 7 एवं 8 में इस बात का उल्लेख है कि आदिवासी समाज में जमीन का उत्तराधिकार सिर्फ पुरुष वंश में ही किया जा सकता है। अर्थात, समाज की औरतों को इसका कतई अधिकार नहीं। हालांकि अधिनियम कि एक अन्य धारा पर गौर किया जाय तो यह मालूम होता  है कि यादि आदिवासी समाज में भूमि का हस्तांतरण, भेंट अथवा विनिमय किया जाना हो तो इसके लिए वंशानुगत पुरूष अथवा ‘अन्य ‘ योग्य है। जहां एक तरफ संथालपरगना के इलाके में ‘तानसेन जोम’ की परंपरा हैं, वही दूसरी तरफ संथालपरगना का

 अटल काव्यांजलि में जुटेंगे देश के दिग्गज कवि

पिछले कई वर्षों की भांति भारतीय राजनीति के पुरोधा युगपुरुष हम सभी के प्रेरणा स्रोत, भारत रत्न पूर्व प्रधानमंत्री श्रधेय अटल बिहारी वाजपेई जी की जन्मजयंती की पूर्व संध्या पर दिनांक 24 दिसंबर 2022 को सायंकाल काल 5:00 बजे से 8.00 बजे तक दिल्ली के कनॉट प्लेस स्थित एनडीएमसी कन्वेंशन हॉल में एक भव्य "अटल काव्यांजलि" का आयोजन नीरज स्मृति न्यास द्वारा किया जा रहा है।

दिल्ली में हुआ फिल्म ‘थैंक गॉड’ का प्रमोशन

अभिनेता सिद्धार्थ मल्होत्रा ​​और अभिनेत्री रकुल प्रीत सिंह अपनी आने वाली फिल्म ‘थैंक गॉड’ का प्रमोशन करने दिल्ली पहुंचे। यह कार्यक्रम नई दिल्ली के पीवीआर प्लाजा में आयोजित किया गया था। फिल्म 25 अक्टूबर 2022 को रिलीज होगी।

 प्रधानमंत्री मोदी ने नागपुर रेलवे स्टेशन से वंदे भारत एक्सप्रेस को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 11 दिसंबर को नागपुर रेलवे स्टेशन से नागपुर और बिलासपुर को जोड़ने वाली वंदे भारत एक्सप्रेस को झंडी दिखाकर रवाना किया। प्रधानमंत्री ने वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन के डिब्बों का निरीक्षण किया और ऑनबोर्ड सुविधाओं का जायजा लिया। उन्होंने नागपुर और अजनी रेलवे स्टेशनों की विकास योजनाओं का भी जायजा लिया।