Skip to main content

इरफान खान के निधन पर राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय ने जताया शोक

फिल्म अभिनेता इरफान खान का बुधवार, 29 अप्रैल को निधन हो गया। मुंबई के कोकिलाबेन अस्पताल में उन्होंने 54 साल की उम्र में अंतिम सांस ली। इरफान काफी लंबे समय से बीमार थे। इरफान खान के निधन पर राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय (NSD) के प्रभारी निदेशक प्रो. सुरेश शर्मा ने शोक प्रकट किया है। प्रो. सुरेश शर्मा ने कहा कि आज राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय ने अपने परिवार के एक अत्यंत मेधावी और प्रतिभावान सदस्य को तो खोया ही है, ये भारतीय कला और सिने जगत के लिए भी एक अपूर्णीय क्षति है। इरफान खान की पत्नी सुतापा सिकदर विद्यालय में उनकी सहपाठी थीं। दुख की इस घड़ी में शोक संतप्त परिवार को हम भावपूर्ण श्रद्धांजलि प्रेषित करते हैं।

उन्होंने कहा कि अन्तर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त अभिनेता इरफान राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय के सन् 1987 के स्नातक थे। उन्होंने यहां से अभिनय विशेषज्ञता में अपना प्रशिक्षण पूरा किया। अपने छात्र जीवन के दौरान इरफान द्वारा अभिनीत कुछ महत्वपूर्ण प्रस्तुतियां थीं कार्लो गोल्डोनी कृत द फ़ैन, मैक्सिम गोर्की का नाटक लोअर डेप्थस, ज्यां आनुई का लड़ाकू मुर्ग़ा तथा रूसी नाटककार की रचना ऐसेंट ऑफ़ फ्यूजियामा। सभी प्रस्तुतियों में आपका अभिनय अद्वितीय था। पद्म श्री से सम्मानित इरफ़ान राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय के उन गिने चुने अभिनेताओं में से थे जिन्होंने बतौर अभिनेता अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त की अनेक भारतीय व विदेशी फ़िल्मों में बेहतरीन अभिनय किया।

Comments

Most Popular

विज्ञान से लाभ-हानि

आधुनिक युग को 'विज्ञान का युग' कहा जाता है। आधुनिक जीवन में विज्ञान ने हर क्षेत्र में अद्भुत क्रांति उत्पन्न कर रखी है। इसने हमारे जीवन को सहज व सरल बना दिया है। विज्ञान ने मानव की सुख-सुविधा के अनेक साधन जुटाएँ हैं। टेलीफ़ोन, टेलीविजन, सिनेमा, वायुयान, टेलीप्रिंटर आदि विज्ञान के ही आविष्कार हैं। विद्युत के

प्रधानमंत्री मोदी ने किया एम्स नागपुर राष्ट्र को समर्पित

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज, 11 दिसंबर को एम्स नागपुर राष्ट्र को समर्पित किया। प्रधानमंत्री ने नागपुर एम्स परियोजना मॉडल का निरीक्षण भी किया और इस अवसर पर प्रदर्शित माइलस्टोन प्रदर्शनी गैलरी का अवलोकन किया।

 संघर्ष जितना अधिक होगा, संवेदना उतनी ही अधिक छुएगीः ऊषा किरण खान

साहित्य आजतक के मंचपर अंतिम दिन 'ये जिंदगी के मेले' सेशन में देशकी जानी मानी लेखिकाओं ने साहित्य, लेखन और मौजूदा परिदृश्य पर बातें कीं. इनमें लेखिका उपन्यासकार डॉ. सूर्यबाला, लेखिका ममताकालिया, लेखिका ऊषाकिरण खान शामिल हुईं. 

 प्रधानमंत्री मोदी ने नागपुर रेलवे स्टेशन से वंदे भारत एक्सप्रेस को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 11 दिसंबर को नागपुर रेलवे स्टेशन से नागपुर और बिलासपुर को जोड़ने वाली वंदे भारत एक्सप्रेस को झंडी दिखाकर रवाना किया। प्रधानमंत्री ने वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन के डिब्बों का निरीक्षण किया और ऑनबोर्ड सुविधाओं का जायजा लिया। उन्होंने नागपुर और अजनी रेलवे स्टेशनों की विकास योजनाओं का भी जायजा लिया।

चितरंजन त्रिपाठी बने राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय-NSD के नए निदेशक

आखिरकार राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय- NSD को स्थायी निदेशक चितरंजन त्रिपाठी के रूप में मिल गया है। संस्कृति मंत्रालय के अंतर्गत भारत सरकार की स्वायत्त संस्था राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय विश्व पटल पर रंगमंच के लिए स्थापित रंग संस्था है। चितरंजन त्रिपाठी एनएसडी ते 12 वें निदेशक हैं। अच्छी बात यह है कि वे यहां के 9वें स्नातक भी हैं, जिन्होंने निदेशक का पद भार सम्भाला है। श्री त्रिपाठी राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय के 1996 बैच के स्नातक हैं।