Skip to main content

तम्बाकू नियंत्रण में उत्कृष्ट कार्य के लिए सीड्स को मिला अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार

विश्व स्वास्थ्य संगठन  (WHO) ने तम्बाकू नियंत्रण के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य के लिए "सोसिओ  इकनोमिक एंड एजुकेशनल डेवलपमेंट सोसाइटी (सीड्स)" को इस वर्ष का विश्व तम्बाकू निषेध दिवस पुरस्कार देने का फैसला किया है। विश्व तम्बाकू निषेध दिवस के अवसर पर WHO दुनिया के चुनिंदा संस्थाओं और व्यक्तियों को प्रतिवर्ष तम्बाकू नियंत्रण के क्षेत्र में महत्वपूर्ण योगदान के लिए सम्मानित करता है। 

राष्ट्रीय स्तर की सामाजिक संस्था सीड्स बिहार और झारखण्ड में तम्बाकू नियंत्रण के क्षेत्र में काम करती है। सीड्स पिछले एक दशक से तम्बाकू नियंत्रण कार्यक्रम के संचालन में राज्य सरकार को सहयोग दे रही है। सीड्स ने सरकारी, गैर सरकारी संस्था, मीडिया सहित सभी हितधारकों के साथ मिलकर तम्बाकू नियंत्रण हेतु जबरदस्त माहौल तैयार करते हुए दोनों राज्यों में तम्बाकू नियंत्रण अधिनियम (कोटपा 2003) के अनुपालन में महत्वपूर्ण भूमिका अदा किया है। सीड्स के प्रयास से दोनों राज्यों में पान मसाला,  गुटखा, इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट एवं अवैध हुक्का पर पूर्ण प्रतिबन्ध लगाया गया है।


सीड्स के प्रयास से बिहार और झारखण्ड में तम्बाकू सेवन करने वालों की संख्या में काफी कमी आई है। ग्लोबल एडल्ट टोबैको सर्वे (GATS 2017) के आंकड़ों के मुताबिक पिछले आठ वर्षों में बिहार में तम्बाकू सेवन करने वालों की संख्या 53.5% से घट कर 25.9% हो गया है, जबकि झारखण्ड में यह संख्या 50.1% से घटकर 38.9% पर आ गया है।

बिहार सरकार के प्रधान सचिव संजय कुमार ने WHO द्वारा SEEDS को पुरस्कृत  किये जाने पर ख़ुशी जाहिर करते हुए कहा कि पिछले एक दशक से सीड्स बिहार और झारखंड में जमीनी स्तर पर तंबाकू नियंत्रण कार्यक्रम के कार्यान्वयन में राज्य सरकार के लिए एक विश्वसनीय साथी की भूमिका में है। दोनों राज्यों में तंबाकू के उपयोग में भारी कमी SEEDS के प्रयासों का गवाह है। मुझे खुशी है कि WHO ने वर्ल्ड नो टोबैको डे अवार्ड (WNTD 2020) के लिए SEEDS का चयन किया है। संजय कुमार ने बताया कि तम्बाकू नियंत्रण के क्षेत्र में  सीड्स के द्वारा किये गए कार्यों  से प्रभावित होकर सीड्स के कार्यपालक निदेशक दीपक मिश्रा को मुख्य सचिव की अध्यक्षता में गठित राज्य तम्बाकू नियंत्रण समन्यवय  समिति का सदस्य भी मनोनीत किया है। साथ ही भारत सरकार के स्वस्थ्य मंत्रालय ने दीपक मिश्रा को केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव की अध्यक्षता में  “नशा मुक्ति अभियान”हेतु गठित टास्क फोर्स का सदस्य भी नामित किया है।

ग्लोबल तंबाकू नियंत्रण विशेषज्ञ और लूथर टेरी पुरस्कार विजेता श्रीमती डॉ मीरा आगी ने कहा, “बिहार और झारखंड में तंबाकू के उपयोग में गिरावट के कारण बड़े पैमाने पर दीर्घकालिक स्वास्थ्य लाभ होंगे। राज्य सरकार और सिविल सोसाइटी के साथ सीड्स  की साझेदारी ने जमीनी स्तर की अच्छी प्रथाओं को विकसित किया है और इन्होने अन्य राज्यों के अनुसरण के लिए  एक अच्छा मॉडल बनाया हैं। डॉ मीरा ने कहा कि सीड्स का यह  प्रयास तम्बाकू के उपयोग को कम करने और युवाओं एवं  कमजोर लोगों खासकर महिलाओं की रक्षा करने में भी मदद करेंगी।

प्रोफेसर के श्रीनाथ रेड्डी पब्लिक हेल्थ फाउंडेशन ऑफ इंडिया (PHFI) के प्रेसिडेंट ने कहा कि बिहार और झारखंड में तंबाकू सेवन में आई कमी SEEDS के उल्लेखनीय प्रतिबद्ध अभियानों के कारण संभव हो पाया है। दोनों राज्यों में चबाने वाले तंबाकू के उपयोग में आई गिरावट सीड्स द्वारा किये गए कार्यों में विशेष रूप से सराहनीय है। प्रोफेसर  रेड्डी के मुताबिक सीड्स के कार्यपालक निदेशक दीपक मिश्रा का समर्पित, मेहनती और रणनीतिक नेतृत्व इस सफलता के पीछे प्रेरक शक्ति रहा है। डब्ल्यूएचओ (WHO) पुरस्कार उनके अनुकरणीय नेतृत्व की पहचान को और मजबूत करता है। हालांकि, जो लोग जानते हैं वे भारत के तंबाकू नियंत्रण आंदोलन के लिए श्री मिश्रा द्वारा लाए गए ऊर्जा और उत्कृष्टता की सराहना करेंगे और उन्हें सलाम करेंगे।

 

Comments

Most Popular

अभिनेता ऋषि कपूर को श्रद्धांजलि

फिल्म अभिनेता ऋषि कपूर का 30 अप्रैल को मुंबई में कैंसर से निधन हो गया। बुधवार को सांस लेने में तकलीफ की वजह से उन्हें मुंबई के एक अस्पताल में भर्ती करवाया गया था। ऋषि‌ कपूर पिछले साल सितंबर महीने में न्यूयॉर्क से कैंसर का इलाज कराके मुंबई लौटे थे।

ईमानदारी की श्रेष्ठता

अजीब स्वभाव है मानव का! हमारी भले ही ईमान से जान पहचान ना हो, पर हम चाहते हैं कि हमारे संपर्क में आने वाले प्रत्येक व्यक्ति ईमानदार हों। व्यापार में, व्यवहार में , साहित्य में या संसार में सभी जगह ईमानदारी की मांग है।

प्रकृति का सुहाना मोड़

सड़कों पर सन्नाटा, दफ्तरों, कारखानों और सावर्जनिक स्थानों पर पड़े ताले से भले ही मानव जीवन में ठहराव आ गया है, लेकिन लॉकडाउन के बीच प्रकृति एक नयी ताजगी महसूस कर रही है। हवा, पानी और वातावरण साफ हो रहे हैं। हम इंसानों के लिए कुछ समय पहले तक ये एक सपने जैसा था। इन दिनों प्रकृति की एक अलग ही खूबसूरती देखने को मिल रही हैं जो वर्षों पहले दिखाई देती थी।

लॉकडाउन में तनाव से बचने के उपाय

कोरोना वायरस को लेकर आए दिन आ रही खबरों से लोग ना सिर्फ परेशान हो रहे हैं, बल्कि तनाव में भी आ रहे हैं। इसे दूर करने के लिए इन टिप्स को अपनाएं और परिवार में खुशियां बांटने का प्रयास करें।

कोरोना संकट के समय में सतर्कता और सावधानी से करें निवेश

आज हर तरफ कोरोना वायरस की चर्चा है। देश में लॉकडाउन 50 दिन से आगे बढ़ चुका है। सभी तरह के कारोबार और आर्थिक गतिविधियों में एक तरह से बंदी है।