Skip to main content

धरती का सबसे छोटा बच्चा!

काका उदास थे। उदासी उनके पास कोई पड़ा कारण नहीं था। बदलती आबोहवा से जब भी परेशानी होती है, उदासी उनके चेहरे पर बैठ जाती है। जब कोई चिड़िया गीत गाती हुई फुर्र से उड़ती है या कोई वृक्ष तेज हवा में घूमने लगता है, तब जाकर उनका चेहरा सामान्य हो पाता है। वे बड़ी देर से चुप बैठे थे। जो व्यक्ति खुद में उतर रहा हो या सामने किसी दृश्य को टटोल रहा हो, उसे टोकना अच्छी बात नहीं है। मौन में भी मजे है।

मैं कभी-कभी सोचने लगती हूं कि पृथ्वी पर चिड़िया कब आयी होगी। हठात काका का मौन टूटा। वे मुझसे पूछ रहे थे कि तुम्हें क्या लगता है, पृथ्वी पर मानव पहले आया होगा और बहुत दिनों के बाद जब वह बोर होने लगा होगा, तब चिड़िया बनायी गयी होगी! मुझे चुप देख कहने लगे कि मनुष्य के पास चिड़िया बनाने का कोई हुनर नहीं है। इतने उपकरण और होशियार हो जाने के बाद, अगर आज भी मानव चिड़िया बनाने बैठे तो असफलता ही हाथ लगेगी। इस बात से यह साबित होता है कि मानव बाद में आया होगा, चिड़िया पहले आयी होगी।

वे कहने लगे कि वृक्ष चिड़िया का घर तो होता ही है, साथ ही उनका जीवन भी होता है। पृथ्वी पर पहले वृक्षों को लगाया गया होगा कि चिड़िया आयी होगी, फिर उन्होंने अपने लिए वृक्ष लगाये होंगे। मानव वृक्ष लगा सकता है, लेकिन वह उसका बीज कहां से लाता। पहले बीज फेंक कर उसे पनपने दिया गया होगा और जब पौधे पेड़ बन गये होंगे, तब हाल पर गीत गाने के लिए चिड़िया को उतार दिया गया होगा।

यह सब कहते काका को कुछ और याद आ गया। वे क्षण भर रुके और फिर पूछने लगे कि धरती पर नदियां कब बनायी गयी होगी। जब मनुष्य उतर गया होगा और उन्हें प्यास लगी होगी, तब शायद नदियां बनायी गयी हो। नहीं ऐसा तो बिलकुल भी नहीं हुआ होगा। बीज फेंकने से पहले और चिड़िया को उतारने से पहले ही पानी के बारे में सोच लिया गया होगा। वे कहने लगे कि क्रम कुछ इस तरह का होगा कि पृथ्वी बनाकर पहले नदियों की व्यवस्था की गयी होगी। फिर वृक्ष को उतारा गया होगा। जब वृक्षों और नदियों में तालमेल हो गया होगा, तब चिड़िया को छोड़ दिया गया होगा। तरह-तरह के पशुओं को उतार दिया गया होगा। फिर कुछ दिन इंतजार करने के बाद यह परखा गया होगा कि सबने सबके साथ संबंध प्रगाढ़ कर लिये हैं अथवा नहीं, तब मनुष्य को उतारने के बारे में सोचा गया होगा।

मनुष्य पृथ्वी ग्रह पर सबसे बाद में इन सबका सबसे छोटा बच्चा बनाकर भेजा गया होगा, ताकि वह सब चीजों का ध्यान रखें। लेकिन, वह बड़ा होकर आज अपने इन पूर्वजों को भूल गया है। शायद इसीलिए धरती इन पूर्वजों की उपेक्षा को भूल गया है। शायद इसीलिए धरती इन पूर्वजों की उपेक्षा के कारण ही दिन-प्रतिदिन उदास और कमजोर होती जा रही है।



-भावना भारती

Comments

Post a Comment

Most Popular

अभिनेता ऋषि कपूर को श्रद्धांजलि

फिल्म अभिनेता ऋषि कपूर का 30 अप्रैल को मुंबई में कैंसर से निधन हो गया। बुधवार को सांस लेने में तकलीफ की वजह से उन्हें मुंबई के एक अस्पताल में भर्ती करवाया गया था। ऋषि‌ कपूर पिछले साल सितंबर महीने में न्यूयॉर्क से कैंसर का इलाज कराके मुंबई लौटे थे।

ईमानदारी की श्रेष्ठता

अजीब स्वभाव है मानव का! हमारी भले ही ईमान से जान पहचान ना हो, पर हम चाहते हैं कि हमारे संपर्क में आने वाले प्रत्येक व्यक्ति ईमानदार हों। व्यापार में, व्यवहार में , साहित्य में या संसार में सभी जगह ईमानदारी की मांग है।

प्रकृति का सुहाना मोड़

सड़कों पर सन्नाटा, दफ्तरों, कारखानों और सावर्जनिक स्थानों पर पड़े ताले से भले ही मानव जीवन में ठहराव आ गया है, लेकिन लॉकडाउन के बीच प्रकृति एक नयी ताजगी महसूस कर रही है। हवा, पानी और वातावरण साफ हो रहे हैं। हम इंसानों के लिए कुछ समय पहले तक ये एक सपने जैसा था। इन दिनों प्रकृति की एक अलग ही खूबसूरती देखने को मिल रही हैं जो वर्षों पहले दिखाई देती थी।

लॉकडाउन में तनाव से बचने के उपाय

कोरोना वायरस को लेकर आए दिन आ रही खबरों से लोग ना सिर्फ परेशान हो रहे हैं, बल्कि तनाव में भी आ रहे हैं। इसे दूर करने के लिए इन टिप्स को अपनाएं और परिवार में खुशियां बांटने का प्रयास करें।

कोरोना संकट के समय में सतर्कता और सावधानी से करें निवेश

आज हर तरफ कोरोना वायरस की चर्चा है। देश में लॉकडाउन 50 दिन से आगे बढ़ चुका है। सभी तरह के कारोबार और आर्थिक गतिविधियों में एक तरह से बंदी है।