Skip to main content

अजब-गजब से गीत!

कभी-कभी आप सुबह-सुबह ही कोई गाना सुन लें तो वह पूरा दिन आपके जेहन पर हावी रहता है। लेकिन उन गीतों का क्या, जिनके बोलो का कोई सीधा अर्थ ही नहीं निकलता फिर भी वो हमारी जबान पर चढ़ जाते हैं। अगर ऐसा नहीं है, तो गीतों से होनेवाले संचार का कोई मतलब नहीं रहेगा। वाकई ये गानों की दुनिया एकदम निराली है। क्या आपने कभी सोचा है कि किसी शब्द का कोई अर्थ न हो, फिर भी गानों में उनका इस्तेमाल होता है। मै कोई पहेली नहीं बुझा रही हूं, आपने कई ऐसे गाने सुने होंगे, जिसके कुछ बोलो का कोई मतलब नहीं होता है, लेकिन गानों के लिए ऐसे बोल जरूरी होते हैं।
किशोर कुमार का वो गाना याद करिए ‘ईनाम मीना डीका, डाई डम नीका’ किसी शब्द का मतलब समझ में आया? फिर भी ऐसे गाने जब भी बजते हैं, हमारे कदम थिरकने लगाते हैं। अब इस तरह के गाने से ये सबक तो मिलता है कि इस जिंदगी में कोई चीज बेकार नहीं है, बस इस्तेमाल करने का तरीका आना चाहिए। ये हमारे गीतकार की रचनात्मकता ही है कि वे गानों के साथ लगातार प्रयोग करते आये हैं। कभी धुन को शब्द में ढाल देते हैं और कभी ऐसे शब्दों को गीत में डाल देते हैं कि हम गुनगुना उठते हैं। फिल्म ‘कमीने’ का ‘डेन टणेन’ धुन को शब्द बनाने का बेहतरीन प्रयास है। इस तरह के गाने के शब्दों का कोई अर्थ भले ही न हो, लेकिन ये संदेश देने में सफल रहते हैं।
 
डांस की मस्ती को ‘ रंभा हो हो हो’ जैसे गीतों से बेहतर नहीं समझा जा सकता है। शब्दों का काम गानों की बोली में भावना को डालना होता है। हम हवा को देख नहीं सकते, सिर्फ महसूस कर सकते हैं। गीतकार जब भावनाओं को नये तरीके से महसूस कराना चाहता है, तो वह इस तरह के शब्दों का सहारा लेता है, लेकिन यह काम संगीतकार के सहयोग के बिना नहीं हो सकता है।
 
जिंदगी में भी अगर मेहनत सही दिशा में की जाये तभी सफल होती है और हर काम खुद करने की कोशिश भी नहीं करनी चाहिए। जिंदगी में कितना कुछ है, जो हम महसूस कर सकते हैं, लेकिन व्यक्त नहीं कर सकते और इन भावनाओं को व्यक्त करने के लिए जब इन अजब गजब से शब्दों का सहारा लेकर कोई गीत रच दिया जाता है, तो ये अर्थहीन शब्द भी अर्थवान हो जाते हैं।

छई छपा छई गीत का इससे सुंदर वर्णन क्या हो सकता है। गानों में इस तरह के प्रयोग की शुरूआत जंगली फिल्म से हुई. आप अभी तक ‘याहू’ को नहीं भूले होंगे और ये सिलसिला आज भी बदस्तूर जारी है। जिंदगी भी तो कभी एक सी नहीं रहती, गाने भी हमारी जिंदगी के साथ बदलते रहते हैं। क्यों न गानों की इस बदलती दुनिया का जश्न मनाया जाये, क्योंकि ये अजब-गजब गाने अब हमारी जिंदगी का हिस्सा है।

-भावना भारती

Comments

Post a Comment

Most Popular

अभिनेता ऋषि कपूर को श्रद्धांजलि

फिल्म अभिनेता ऋषि कपूर का 30 अप्रैल को मुंबई में कैंसर से निधन हो गया। बुधवार को सांस लेने में तकलीफ की वजह से उन्हें मुंबई के एक अस्पताल में भर्ती करवाया गया था। ऋषि‌ कपूर पिछले साल सितंबर महीने में न्यूयॉर्क से कैंसर का इलाज कराके मुंबई लौटे थे।

ईमानदारी की श्रेष्ठता

अजीब स्वभाव है मानव का! हमारी भले ही ईमान से जान पहचान ना हो, पर हम चाहते हैं कि हमारे संपर्क में आने वाले प्रत्येक व्यक्ति ईमानदार हों। व्यापार में, व्यवहार में , साहित्य में या संसार में सभी जगह ईमानदारी की मांग है।

प्रकृति का सुहाना मोड़

सड़कों पर सन्नाटा, दफ्तरों, कारखानों और सावर्जनिक स्थानों पर पड़े ताले से भले ही मानव जीवन में ठहराव आ गया है, लेकिन लॉकडाउन के बीच प्रकृति एक नयी ताजगी महसूस कर रही है। हवा, पानी और वातावरण साफ हो रहे हैं। हम इंसानों के लिए कुछ समय पहले तक ये एक सपने जैसा था। इन दिनों प्रकृति की एक अलग ही खूबसूरती देखने को मिल रही हैं जो वर्षों पहले दिखाई देती थी।

लॉकडाउन में तनाव से बचने के उपाय

कोरोना वायरस को लेकर आए दिन आ रही खबरों से लोग ना सिर्फ परेशान हो रहे हैं, बल्कि तनाव में भी आ रहे हैं। इसे दूर करने के लिए इन टिप्स को अपनाएं और परिवार में खुशियां बांटने का प्रयास करें।

कोरोना संकट के समय में सतर्कता और सावधानी से करें निवेश

आज हर तरफ कोरोना वायरस की चर्चा है। देश में लॉकडाउन 50 दिन से आगे बढ़ चुका है। सभी तरह के कारोबार और आर्थिक गतिविधियों में एक तरह से बंदी है।