Skip to main content

अजब-गजब से गीत!

कभी-कभी आप सुबह-सुबह ही कोई गाना सुन लें तो वह पूरा दिन आपके जेहन पर हावी रहता है। लेकिन उन गीतों का क्या, जिनके बोलो का कोई सीधा अर्थ ही नहीं निकलता फिर भी वो हमारी जबान पर चढ़ जाते हैं। अगर ऐसा नहीं है, तो गीतों से होनेवाले संचार का कोई मतलब नहीं रहेगा। वाकई ये गानों की दुनिया एकदम निराली है। क्या आपने कभी सोचा है कि किसी शब्द का कोई अर्थ न हो, फिर भी गानों में उनका इस्तेमाल होता है। मै कोई पहेली नहीं बुझा रही हूं, आपने कई ऐसे गाने सुने होंगे, जिसके कुछ बोलो का कोई मतलब नहीं होता है, लेकिन गानों के लिए ऐसे बोल जरूरी होते हैं।
किशोर कुमार का वो गाना याद करिए ‘ईनाम मीना डीका, डाई डम नीका’ किसी शब्द का मतलब समझ में आया? फिर भी ऐसे गाने जब भी बजते हैं, हमारे कदम थिरकने लगाते हैं। अब इस तरह के गाने से ये सबक तो मिलता है कि इस जिंदगी में कोई चीज बेकार नहीं है, बस इस्तेमाल करने का तरीका आना चाहिए। ये हमारे गीतकार की रचनात्मकता ही है कि वे गानों के साथ लगातार प्रयोग करते आये हैं। कभी धुन को शब्द में ढाल देते हैं और कभी ऐसे शब्दों को गीत में डाल देते हैं कि हम गुनगुना उठते हैं। फिल्म ‘कमीने’ का ‘डेन टणेन’ धुन को शब्द बनाने का बेहतरीन प्रयास है। इस तरह के गाने के शब्दों का कोई अर्थ भले ही न हो, लेकिन ये संदेश देने में सफल रहते हैं।
 
डांस की मस्ती को ‘ रंभा हो हो हो’ जैसे गीतों से बेहतर नहीं समझा जा सकता है। शब्दों का काम गानों की बोली में भावना को डालना होता है। हम हवा को देख नहीं सकते, सिर्फ महसूस कर सकते हैं। गीतकार जब भावनाओं को नये तरीके से महसूस कराना चाहता है, तो वह इस तरह के शब्दों का सहारा लेता है, लेकिन यह काम संगीतकार के सहयोग के बिना नहीं हो सकता है।
 
जिंदगी में भी अगर मेहनत सही दिशा में की जाये तभी सफल होती है और हर काम खुद करने की कोशिश भी नहीं करनी चाहिए। जिंदगी में कितना कुछ है, जो हम महसूस कर सकते हैं, लेकिन व्यक्त नहीं कर सकते और इन भावनाओं को व्यक्त करने के लिए जब इन अजब गजब से शब्दों का सहारा लेकर कोई गीत रच दिया जाता है, तो ये अर्थहीन शब्द भी अर्थवान हो जाते हैं।

छई छपा छई गीत का इससे सुंदर वर्णन क्या हो सकता है। गानों में इस तरह के प्रयोग की शुरूआत जंगली फिल्म से हुई. आप अभी तक ‘याहू’ को नहीं भूले होंगे और ये सिलसिला आज भी बदस्तूर जारी है। जिंदगी भी तो कभी एक सी नहीं रहती, गाने भी हमारी जिंदगी के साथ बदलते रहते हैं। क्यों न गानों की इस बदलती दुनिया का जश्न मनाया जाये, क्योंकि ये अजब-गजब गाने अब हमारी जिंदगी का हिस्सा है।

-भावना भारती

Comments

Post a Comment

Most Popular

प्रवीण मिश्रा को दिल्ली में मिला मीडिया एक्सेलेंस का बेस्ट प्रोड्यूसर अवार्ड

बिहार के मधुबनी जिला में खजौली थाना के सुक्की गांव के प्रवीण कुमार मिश्रा को मीडिया में उत्कृष्ट योगदान के लिए मीडिया फेडरेशन ऑफ इंडिया के बेस्ट प्रोड्यूसर अवार्ड से सम्मानित किया गया है। प्रवीण कुमार मिश्रा को यह सम्मान मीडिया में उत्कृष्ट योगदान के लिए दिया गया है।

ईमानदारी की श्रेष्ठता

अजीब स्वभाव है मानव का! हमारी भले ही ईमान से जान पहचान ना हो, पर हम चाहते हैं कि हमारे संपर्क में आने वाले प्रत्येक व्यक्ति ईमानदार हों। व्यापार में, व्यवहार में , साहित्य में या संसार में सभी जगह ईमानदारी की मांग है।

कोरोना वायरस को भगाने के लिए ऐसे बढ़ाएं अपनी शक्ति

कोरोना वायरस से बचने के लिए जितना जरूरी लॉकडाउन है, उससे ज्यादा जरूरी है इस दौरान खान-पान का ध्यान रखना। प्रतिरोधक क्षमता यानी इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए डॉक्टर पौष्टिक आहार की सलाह दे रहे हैं। जिला अस्पताल के एसआईसी डॉक्टर एके सिंह ने बताया कि आयुष मंत्रालय की ओर से जारी निर्देश को अगर लोग मान ले तो निश्चित तौर पर लोगों की प्रतिरोधक क्षमता मजबूत मजबूत होगी। उन्होंने अपील की है कि लोग लॉकडाउन का पालन जरूर करें । आयुष मंत्रालय की सलाह- 1. पूरे दिन गर्म पानी पीते रहे। 2. नियमित रूप से कम से कम 30 मिनट तक योगासन, प्राणायाम और ध्यान करें। 3. घर में मौजूद हल्दी, जीरा, धनिया और लहसुन आदि मसालों का इस्तेमाल भोजन बनाने में जरूर करें। 4. जिन लोगों की प्रतिरोधक क्षमता कम है, वह चवनप्राश का सेवन करें। 5. तुलसी, दालचीनी, कालीमिर्च, सोंठ पाउडर और मुनक्के (नहीं है तो सूखी अदरक को पीसकर चूर्ण बना लें) से बनी काली चाय को दिन में एक से दो बार पिएं। 6. चाय में चीनी के बजाय गुड़ का उपयोग करें। इससे बेहतर बनाने के लिए नींबू के रस भी मिला सकते हैं। 7. सुबह और शाम दोनों नथुनों में तेल या नारियल का तेल या फिर घ

झारखंड का आदिवासी समाज और भूमि का उत्तराधिकार!

यूं तो झारखंड के आदिवासी समाज में औरतों की स्थिति, अन्य समाज की स्त्रियो की तुलना में पुरुष से संपत्ति के अधिकार की हो, तो ये उन सारी महिलाओं से पिछडी है जो अन्य क्षेत्रों में इनका अनुकरण करती है। आपको यह जानकर विस्मय होगा कि राज्य के जनजातीय समाज में महिलाओं को अचल संपत्ति में कोई वंशानुक्रम का अधिकार नहीं दिया जाता है। वर्तमान युग में, जब लैंगिक समानता का विषय विश्व भर में जोरों से चर्चा में है, यह अति अफसोसनाक है कि प्रदेश की आदिवासी महिलाओं को प्रथागत कानून के तहत भूमि के उत्तराधिकार से वंचित रखा गया है। छोटानागपुर काश्तकारी अधिनियम, 1908 कि धारा 7 एवं 8 में इस बात का उल्लेख है कि आदिवासी समाज में जमीन का उत्तराधिकार सिर्फ पुरुष वंश में ही किया जा सकता है। अर्थात, समाज की औरतों को इसका कतई अधिकार नहीं। हालांकि अधिनियम कि एक अन्य धारा पर गौर किया जाय तो यह मालूम होता  है कि यादि आदिवासी समाज में भूमि का हस्तांतरण, भेंट अथवा विनिमय किया जाना हो तो इसके लिए वंशानुगत पुरूष अथवा ‘अन्य ‘ योग्य है। जहां एक तरफ संथालपरगना के इलाके में ‘तानसेन जोम’ की परंपरा हैं, वही दूसरी तरफ संथालपरगना का

अच्छे स्वास्थ्य के लिए उचित आहार

मनुष्य का स्वास्थ्य इस बात पर निर्भर होता है कि उसका आहार कैसा है। यदि आहार संतुलित हो तो बेहतर है, परंतु यदि शरीर में किसी तत्व की कमी है तो संतुलित आहार भी उसके लिए उचित आहार नहीं होगा। इसके लिए आपको शरीर की जरूरतों के मुताबिक आहार लेना चाहिए। विदेशों में परामर्श के लिए डाइटिशियन होते हैं जो डॉक्टर के भांति स्वतंत्र रूप से प्रैक्टिस करते हैं, परंतु भारत में इस समय केवल बड़े हॉस्पिटल में ही आहार विशेषज्ञ होते हैं। स्वतंत्र प्रैक्टिस करने वाले आहार विशेषज्ञ केवल महानगरों में ही है। अगर आप डाइट के बारे किसी आम आदमी से पूछे तो उत्तर होगा कि पेट भर के खाओ और ठीक से पच जाए तो वही सही आहार है। अगर आप पूछे कि मोटापा कम करना है तो सीधा-साधा उत्तर मिलेगा कि कम खाओ और दबाकर काम करो। अपने आप वजन कम हो, छरहरा होना या बिना कमजोरी के वजन कम करना उतना आसान नहीं है, जितना आसान प्रतीत होता है, फिर भी यह कार्य कठिन भी नहीं है। प्रत्येक मनुष्य की शारीरिक क्षमता, पाचन शक्ति और जीवनशैली का भी आहार से सीधा संबंध होता है। इसलिए आहार का चुनाव करते समय इस बात का सदैव ध्यान रखें।। 1. प्रोटीनयुक्त भोजन करें: प