Skip to main content

अजब-गजब से गीत!

कभी-कभी आप सुबह-सुबह ही कोई गाना सुन लें तो वह पूरा दिन आपके जेहन पर हावी रहता है। लेकिन उन गीतों का क्या, जिनके बोलो का कोई सीधा अर्थ ही नहीं निकलता फिर भी वो हमारी जबान पर चढ़ जाते हैं। अगर ऐसा नहीं है, तो गीतों से होनेवाले संचार का कोई मतलब नहीं रहेगा। वाकई ये गानों की दुनिया एकदम निराली है। क्या आपने कभी सोचा है कि किसी शब्द का कोई अर्थ न हो, फिर भी गानों में उनका इस्तेमाल होता है। मै कोई पहेली नहीं बुझा रही हूं, आपने कई ऐसे गाने सुने होंगे, जिसके कुछ बोलो का कोई मतलब नहीं होता है, लेकिन गानों के लिए ऐसे बोल जरूरी होते हैं।
किशोर कुमार का वो गाना याद करिए ‘ईनाम मीना डीका, डाई डम नीका’ किसी शब्द का मतलब समझ में आया? फिर भी ऐसे गाने जब भी बजते हैं, हमारे कदम थिरकने लगाते हैं। अब इस तरह के गाने से ये सबक तो मिलता है कि इस जिंदगी में कोई चीज बेकार नहीं है, बस इस्तेमाल करने का तरीका आना चाहिए। ये हमारे गीतकार की रचनात्मकता ही है कि वे गानों के साथ लगातार प्रयोग करते आये हैं। कभी धुन को शब्द में ढाल देते हैं और कभी ऐसे शब्दों को गीत में डाल देते हैं कि हम गुनगुना उठते हैं। फिल्म ‘कमीने’ का ‘डेन टणेन’ धुन को शब्द बनाने का बेहतरीन प्रयास है। इस तरह के गाने के शब्दों का कोई अर्थ भले ही न हो, लेकिन ये संदेश देने में सफल रहते हैं।
 
डांस की मस्ती को ‘ रंभा हो हो हो’ जैसे गीतों से बेहतर नहीं समझा जा सकता है। शब्दों का काम गानों की बोली में भावना को डालना होता है। हम हवा को देख नहीं सकते, सिर्फ महसूस कर सकते हैं। गीतकार जब भावनाओं को नये तरीके से महसूस कराना चाहता है, तो वह इस तरह के शब्दों का सहारा लेता है, लेकिन यह काम संगीतकार के सहयोग के बिना नहीं हो सकता है।
 
जिंदगी में भी अगर मेहनत सही दिशा में की जाये तभी सफल होती है और हर काम खुद करने की कोशिश भी नहीं करनी चाहिए। जिंदगी में कितना कुछ है, जो हम महसूस कर सकते हैं, लेकिन व्यक्त नहीं कर सकते और इन भावनाओं को व्यक्त करने के लिए जब इन अजब गजब से शब्दों का सहारा लेकर कोई गीत रच दिया जाता है, तो ये अर्थहीन शब्द भी अर्थवान हो जाते हैं।

छई छपा छई गीत का इससे सुंदर वर्णन क्या हो सकता है। गानों में इस तरह के प्रयोग की शुरूआत जंगली फिल्म से हुई. आप अभी तक ‘याहू’ को नहीं भूले होंगे और ये सिलसिला आज भी बदस्तूर जारी है। जिंदगी भी तो कभी एक सी नहीं रहती, गाने भी हमारी जिंदगी के साथ बदलते रहते हैं। क्यों न गानों की इस बदलती दुनिया का जश्न मनाया जाये, क्योंकि ये अजब-गजब गाने अब हमारी जिंदगी का हिस्सा है।

-भावना भारती

Comments

Post a Comment

Most Popular

सभ्यता संवाद पत्रिका का हुआ ई-लोकार्पण, भारतीय संचार परंपरा पर हुई चर्चा

आज जब संचार माध्यमों के चाल-चरित्र को लेकर लगातार विमर्श किया जा रहा है, ऐसे में भारत की मीडिया कैसी है? किस तरह की होनी चाहिए? संचार की भारतीय अवधारणाएं क्या हैं? इन विषयों के समेटे हुए सभ्यता अध्ययन केन्द्र की त्रैमासिक शोध पत्रिका सभ्यता संवाद के ‘सभ्यतागत संघर्ष और संचार की भारतीय अवधारणा'पर केंद्रित अंका का ई-लोकार्पण हिमाचल प्रदे श केन्द्रीय विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. कुलदीप अग्निहोत्री,आरएसएस के सह-प्रचार प्रमुख नरेंद्र ठाकुर, भारतीय जनसंचार संस्थान, नई दिल्ली के महानिदेशक प्रो. संजय द्विवेदी, आरएसएस के सह-प्रचार प्रमुख नरेंद्र ठाकुर, अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राजकुमार भाटिया, वरिष्ठ पत्रकार उमेश चतुर्वेदी, वरिष्ठ पत्रकार अनिल सौमित्र, हंसराज कॉलेज, दिल्ली विश्वविद्यालय की प्राचार्या डॉ. रमा सहित देश भर के संचार प्रेमियों की उपस्थिति में हुआ। इस अवसर पर बोलते हुए वक्ताओं ने कहा कि भारत की संचार-परंपरा लोकमंगलकारी रही है एवं भारतीय सभ्यता ऐसे वक्त में भी संवाद की बात करती है, जब संघर्ष अवश्यंभावी दिख रहा हो। कार्यक्रम की अध्यक्षता

अच्छे स्वास्थ्य के लिए उचित आहार

मनुष्य का स्वास्थ्य इस बात पर निर्भर होता है कि उसका आहार कैसा है। यदि आहार संतुलित हो तो बेहतर है, परंतु यदि शरीर में किसी तत्व की कमी है तो संतुलित आहार भी उसके लिए उचित आहार नहीं होगा। इसके लिए आपको शरीर की जरूरतों के मुताबिक आहार लेना चाहिए। विदेशों में परामर्श के लिए डाइटिशियन होते हैं जो डॉक्टर के भांति स्वतंत्र रूप से प्रैक्टिस करते हैं, परंतु भारत में इस समय केवल बड़े हॉस्पिटल में ही आहार विशेषज्ञ होते हैं। स्वतंत्र प्रैक्टिस करने वाले आहार विशेषज्ञ केवल महानगरों में ही है। अगर आप डाइट के बारे किसी आम आदमी से पूछे तो उत्तर होगा कि पेट भर के खाओ और ठीक से पच जाए तो वही सही आहार है। अगर आप पूछे कि मोटापा कम करना है तो सीधा-साधा उत्तर मिलेगा कि कम खाओ और दबाकर काम करो। अपने आप वजन कम हो, छरहरा होना या बिना कमजोरी के वजन कम करना उतना आसान नहीं है, जितना आसान प्रतीत होता है, फिर भी यह कार्य कठिन भी नहीं है। प्रत्येक मनुष्य की शारीरिक क्षमता, पाचन शक्ति और जीवनशैली का भी आहार से सीधा संबंध होता है। इसलिए आहार का चुनाव करते समय इस बात का सदैव ध्यान रखें।। 1. प्रोटीनयुक्त भोजन करें: प

कोरोना वायरस को भगाने के लिए ऐसे बढ़ाएं अपनी शक्ति

कोरोना वायरस से बचने के लिए जितना जरूरी लॉकडाउन है, उससे ज्यादा जरूरी है इस दौरान खान-पान का ध्यान रखना। प्रतिरोधक क्षमता यानी इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए डॉक्टर पौष्टिक आहार की सलाह दे रहे हैं। जिला अस्पताल के एसआईसी डॉक्टर एके सिंह ने बताया कि आयुष मंत्रालय की ओर से जारी निर्देश को अगर लोग मान ले तो निश्चित तौर पर लोगों की प्रतिरोधक क्षमता मजबूत मजबूत होगी। उन्होंने अपील की है कि लोग लॉकडाउन का पालन जरूर करें । आयुष मंत्रालय की सलाह- 1. पूरे दिन गर्म पानी पीते रहे। 2. नियमित रूप से कम से कम 30 मिनट तक योगासन, प्राणायाम और ध्यान करें। 3. घर में मौजूद हल्दी, जीरा, धनिया और लहसुन आदि मसालों का इस्तेमाल भोजन बनाने में जरूर करें। 4. जिन लोगों की प्रतिरोधक क्षमता कम है, वह चवनप्राश का सेवन करें। 5. तुलसी, दालचीनी, कालीमिर्च, सोंठ पाउडर और मुनक्के (नहीं है तो सूखी अदरक को पीसकर चूर्ण बना लें) से बनी काली चाय को दिन में एक से दो बार पिएं। 6. चाय में चीनी के बजाय गुड़ का उपयोग करें। इससे बेहतर बनाने के लिए नींबू के रस भी मिला सकते हैं। 7. सुबह और शाम दोनों नथुनों में तेल या नारियल का तेल या फिर घ

नहीं रहे बॉलीवुड स्टार इरफान खान

बॉलीवुड एक्टर इरफान खान का बुधवार, 29 अप्रैल को मुंबई के एक अस्पताल में निधन हो गया। वह 53 साल के थे। इरफान को न्योरेंडॉक्राइन कैंसर था। एक दिन पहले ही उन्हें कोकिलाबेन धीरुभाई अंबानी अस्पताल में भर्ती करवाया गया था। इरफान अपने पीछे अपनी पत्नी सुतापा और 2 बेटे बबिल और अयान को छोड़ गए हैं। अभी हाल में 4 दिन पहले उनकी अम्मी सतीदा बेगम का निधन जयपुर में हो गया था। इरफान खान का जन्म 9 जनवरी 1949 को जयपुर, राजस्थान में हुआ था। उनका पूरा नाम शहाबजादे इरफान अली खान था। 23 फरवरी, 1995 को उन्होंने सुतपा सिकदर के साथ शादी की। वह 85 से ज्यादा फिल्मों में अभिनय कर चुके थे। उनमें से कुछ फिल्म हैं- हिंदी मीडियम, ब्लैकमेल, द लंचबॉक्स, अंग्रेजी मीडियम, पिकू, करीब-करीब सिंगल, बिल्लू, मदारी, पान सिंह तोमर, हैदर और कारवां। इरफान खान हॉलीवुड में भी जाना-पहचाना नाम था। उन्होंने द वारियर, द नमसेक, रोग जैसी फिल्मों के जरिए अपनी अभिनय क्षमता का लोहा मानवाया था। सन 2011 में उन्हें पद्मश्री से सम्मनित किया गया था। 2012 में इरफान खान को फिल्म पान सिंह तोमर में अभिनय के लिए श्रेष्ठ अभिनेता का राष्ट्रीय फिल्म पुरस

अपनों से करते हैं प्यार तो करें मास्क का प्रयोग: विभय कुमार झा

राजधानी पटना में कोरोना संक्रमण का खतरा बढता ही जा रहा है। राज्य सरकार ने एहतियात के तौर पर लाॅकडाउन किया हुआ है। स्वयंसेवी संस्था अभ्युदय के राष्ट्रीय अध्यक्ष विभय कुमार झा ने आज पटना के कई क्षेत्रों में गरीबों और जरूरतमंदों के बीच मास्क का वितरण किया। इस दौरान उनके साथ कई दूसरे साथी भी थे। सभी ने दो गज की दूरी सहित कोरोना से बचाव के लिए तमाम उपायों का पालन किया। मास्क वितरण करने के दौरान अभ्युदय के राष्ट्रीय अध्यक्ष सह युवा भाजपा नेता विभय कुमार झा ने सभी को कोरोना से बचाव के उपायों को भी बताया। इसमें सोशल डिस्टेनशिंग को सबसे जरूरी बताया।  विभय कुमार झा ने कहा कि यदि आप लोग स्वयं से और अपने परिवार से सही मायने में प्रेम करते हैं, तो इस समय मास्क का जरूर प्रयोग करें। बहुत आवश्यक होने पर भी घरों से बाहर निकलें। सरकार की ओर से भी जो दिशा निर्देश दिया गया है। स्वास्थ्य सेवाओं के विशेषज्ञ और डाॅक्टर्स जो सलाह देते हैं, उसका अक्षरशः पालन करना चाहिए। विभय कुमार झा ने कहा कि यह समय संयम और धैर्य का है। भले ही यह बुरा समय हो, लेकिन हम सब मिलकर इसका सामना करेंगे। समाज म