Skip to main content

ईमानदारी की श्रेष्ठता

अजीब स्वभाव है मानव का! हमारी भले ही ईमान से जान पहचान ना हो, पर हम चाहते हैं कि हमारे संपर्क में आने वाले प्रत्येक व्यक्ति ईमानदार हों। व्यापार में, व्यवहार में , साहित्य में या संसार में सभी जगह ईमानदारी की मांग है। मालिक चाहता है कि उसका नौकर ईमानदार हो। प्रत्येक व्यक्ति चाहता है कि उसके साथी ईमानदार मिले। पर क्या खुद को कभी टर्टोलेंगे। बेईमान लोग तो काले धन पर होने वाले सर्जिकल स्ट्राइक से भी आधा हो जाते हैं, परंतु ईमानदार लोग ऐसे फैसले से लाभ प्राप्त करते हैं।

ईमानदारी के चलते ही दरिद्र होते हुए भी यदि हम गहरी नींद सो सकते हैं तो हमारी ईमानदारी का फल है। ईमान का अभाव होता है तो धन धान्य के ऊपर लौटने पर भी हमें आंसुओं में डूबे रहते हैं। जो व्यक्ति ईमानदारी से मेहनत करता है और उसी का फल खाने में विश्वास करता है वह सुख व आनंद से जीता है।

यह कथन शत प्रतिशत सत्य है कि बेईमानी के लाख रुपए में भी वह ताकत नहीं, जो इमानदारी के एक रुपए में है। बेईमानी के महल में वह शांति कहां जो ईमानदारी की झोपड़ी में है। पहले में पीड़ा बनकर प्रकट होगी तो दूसरे में किसी का आशीर्वाद प्रकाश बनकर चमक उठता है।

ईमानदारी से ईश्वर ने इंसान को तीन ऐसे कीमती उपहार दिए हैं। जिस का सही प्रयोग कर कोई मनुष्य बड़ा वैज्ञानिक या फिर जादूगर बना है और जिस मनुष्य ने इसका सही उपयोग नहीं किया है उनके माथे पर नाकामयाबी का भारी कलंक है। वह तीन कीमती उपहार जो कि हमारे जीवन का गूढ़ रहस्य है-  स्मरणशक्ति, मनोयोग, और मानसिक शक्ति है। इन उपहारों को पाने की आवश्यकता नहीं होती बल्कि इस धरती में अपना पहला कदम रखते ही यह तीन ईश्वरी भेंट हमारी निजी संपदा बन जाते है।

अतः अपनी छोटी उम्र से ही बेकार की बातें या चिंतन में अपना कीमती समय ना गवां कर समय के सही मूल्य को पहचान कर अपने लगन और अच्छे विचारों द्वारा इन तीन निजी ईश्वरीय भेटों का सदुपयोग करते हुए हमारे जीवन रूपी पंछी को उच्चता के शिखर पर पहुंच जाना चाहिए। अतः हमारी जीवन की नैया डोर को सागर में एक छोर से दूसरे छोर तक पहुंचाने के लिए स्मरण शक्ति मनोयोग और मानसिक शक्ति का सदुपयोग करते हुए हमें कर्म पर ध्यान रखना अति आवश्यक है।

मुंशी प्रेमचंद का कथन बिल्कुल सही है कि,“ईमानदार मनुष्य स्वभावत: स्पष्टभाषी होते हैं, उन्हें अपनी बातों में नमक मिर्च लगाने की जरूरत नहीं होती”
                                                      
-प्रेरणा यादव,
एमिटी यूनिवर्सिटी
कोलकाता

Comments

Post a Comment

Most Popular

प्रवीण मिश्रा को दिल्ली में मिला मीडिया एक्सेलेंस का बेस्ट प्रोड्यूसर अवार्ड

बिहार के मधुबनी जिला में खजौली थाना के सुक्की गांव के प्रवीण कुमार मिश्रा को मीडिया में उत्कृष्ट योगदान के लिए मीडिया फेडरेशन ऑफ इंडिया के बेस्ट प्रोड्यूसर अवार्ड से सम्मानित किया गया है। प्रवीण कुमार मिश्रा को यह सम्मान मीडिया में उत्कृष्ट योगदान के लिए दिया गया है।

कोरोना वायरस को भगाने के लिए ऐसे बढ़ाएं अपनी शक्ति

कोरोना वायरस से बचने के लिए जितना जरूरी लॉकडाउन है, उससे ज्यादा जरूरी है इस दौरान खान-पान का ध्यान रखना। प्रतिरोधक क्षमता यानी इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए डॉक्टर पौष्टिक आहार की सलाह दे रहे हैं। जिला अस्पताल के एसआईसी डॉक्टर एके सिंह ने बताया कि आयुष मंत्रालय की ओर से जारी निर्देश को अगर लोग मान ले तो निश्चित तौर पर लोगों की प्रतिरोधक क्षमता मजबूत मजबूत होगी। उन्होंने अपील की है कि लोग लॉकडाउन का पालन जरूर करें । आयुष मंत्रालय की सलाह- 1. पूरे दिन गर्म पानी पीते रहे। 2. नियमित रूप से कम से कम 30 मिनट तक योगासन, प्राणायाम और ध्यान करें। 3. घर में मौजूद हल्दी, जीरा, धनिया और लहसुन आदि मसालों का इस्तेमाल भोजन बनाने में जरूर करें। 4. जिन लोगों की प्रतिरोधक क्षमता कम है, वह चवनप्राश का सेवन करें। 5. तुलसी, दालचीनी, कालीमिर्च, सोंठ पाउडर और मुनक्के (नहीं है तो सूखी अदरक को पीसकर चूर्ण बना लें) से बनी काली चाय को दिन में एक से दो बार पिएं। 6. चाय में चीनी के बजाय गुड़ का उपयोग करें। इससे बेहतर बनाने के लिए नींबू के रस भी मिला सकते हैं। 7. सुबह और शाम दोनों नथुनों में तेल या नारियल का तेल या फिर घ

झारखंड का आदिवासी समाज और भूमि का उत्तराधिकार!

यूं तो झारखंड के आदिवासी समाज में औरतों की स्थिति, अन्य समाज की स्त्रियो की तुलना में पुरुष से संपत्ति के अधिकार की हो, तो ये उन सारी महिलाओं से पिछडी है जो अन्य क्षेत्रों में इनका अनुकरण करती है। आपको यह जानकर विस्मय होगा कि राज्य के जनजातीय समाज में महिलाओं को अचल संपत्ति में कोई वंशानुक्रम का अधिकार नहीं दिया जाता है। वर्तमान युग में, जब लैंगिक समानता का विषय विश्व भर में जोरों से चर्चा में है, यह अति अफसोसनाक है कि प्रदेश की आदिवासी महिलाओं को प्रथागत कानून के तहत भूमि के उत्तराधिकार से वंचित रखा गया है। छोटानागपुर काश्तकारी अधिनियम, 1908 कि धारा 7 एवं 8 में इस बात का उल्लेख है कि आदिवासी समाज में जमीन का उत्तराधिकार सिर्फ पुरुष वंश में ही किया जा सकता है। अर्थात, समाज की औरतों को इसका कतई अधिकार नहीं। हालांकि अधिनियम कि एक अन्य धारा पर गौर किया जाय तो यह मालूम होता  है कि यादि आदिवासी समाज में भूमि का हस्तांतरण, भेंट अथवा विनिमय किया जाना हो तो इसके लिए वंशानुगत पुरूष अथवा ‘अन्य ‘ योग्य है। जहां एक तरफ संथालपरगना के इलाके में ‘तानसेन जोम’ की परंपरा हैं, वही दूसरी तरफ संथालपरगना का

कोलकाता के प्रमुख पर्यटन स्थल

लगभग 50 लाख से भी ज्यादा आबादी वाला शहर कोलकाता, जनसंख्या के हिसाब से भारत का तीसरा सबसे बड़ा शहर है।