Skip to main content

कोविड युग में फिर से उभरने का अवसर मिला है आयुर्वेद को

जाने-माने आयुर्वेद विशेषज्ञ और प्रेरक वक्ता, आचार्य मनीष ने कोविड-19 के प्रसार को रोकने के लिए एक सामाजिक अभियान की शुरुआत की है। आचार्य मनीष आयुर्वेद के सदियों पुराने उपचारों का उपयोग 5000 साल पुराने वैदिक विज्ञान को बढ़ावा देने के लिए करते हैं।
कोविड-19 से लड़ने के लिए आयुर्वेदिक चिकित्सकों द्वारा आचार्य मनीष के मार्गदर्शन में गहन शोध किया गया और एक प्रतिरक्षा बढ़ाने वाला पैक - शुद्धि हर्बल इम्युनिटी पैकेज तैयार किया गया। इस पैक और विशेष कॉविड रोधी औषधियों का उपयोग करके आचार्य मनीष ने ऐसे जरूरतमंद लोगों की मदद करने की एक पहल शुरू की, जो कोरोनो वायरस के इलाज के लिए महंगी दवाओं का खर्च उठाने में असमर्थ हैं। एक हेल्पलाइन नंबर 82731-83731 शुरू किया गया, जिस पर देश भर से कॉल आती हैं और इसके जरिये अब तक 500 से अधिक जरूरतमंद लोगों ने पैकेज व कस्टमाइज्ड औषधियां मंगवायी हैं, जो कि आयुष द्वारा प्रमाणित हैं।

आचार्य मनीष ने कहा, 'चूंकि यह महामारी पूरी दुनिया में फैली हुई है, जिसके चलते लाखों लोग अपनी नौकरी से हाथ धो चुके हैं। वायरस से संक्रमित ऐसे लोगों के पास अपनी चिकित्सा व उपचार के लिए पैसे नहीं बचे हैं। इसलिए हमने सामाजिक पहल के जरिये कोविड रोगियों को  एंटी-कोविड कॉम्बो मुफ्त में देने का निर्णय लिया। '

उन्होंने कहा, 'कॉम्बो में हमने तीन दवाएं शामिल की हैं- विष हर रस, 32 जड़ी-बूटियों वाली चाय और आयुष क्वाथ। विष हर रस में नीम और गिलोय जैसे तत्व प्रमुख हैं, जिनमें उच्च एंटीवायरल गुण होते हैं। चाय में 32 औषधीय जड़ी-बूटियां शामिल हैं जैसे इलायची, दालचीनी, जिनमें एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं, जबकि आयुष क्वाथ में तुलसी, काली मिर्च और शुन्थी होती है जो प्रतिरक्षा क्षमता बढ़ाने में मदद करती है। मुझे यह कहते हुए खुशी हो रही है कि कोविड-19 रोगियों में से कई ने हमारे प्रतिरक्षा बूस्टर पैक व अन्य दवाओं का सेवन किया, जिससे सिर्फ 3-4 दिनों में ही उनकी रिपोर्ट निगेटिव हो गयी। '

यहां यह बताना उचित होगा कि हमारी दवा से 3-4 दिनों में ही निगेटिव रिपोर्ट पाने वाले कई रोगियों ने अपने अनुभव के वीडियो हमें भेजे हैं और स्वस्थ जीवन शैली के लिए आयुर्वेद को अपनाने की वकालत की है।

जिन मरीजों को फायदा हुआ, वे न केवल दिल्ली एनसीआर से, बल्कि महाराष्ट्र, गुजरात, उत्तर प्रदेश, हरियाणा, छत्तीसगढ़, हिमाचल प्रदेश और पश्चिम बंगाल जैसे राज्यों से भी हैं। लाभार्थियों में कोविड जैसे लक्षणों वाले रोगियों के अलावा ऐसे लोग भी शामिल थे, जो कोरोना पॉजिटिव थे और इस रोग से मुक्ति चाहते थे। औषधियों के उपयोग से 100 से अधिक कोविड पॉजिटिव रोगी तीन दिन से एक सप्ताह के अंदर निगेटिव हो गये।

कोरोना ने जब भारत में प्रवेश किया, तब आचार्य मनीष ने केंद्र सरकार से कहा था कि आयुर्वेद की मदद से इस बीमारी को रोका जा सकता है। खुद प्रधानमंत्री मोदी ने भी घोषणा की थी कि आयुर्वेद की मदद से रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाकर कोरोना वायरस के संक्रमण को रोका जा सकता है।

'दुख की बात यह है कि भारत में आयुर्वेद का जन्म हुआ था, फिर भी ऐलोपैथी की तुलना में यहां इसे कम महत्व दिया गया। परंतु इसके लाभों के चलते, कोविड-19 का मुकाबला करने के लिए अब लोग आयुर्वेद की ओर लौट रहे हैं और इसे फिर से मान्यता मिल रही है। कुछ ही समय में भारत में आयुर्वेद एक पसंदीदा उपचार प्रोटोकॉल बन जायेगा, ' आचार्य मनीष ने कहा।

आयुर्वेद को एक जीवनशैली के रूप में बढ़ावा देने के विचार से और भारत के स्वास्थ्य सेवा क्षेत्र में 'वोकल फॉर लोकल ' को हकीकत में बदलने के लिए, आचार्य मनीष ने 'शुद्धि आयुर्वेद ' हेतु एक महत्वाकांक्षी विस्तार योजना बनायी है। इसके तहत, चालू वर्ष के अंत तक 'शुद्धि आयुर्वेद ' के मौजूदा 105 क्लीनिकों के अलावा 200 से अधिक नये केंद्र स्थापित किए जाएंगे।

आचार्य मनीष ने चंडीगढ़ के पास ज़ीरकपुर में ' शुद्धि आयुर्वेद ' नामक एक आयुर्वेदिक क्लीनिक एवं अनुसंधान केंद्र की स्थापना की। शुद्धि आयुर्वेद के 105 क्लीनिक पूरे भारत में मौजूद हैं, जो मरीजों को सभी प्रकार की व्याधियों से निपटने के लिए आयुर्वेद अपनाने में मदद कर रहे हैं। दिल्ली एनसीआर में भी शुद्धि आयुर्वेद की अच्छी-खासी उपस्थिति है, जिसमें पांच क्लीनिक दिल्ली में, तीन गुरुग्राम में और एक-एक फरीदाबाद व नोएडा में है।

Comments

Most Popular

विज्ञान से लाभ-हानि

आधुनिक युग को 'विज्ञान का युग' कहा जाता है। आधुनिक जीवन में विज्ञान ने हर क्षेत्र में अद्भुत क्रांति उत्पन्न कर रखी है। इसने हमारे जीवन को सहज व सरल बना दिया है। विज्ञान ने मानव की सुख-सुविधा के अनेक साधन जुटाएँ हैं। टेलीफ़ोन, टेलीविजन, सिनेमा, वायुयान, टेलीप्रिंटर आदि विज्ञान के ही आविष्कार हैं। विद्युत के

प्रधानमंत्री मोदी ने किया एम्स नागपुर राष्ट्र को समर्पित

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज, 11 दिसंबर को एम्स नागपुर राष्ट्र को समर्पित किया। प्रधानमंत्री ने नागपुर एम्स परियोजना मॉडल का निरीक्षण भी किया और इस अवसर पर प्रदर्शित माइलस्टोन प्रदर्शनी गैलरी का अवलोकन किया।

 संघर्ष जितना अधिक होगा, संवेदना उतनी ही अधिक छुएगीः ऊषा किरण खान

साहित्य आजतक के मंचपर अंतिम दिन 'ये जिंदगी के मेले' सेशन में देशकी जानी मानी लेखिकाओं ने साहित्य, लेखन और मौजूदा परिदृश्य पर बातें कीं. इनमें लेखिका उपन्यासकार डॉ. सूर्यबाला, लेखिका ममताकालिया, लेखिका ऊषाकिरण खान शामिल हुईं. 

 प्रधानमंत्री मोदी ने नागपुर रेलवे स्टेशन से वंदे भारत एक्सप्रेस को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 11 दिसंबर को नागपुर रेलवे स्टेशन से नागपुर और बिलासपुर को जोड़ने वाली वंदे भारत एक्सप्रेस को झंडी दिखाकर रवाना किया। प्रधानमंत्री ने वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन के डिब्बों का निरीक्षण किया और ऑनबोर्ड सुविधाओं का जायजा लिया। उन्होंने नागपुर और अजनी रेलवे स्टेशनों की विकास योजनाओं का भी जायजा लिया।

चितरंजन त्रिपाठी बने राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय-NSD के नए निदेशक

आखिरकार राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय- NSD को स्थायी निदेशक चितरंजन त्रिपाठी के रूप में मिल गया है। संस्कृति मंत्रालय के अंतर्गत भारत सरकार की स्वायत्त संस्था राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय विश्व पटल पर रंगमंच के लिए स्थापित रंग संस्था है। चितरंजन त्रिपाठी एनएसडी ते 12 वें निदेशक हैं। अच्छी बात यह है कि वे यहां के 9वें स्नातक भी हैं, जिन्होंने निदेशक का पद भार सम्भाला है। श्री त्रिपाठी राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय के 1996 बैच के स्नातक हैं।