Skip to main content

अपनों से करते हैं प्यार तो करें मास्क का प्रयोग: विभय कुमार झा

राजधानी पटना में कोरोना संक्रमण का खतरा बढता ही जा रहा है। राज्य सरकार ने एहतियात के तौर पर लाॅकडाउन किया हुआ है। स्वयंसेवी संस्था अभ्युदय के राष्ट्रीय अध्यक्ष विभय कुमार झा ने आज पटना के कई क्षेत्रों में गरीबों और जरूरतमंदों के बीच मास्क का वितरण किया। इस दौरान उनके साथ कई दूसरे साथी भी थे। सभी ने दो गज की दूरी सहित कोरोना से बचाव के लिए तमाम उपायों का पालन किया। मास्क वितरण करने के दौरान अभ्युदय के राष्ट्रीय अध्यक्ष सह युवा भाजपा नेता विभय कुमार झा ने सभी को कोरोना से बचाव के उपायों को भी बताया। इसमें सोशल डिस्टेनशिंग को सबसे जरूरी बताया। 
विभय कुमार झा ने कहा कि यदि आप लोग स्वयं से और अपने परिवार से सही मायने में प्रेम करते हैं, तो इस समय मास्क का जरूर प्रयोग करें। बहुत आवश्यक होने पर भी घरों से बाहर निकलें। सरकार की ओर से भी जो दिशा निर्देश दिया गया है। स्वास्थ्य सेवाओं के विशेषज्ञ और डाॅक्टर्स जो सलाह देते हैं, उसका अक्षरशः पालन करना चाहिए। विभय कुमार झा ने कहा कि यह समय संयम और धैर्य का है। भले ही यह बुरा समय हो, लेकिन हम सब मिलकर इसका सामना करेंगे। समाज में सभी को जरूरत पडने पर एक दूसरे की सहायता के लिए तत्पर होना होगा। यही तो हमारा सामाजिक गुण भी है। इस दौरान अभ्युदय के कई साथी और कई भाजपा कार्यकर्ताओं ने भी अपना सहयोग दिया।

Comments

Most Popular

कोरोना से जुड़े अहम सवाल

आंकड़ों को दर्ज करने के मामले में भारतीय स्वास्थ्य प्रबंधन तंत्र कभी अच्छा नहीं रहा। बीमारियों के मामलों को दर्ज करने में पूर्वाग्रह की स्थिति रही है। यह स्थिति कोविड-19 महामारी में भी जारी है। उदाहरण के तौर पर तेलंगाना में छह डॉक्टर ने लिखा कि कैसे राज्य के कुल आंकड़ों में कोविड 19 से होनेवाली मौतों का जिक्र नहीं किया जा रहा है।

विष्णु भक्त नारद मुनि

भगवान विष्णु के परम भक्त नारद ब्रह्मा जी के पुत्र हैं। उन्होंने भगवान विष्णु की भक्ति और तपस्या की। नारद जी पर देवी सरस्वती की भी कृपा थी। उन्हें हर तरह की विद्या में महारत हासिल थी।

प्रकृति का सुहाना मोड़

सड़कों पर सन्नाटा, दफ्तरों, कारखानों और सावर्जनिक स्थानों पर पड़े ताले से भले ही मानव जीवन में ठहराव आ गया है, लेकिन लॉकडाउन के बीच प्रकृति एक नयी ताजगी महसूस कर रही है। हवा, पानी और वातावरण साफ हो रहे हैं। हम इंसानों के लिए कुछ समय पहले तक ये एक सपने जैसा था। इन दिनों प्रकृति की एक अलग ही खूबसूरती देखने को मिल रही हैं जो वर्षों पहले दिखाई देती थी।

ना धर्म देखा ना उम्र देखा, ना अमीर देखा और ना ही गरीब!

कोरोना महामारी से एक बात तो साफ हो गई कि प्रकृति ही सबसे बड़ा धर्म है। इसने किसी भी धर्म को अनदेखा नहीं किया और सब पर बराबर की मार की है। चाहे वह किसी भी धर्म का हो, अमीर हो या गरीब, कोरोना ने किसी को नहीं छोड़ा।

हॉलीवुड की टॉप 10 हॉरर मूवी

क्या आप को हॉरर फिल्में देखना बहुत पसंद हैं? और अगर वो हॉरर फिल्म अगर किसी सच्ची कहानी से प्रेरित हो