Skip to main content

मैथिली के लिए ऐतिहासिक दिन, विज्ञान की बातें भी होंगी इस भाषा में: अखिलेश झा

मैथिली भाषियों के लिए अब सहज और सरज भाषा में पुस्तकें प्रकाशित होंगी। उनके लिए पत्रिका, ब्लाॅग लेखन, टीवी-रेडियो कार्यक्रम का निर्माण होगा। इसके लिए विज्ञान प्रसार ने जो बीडा उठाया है, वह स्वागतयोग्य है। मिथिला ही नहीं, बल्कि देश और विदेश में रहने वाले मैथिलभाषियों के लिए यह ऐतिहासिक दिन है।

केंद्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय के अंतर्गत कार्यरत स्वायतशासी संस्था विज्ञान प्रसार ने ऐसा निर्णय लिया है। इसके लिए विज्ञान प्रसार के निदेशक डाॅ नकुल पराशर बधाई के पात्र हैं। यह कहना है केंद्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय के मुख्य लेखा नियंत्रक अखिलेश झा।  

श्री अखिलेश झा ने प्रस्ताव दिया कि विज्ञान प्रसार की ओर से जो पत्रिका प्रकाशित होंगी, उसका नाम "विज्ञान रत्नाकर" रखा जा सकता है। शुक्रवार को पृथ्वी भवन में विज्ञान प्रसार के मैथिली कोर कमिटी की पहली बैठक की अखिलेश झा अध्यक्षता कर रहे थे। उन्होंने कहा कि मिथिला मेधा और विज्ञान की धरती रही है। यहां का दर्शन विज्ञान आधारित रहा है। इसलिए आज हमारी और तमाम मैथिलभाषियों की जिम्मेदारी है कि वे अपने आने वाली पीढी को अपनी भाषा में बेहतर सामग्री उपलब्ध कराएं।

इस बैठक को संबोधित करते हुए विज्ञान प्रसार के निदेशक डाॅ नकुल पराशर ने कहा कि हमने कई भाषाओं में विज्ञान को लोकप्रिय बनाने के लिए काम किया है। हमें बेहद खुशी है कि अब हम मैथिली में यह प्रयास कर रहे हैं। सभी का बेहतर साथ और समन्वय मिला तो विज्ञान की दुनिया की बातें लोग मैथिली में देखेंगे, पढे़ेंगे और सुनेंगे। 

उन्होंने कहा कि हमारी योजना के अनुसार, विज्ञान तकनीक एवं नवाचार पर केन्द्रित न्यूजलेटर का प्रकाशन,  मौलिक रचनाओं से समृद्ध पुस्तकों का प्रकाशन, सोशल मीडिया पर मैथिली में विज्ञान के कार्यक्रम, मैथिली मे विज्ञान विषयों पर आधारित ब्लॉग लेखन, लघु फिल्म, वेब सिरीज का निर्माण,  इंडिया साइंस वायर पर उपलब्ध विज्ञान सामग्री का मैथिली में अनुवाद तथा विज्ञान प्रसार मे उपलब्ध  खिलौना एवं किट्स का मैथिली में रूपान्तरण आदि प्रस्तावित है।
बैठक के दौरान विज्ञान प्रसार के कपिल त्रिपाठी, मानवर्धन कंठ और आकाशवाणी के दिलीप झा ने कहा कि हम सब  लोगों में वैज्ञानिक दृष्टिकोण विकसित करने को  लेकर समर्पित है। अब तक विज्ञान प्रसार ने अंग्रेजी, हिंदी एवं उर्दू के अलावा बांग्ला, तमिल एवं मराठी भाषाओं में साइंस कम्युनिकेशन, पोपुलराइजेशन एवं आउटरीच के कार्यों को आगे बढ़ाया है। इस क्रम को आगे बढ़ाते हुए मैथिली में भी विज्ञान प्रसार का निर्णय लिया गया है। 

पहली कोर समिति की बैठक में प्रकाश झा, रोशन कुमार झा, सुभाष चन्द्र, संजीव सिन्हा, अशोक प्रियदर्शी, कणु प्रिया और पीएन सिंह उपस्थित थे। सभी ने इस संदर्भ में अपनी बातों को रखा।


 


Comments

Most Popular

शास्त्रीय संगीत से सजा ठुमरी उत्सव- दूसरे और तीसरे दिन भी मंच पर उतरेंगे प्रख्यात कलाकार

ठुमरी उत्सव साहित्य कला परिषद की ओर से आयोजित किये जाने वाले उत्सवो में से एक है। इस साल यह उत्सव काफी लंबे समय के बाद शुरू हुआ है। इस 3 दिवसीय संगीत कार्यक्रम की शुक्रवार को कमानी सभागार, मंडी हाउस में हुई, जो 28 अगस्त तक चलेगा।

ब्यूटी और वेलनेस सेक्टर स्किल काउंसिल की ओर से होलिस्टिक वैलनेस वर्कशॉप का आयोजन

समग्र रूप से वेलनेस प्राप्त करने और बढ़ावा देने के दृष्टिकोण के साथ ब्यूटी और वेलनेस सेक्टर स्किल काउंसिल (बी एंड डब्ल्यू एस एस सी ) द्वारा कौशल विकास मंत्रालय  के अधिकारियों के लिए एक 360* वेलनेस कार्यशाला  का आयोजन किया गया। इस कार्यशाला का उद्देश्य होलिस्टिक लाइफ्स्टाइल पर जानकारी देना और अवेयरनेस क्रिएट करते हुए होलिस्टिक अप्रोच के साथ स्वस्थ जीवनशैली अपनाने के लिए प्रेरित करना था।  

राम जन्म से सुबाहू वध की लीला का मंचन

देश-विदेश में लोकप्रिय लव कुश रामलीला कमेटी के मंच पर लीला मंचन से पूर्व विशेष अतिथि केंद्रीय राज्य कानून और न्याय मंत्री सत्य पाल सिंह बघेल के साथ लव कुश के प्रेसिडेंट अर्जुन कुमार और लीला के पदाधिकारियों ने प्रभु श्री राम की पूजा अर्चना की।

फिल्म 'आई एम गोना टेल गॉड एवरीथिंग' की स्क्रीनिंग पर पहुंचे सत्यपाल सिंह

संजय दत्त द्वारा प्रस्तुत और गुजरात में जन्मे अमेरिका में पले-बढ़े जय पटेल की हॉलीवुड शॉर्ट फिल्म 'आई एम गोना टेल गॉड एवरीथिंग' सारी दुनिया में चर्चा में है। फ़िल्म के सह निर्माता अभिषेक दुधैया हैं जिन्होंने अजय देवगन के साथ फ़िल्म भुज का निर्माण और निर्देशन किया था। दिल दहला देने वाली इस रीयलिस्टिक फ़िल्म की स्पेशल स्क्रीनिंग राजधानी दिल्ली में हुई, जहां चीफ गेस्ट के रूप में मुम्बई के पूर्व पुलिस कमिश्नर और भाजपा सांसद सत्यपाल सिंह उपस्थित रहे। सत्यपाल सिंह के अलावा यहां काफी गेस्ट्स आए जिन्हें निर्माता जय पटेल और अभिषेक दुधैया ने शॉल और ट्रॉफी देकर सम्मानित किया।

दिल्ली में प्रमोशन करने पहुंची मैग्नम ओपस ‘पीएस-1’ की टीम

डायरेक्टर मणिरत्नम की ड्रीम ‘पीएस-1’ फिल्म 30 सितंबर को रिलीज होने के लिए तैयार है। यह एक ऐतिहासिक फिक्शन फिल्म है और इस साल की सबसे बहुप्रतीक्षित फिल्मों में से एक है।