Skip to main content

रेड बुल स्‍पॉटलाइट के फाइनलिस्‍ट्स नई सीरीज में टाइटल के लिए करेंगे मुकाबला

भारत के सर्वश्रेष्‍ठ उभरते रैपर्स को ढूंढकर उनका करियर संवारने के लिए रेड बुल स्‍पॉटलाइट एक देशव्‍यापी टैलेंट खोज अभियान है, जिसकी वापसी पिछले साल के शुरुआती महीनों में हुई थी और जिसके क्‍वालिफायर्स देश के 15 शहरों— मुंबई, दिल्‍ली, बेंगलुरु, गुवाहाटी, हैदराबाद, चंडीगढ़, कोच्चि, इंदौर आदि के सिटी के थे।

इन क्वालिफायर्स ने एक वर्चुअल मुकाबले में एक-दूसरे का सामना किया था, लेकिन उनमें से महज आठ ही आगे बढ़ सके थे। लेकिन, चेन्‍नई से ए-गान, बेंगलुरु से लाउड साइलेंस, कोलकाता से एमसी हेडशॉट, चंडीगढ़ से सुपरमानिक, नोएडा से अलबेला, भुवनेश्‍वर से राइमिंग मैन, गोवा से ऋषि गोसावी और अहमदाबाद से सियाही जैसे ये आठ फाइनालिस्ट रैपर्स अब छह भागों की एक नई सीरीज में आपस में मुकाबला कर रहे हैं, जो 2 अप्रैल को एमएक्‍स प्‍लेयर पर फ्री में स्‍ट्रीम होगी और अंत में किसी एक को सर्वश्रेष्ठ रैपर के खिताब से नवाजा जाएगा। विजेता को फुल-लेंथ एलबम एवं म्‍यूजिक वीडियो में काम करने के साथ इनकी रिलीज एवं टूरिंग में सहयोग आदि का भी मौका मिलेगा।


यह सीरीज रेड बुल मीडिया हाउस और एमएक्‍स प्‍लेयर ने सुपारी स्‍टूडियोज के साथ मिलकर बनाया है जिसका निर्देशन निशा वासुदेवन ने किया है, जबकि इस सीरीज की मेजबानी दिल्‍ली की जोड़ी सीधेमौत ने की। बता दें कि फाइनालिस्‍ट्स रैपर ने इंडियन हिप-हॉप के सर्वश्रेष्‍ठ सितारों सोफिया अशरफ, नाइज़ी, डोपीडेलिक्‍ज़, सेज़ ऑन द बीट, और डेविल के संरक्षण में एक सप्‍ताह बिताते हुए वर्कशॉप्‍स और विशेष सेशन में भाग लेकर चुनौतियों का सामना किया। और, सप्‍ताह के अंत में आठों रैपर्स फिनाले में एक-दूसरे से भिड़े, जिसे फ्रिज़ोन प्रोडक्शंस ने प्रोड्यूस किया था।

इस शो के बारे में मेंटॉर और फाइनल के जज मुंबई के रैपर डी एमसी ने बताया, 'अगली पीढ़ी के रैपर्स को अपना सर्वश्रेष्‍ठ प्रदर्शन करते देखना बेहतरीन अनुभव रहा। सभी रैपर्स जबर्दस्‍त क्षमता वाले एवं प्रतिभाशाली हैं। यह अलग बात है कि विजेता कोई एक ही बन पाता है। लेकिन, यह कहने में हिचक नहीं कि इस यात्रा ने शो में शामिल सभी रैपर्स की कला की बेहतरी लाने के लिए उनमें व्यापक बदलाव लाया है और मुझे उम्‍मीद है कि वे भी इस महत्‍वपूर्ण बदलाव को स्वीकार करेंगे। रेड बुल स्‍पॉटलाइट जैसा मंच ऐसे युवा विजेताओं के लिए उम्‍मीद की किरण है। मेरे हिसाब से ऐसा कोई दूसरा शो नहीं है, जो अगली पीढ़ी को सिखाने और कलात्मक ज्ञान देने के लिए इतना फिक्रमंद है।'

देश में हिप-हॉप के सबसे बड़े नामों में से एक और फिनाले के फेलो जज डिवाइन ने कहा, 'फिनाले में प्रतिभा की व्‍यापकता देखकर मुझे सुखद आश्‍चर्य हुआ। रेड बुल कई अलग फॉर्मेट्स में संगीत और संस्‍कृति को सहयोग देता आ रहा है, ताकि प्रतिभा को ढूंढने में मदद मिल सके और उनका स्‍थायी करियर बनाने की दिशा में काम हो सके।'

Comments

Most Popular

झारखंड का आदिवासी समाज और भूमि का उत्तराधिकार!

यूं तो झारखंड के आदिवासी समाज में औरतों की स्थिति, अन्य समाज की स्त्रियो की तुलना में पुरुष से संपत्ति के अधिकार की हो, तो ये उन सारी महिलाओं से पिछडी है जो अन्य क्षेत्रों में इनका अनुकरण करती है। आपको यह जानकर विस्मय होगा कि राज्य के जनजातीय समाज में महिलाओं को अचल संपत्ति में कोई वंशानुक्रम का अधिकार नहीं दिया जाता है। वर्तमान युग में, जब लैंगिक समानता का विषय विश्व भर में जोरों से चर्चा में है, यह अति अफसोसनाक है कि प्रदेश की आदिवासी महिलाओं को प्रथागत कानून के तहत भूमि के उत्तराधिकार से वंचित रखा गया है। छोटानागपुर काश्तकारी अधिनियम, 1908 कि धारा 7 एवं 8 में इस बात का उल्लेख है कि आदिवासी समाज में जमीन का उत्तराधिकार सिर्फ पुरुष वंश में ही किया जा सकता है। अर्थात, समाज की औरतों को इसका कतई अधिकार नहीं। हालांकि अधिनियम कि एक अन्य धारा पर गौर किया जाय तो यह मालूम होता  है कि यादि आदिवासी समाज में भूमि का हस्तांतरण, भेंट अथवा विनिमय किया जाना हो तो इसके लिए वंशानुगत पुरूष अथवा ‘अन्य ‘ योग्य है। जहां एक तरफ संथालपरगना के इलाके में ‘तानसेन जोम’ की परंपरा हैं, वही दूसरी तरफ संथालपरगना का

गांधी जी के ग्राम स्वराज के सपने को साकार करना वक्त की जरूरतः डॉ पार्थ शाह

थिंकटैंक सेंटर फॉर सिविल सोसायटी के प्रेसिडेंट और इंडियन स्कूल ऑफ पब्लिक पॉलिसी के संस्थापक व डायरेक्टर डॉ पार्थ शाह ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के ग्राम स्वराज के उस सपने को साकार करने को वक्त की जरूरत बताया है जिसके केंद्र में गांव और लोग शामिल हों। उन्होंने कहा कि लोकतंत्र का मूल उद्देश्य लोकनीति निर्माण में लोक को शामिल करना है, लेकिन हमारे सिस्टम का दृष्टिकोण लोक को सहभागी मानने की बजाय उनके लिये बाध्यकारी नीतियां बनाने तक ही सिमट कर रह गया है।

पर्शियन रामायण की विरासत पर अंतर्राष्ट्रीय कार्यशाला संपन्न

"रामायण की सचित्र पर्शियन मैन्युस्क्रिप्ट्स" विषय पर एक कार्यशाला का आयोजन किया गया। अयोध्या शोध संस्थान के निदेशक डॉ लवकुश द्विवेदी के मुख्य आतिथ्य में आयोजित "रामायण की सचित्र पर्शियन मैन्युस्क्रिप्ट्स" विषय पर इंडोलोजी फाउंडेशन द्वारा आयोजित इस कार्यक्रम में मलेशिया से डॉ रामिन, ईरान से डॉ आमिर तथा मारिशस से शैलेन रामकिसुन शामिल हुए। भारत से पुरातत्वविद डॉ बीआर मणि एवं कला इतिहास के मर्मज्ञ प्रो दीनबंधु पांडेय समीक्षा पैनल में शामिल रहें।  

ईमानदारी की श्रेष्ठता

अजीब स्वभाव है मानव का! हमारी भले ही ईमान से जान पहचान ना हो, पर हम चाहते हैं कि हमारे संपर्क में आने वाले प्रत्येक व्यक्ति ईमानदार हों। व्यापार में, व्यवहार में , साहित्य में या संसार में सभी जगह ईमानदारी की मांग है।

अंतरराष्ट्रीय अग्रवाल सम्मेलन की कार्यकारिणी बैठक संपन्न

अंतर्राष्ट्रीय अग्रवाल सम्मेलन द्वारा आयोजित कार्य कारिणी समिति की बैठक का आयोजन मुबंई के अंधेरी वेस्ट में किया गया। इस बैठक में समिति द्वारा भविष्य में किए जाने वाले अनेक कार्यों की समीक्षा की गई तथा विशेष रुप से अग्रवाल समाज में वैवाहिक संबंधों के चयन की प्रक्रिया को किस तरह सुगम किया जाए इस पर विस्तार में चर्चा की गई।