Skip to main content

पर्शियन रामायण की विरासत पर अंतर्राष्ट्रीय कार्यशाला संपन्न

"रामायण की सचित्र पर्शियन मैन्युस्क्रिप्ट्स" विषय पर एक कार्यशाला का आयोजन किया गया। अयोध्या शोध संस्थान के निदेशक डॉ लवकुश द्विवेदी के मुख्य आतिथ्य में आयोजित "रामायण की सचित्र पर्शियन मैन्युस्क्रिप्ट्स" विषय पर इंडोलोजी फाउंडेशन द्वारा आयोजित इस कार्यक्रम में मलेशिया से डॉ रामिन, ईरान से डॉ आमिर तथा मारिशस से शैलेन रामकिसुन शामिल हुए। भारत से पुरातत्वविद डॉ बीआर मणि एवं कला इतिहास के मर्मज्ञ प्रो दीनबंधु पांडेय समीक्षा पैनल में शामिल रहें।  
कार्यक्रम की शुरुआत में संचालक ललित मिश्र ने भारत के संस्कृत राम एवं सुदूर पर्सिया अरब एवं इजरायल तक उनके कुलीन परिवारों में लोकप्रिय रामिन की पारसांस्कृतिक समरूपता पर प्रकाश डाला, सभी अतिथि विद्वानों का परिचय वरिष्ठ टीवी जर्नलिस्ट एवं प्रोड्यूसर प्रवीण मिश्र ने दिया जिसके पश्चात डॉ रामिन ने अपने प्रजेंटेशन की शुरुआत भारतीय परंपरा के अनुरूप दीप प्रज्वलन की स्लाइड के साथ की ।

उन्होंने पर्सिया एवं भारत कि सांस्कृतिक अन्तर्धारा को रेखांकित करते हुए बताया कि प्रधानमंत्री मोदी की ईरान यात्रा के दौरान राष्ट्रपति हसन रौहानी ने उन्हें पर्सियन रामायण की प्रति उपहार में प्रदान की थी।  

उन्होंने कहा कि अकबर ही नहीं अपितु उनकी मां हमीदा बानो बेगम, रहीम खाने खाना ने भी रामायण का सचित्र पर्सियन अनुवाद करवाया था जो अलग-अलग लाइब्रेरियों में सुरक्षित है। हमीदा बानो बेगम की रामायण में 56 चित्र तथा अकबर की रामायण में 130 चित्र हैं, इस तरह से अब तक रामायण के  सभी चौबीस पर्सियन अनुवाद की बारीक समीक्षा उन्होंने प्रस्तुत की। उन्होंने बताया कि अकबर ने चौबीस हजार संस्कृत की पांडुलिपियां एकत्रित की थी।

ईरान के सुपरसिद्ध कला इतिहासविद एवं इण्डोलाजिस्ट डॉ आमिर जेक्रगू ने स्वयं को ईरानी-भारतीय के रूप में प्रस्तुत करते हुए बताया कि वे पर्सियन रामायण की परंपरा को आगे बढ़ाते हुए एक हजार पृष्ठों की सचित्र रामायण निर्मित किया है जो कि प्रकाशन की प्रक्रिया में है। मारीशस से शामिल शैलेन रामकिसुन ने मारीशस की रामलीलाओं के आयोजन का पक्ष रखा।

कार्यक्रम का सिंहावलोकन करते हुए डॉ बीआर मणि ने कहा कि अकबर ने समय की आवश्यकता के अनुसार पर्सियन अनुवाद का सराहनीय कार्य किया, वहीं प्रो दीनबंध पांडेय ने समस्त स्रोतों का प्रयोग करते हुए रामायण के वैश्विक स्वरूप की स्थापना पर बल दिया।






Comments

Most Popular

शास्त्रीय संगीत से सजा ठुमरी उत्सव- दूसरे और तीसरे दिन भी मंच पर उतरेंगे प्रख्यात कलाकार

ठुमरी उत्सव साहित्य कला परिषद की ओर से आयोजित किये जाने वाले उत्सवो में से एक है। इस साल यह उत्सव काफी लंबे समय के बाद शुरू हुआ है। इस 3 दिवसीय संगीत कार्यक्रम की शुक्रवार को कमानी सभागार, मंडी हाउस में हुई, जो 28 अगस्त तक चलेगा।

ब्यूटी और वेलनेस सेक्टर स्किल काउंसिल की ओर से होलिस्टिक वैलनेस वर्कशॉप का आयोजन

समग्र रूप से वेलनेस प्राप्त करने और बढ़ावा देने के दृष्टिकोण के साथ ब्यूटी और वेलनेस सेक्टर स्किल काउंसिल (बी एंड डब्ल्यू एस एस सी ) द्वारा कौशल विकास मंत्रालय  के अधिकारियों के लिए एक 360* वेलनेस कार्यशाला  का आयोजन किया गया। इस कार्यशाला का उद्देश्य होलिस्टिक लाइफ्स्टाइल पर जानकारी देना और अवेयरनेस क्रिएट करते हुए होलिस्टिक अप्रोच के साथ स्वस्थ जीवनशैली अपनाने के लिए प्रेरित करना था।  

राम जन्म से सुबाहू वध की लीला का मंचन

देश-विदेश में लोकप्रिय लव कुश रामलीला कमेटी के मंच पर लीला मंचन से पूर्व विशेष अतिथि केंद्रीय राज्य कानून और न्याय मंत्री सत्य पाल सिंह बघेल के साथ लव कुश के प्रेसिडेंट अर्जुन कुमार और लीला के पदाधिकारियों ने प्रभु श्री राम की पूजा अर्चना की।

फिल्म 'आई एम गोना टेल गॉड एवरीथिंग' की स्क्रीनिंग पर पहुंचे सत्यपाल सिंह

संजय दत्त द्वारा प्रस्तुत और गुजरात में जन्मे अमेरिका में पले-बढ़े जय पटेल की हॉलीवुड शॉर्ट फिल्म 'आई एम गोना टेल गॉड एवरीथिंग' सारी दुनिया में चर्चा में है। फ़िल्म के सह निर्माता अभिषेक दुधैया हैं जिन्होंने अजय देवगन के साथ फ़िल्म भुज का निर्माण और निर्देशन किया था। दिल दहला देने वाली इस रीयलिस्टिक फ़िल्म की स्पेशल स्क्रीनिंग राजधानी दिल्ली में हुई, जहां चीफ गेस्ट के रूप में मुम्बई के पूर्व पुलिस कमिश्नर और भाजपा सांसद सत्यपाल सिंह उपस्थित रहे। सत्यपाल सिंह के अलावा यहां काफी गेस्ट्स आए जिन्हें निर्माता जय पटेल और अभिषेक दुधैया ने शॉल और ट्रॉफी देकर सम्मानित किया।

दिल्ली में प्रमोशन करने पहुंची मैग्नम ओपस ‘पीएस-1’ की टीम

डायरेक्टर मणिरत्नम की ड्रीम ‘पीएस-1’ फिल्म 30 सितंबर को रिलीज होने के लिए तैयार है। यह एक ऐतिहासिक फिक्शन फिल्म है और इस साल की सबसे बहुप्रतीक्षित फिल्मों में से एक है।