Skip to main content

पर्शियन रामायण की विरासत पर अंतर्राष्ट्रीय कार्यशाला संपन्न

"रामायण की सचित्र पर्शियन मैन्युस्क्रिप्ट्स" विषय पर एक कार्यशाला का आयोजन किया गया। अयोध्या शोध संस्थान के निदेशक डॉ लवकुश द्विवेदी के मुख्य आतिथ्य में आयोजित "रामायण की सचित्र पर्शियन मैन्युस्क्रिप्ट्स" विषय पर इंडोलोजी फाउंडेशन द्वारा आयोजित इस कार्यक्रम में मलेशिया से डॉ रामिन, ईरान से डॉ आमिर तथा मारिशस से शैलेन रामकिसुन शामिल हुए। भारत से पुरातत्वविद डॉ बीआर मणि एवं कला इतिहास के मर्मज्ञ प्रो दीनबंधु पांडेय समीक्षा पैनल में शामिल रहें।  
कार्यक्रम की शुरुआत में संचालक ललित मिश्र ने भारत के संस्कृत राम एवं सुदूर पर्सिया अरब एवं इजरायल तक उनके कुलीन परिवारों में लोकप्रिय रामिन की पारसांस्कृतिक समरूपता पर प्रकाश डाला, सभी अतिथि विद्वानों का परिचय वरिष्ठ टीवी जर्नलिस्ट एवं प्रोड्यूसर प्रवीण मिश्र ने दिया जिसके पश्चात डॉ रामिन ने अपने प्रजेंटेशन की शुरुआत भारतीय परंपरा के अनुरूप दीप प्रज्वलन की स्लाइड के साथ की ।

उन्होंने पर्सिया एवं भारत कि सांस्कृतिक अन्तर्धारा को रेखांकित करते हुए बताया कि प्रधानमंत्री मोदी की ईरान यात्रा के दौरान राष्ट्रपति हसन रौहानी ने उन्हें पर्सियन रामायण की प्रति उपहार में प्रदान की थी।  

उन्होंने कहा कि अकबर ही नहीं अपितु उनकी मां हमीदा बानो बेगम, रहीम खाने खाना ने भी रामायण का सचित्र पर्सियन अनुवाद करवाया था जो अलग-अलग लाइब्रेरियों में सुरक्षित है। हमीदा बानो बेगम की रामायण में 56 चित्र तथा अकबर की रामायण में 130 चित्र हैं, इस तरह से अब तक रामायण के  सभी चौबीस पर्सियन अनुवाद की बारीक समीक्षा उन्होंने प्रस्तुत की। उन्होंने बताया कि अकबर ने चौबीस हजार संस्कृत की पांडुलिपियां एकत्रित की थी।

ईरान के सुपरसिद्ध कला इतिहासविद एवं इण्डोलाजिस्ट डॉ आमिर जेक्रगू ने स्वयं को ईरानी-भारतीय के रूप में प्रस्तुत करते हुए बताया कि वे पर्सियन रामायण की परंपरा को आगे बढ़ाते हुए एक हजार पृष्ठों की सचित्र रामायण निर्मित किया है जो कि प्रकाशन की प्रक्रिया में है। मारीशस से शामिल शैलेन रामकिसुन ने मारीशस की रामलीलाओं के आयोजन का पक्ष रखा।

कार्यक्रम का सिंहावलोकन करते हुए डॉ बीआर मणि ने कहा कि अकबर ने समय की आवश्यकता के अनुसार पर्सियन अनुवाद का सराहनीय कार्य किया, वहीं प्रो दीनबंध पांडेय ने समस्त स्रोतों का प्रयोग करते हुए रामायण के वैश्विक स्वरूप की स्थापना पर बल दिया।






Comments

Most Popular

अंतरराष्ट्रीय अग्रवाल सम्मेलन की कार्यकारिणी बैठक संपन्न

अंतर्राष्ट्रीय अग्रवाल सम्मेलन द्वारा आयोजित कार्य कारिणी समिति की बैठक का आयोजन मुबंई के अंधेरी वेस्ट में किया गया। इस बैठक में समिति द्वारा भविष्य में किए जाने वाले अनेक कार्यों की समीक्षा की गई तथा विशेष रुप से अग्रवाल समाज में वैवाहिक संबंधों के चयन की प्रक्रिया को किस तरह सुगम किया जाए इस पर विस्तार में चर्चा की गई।

कोरोना से जुड़े अहम सवाल

आंकड़ों को दर्ज करने के मामले में भारतीय स्वास्थ्य प्रबंधन तंत्र कभी अच्छा नहीं रहा। बीमारियों के मामलों को दर्ज करने में पूर्वाग्रह की स्थिति रही है। यह स्थिति कोविड-19 महामारी में भी जारी है। उदाहरण के तौर पर तेलंगाना में छह डॉक्टर ने लिखा कि कैसे राज्य के कुल आंकड़ों में कोविड 19 से होनेवाली मौतों का जिक्र नहीं किया जा रहा है।

विष्णु भक्त नारद मुनि

भगवान विष्णु के परम भक्त नारद ब्रह्मा जी के पुत्र हैं। उन्होंने भगवान विष्णु की भक्ति और तपस्या की। नारद जी पर देवी सरस्वती की भी कृपा थी। उन्हें हर तरह की विद्या में महारत हासिल थी।

ईमानदारी की श्रेष्ठता

अजीब स्वभाव है मानव का! हमारी भले ही ईमान से जान पहचान ना हो, पर हम चाहते हैं कि हमारे संपर्क में आने वाले प्रत्येक व्यक्ति ईमानदार हों। व्यापार में, व्यवहार में , साहित्य में या संसार में सभी जगह ईमानदारी की मांग है।

प्रकृति का सुहाना मोड़

सड़कों पर सन्नाटा, दफ्तरों, कारखानों और सावर्जनिक स्थानों पर पड़े ताले से भले ही मानव जीवन में ठहराव आ गया है, लेकिन लॉकडाउन के बीच प्रकृति एक नयी ताजगी महसूस कर रही है। हवा, पानी और वातावरण साफ हो रहे हैं। हम इंसानों के लिए कुछ समय पहले तक ये एक सपने जैसा था। इन दिनों प्रकृति की एक अलग ही खूबसूरती देखने को मिल रही हैं जो वर्षों पहले दिखाई देती थी।