Skip to main content

गांधी जी के ग्राम स्वराज के सपने को साकार करना वक्त की जरूरतः डॉ पार्थ शाह

थिंकटैंक सेंटर फॉर सिविल सोसायटी के प्रेसिडेंट और इंडियन स्कूल ऑफ पब्लिक पॉलिसी के संस्थापक व डायरेक्टर डॉ पार्थ शाह ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के ग्राम स्वराज के उस सपने को साकार करने को वक्त की जरूरत बताया है जिसके केंद्र में गांव और लोग शामिल हों। उन्होंने कहा कि लोकतंत्र का मूल उद्देश्य लोकनीति निर्माण में लोक को शामिल करना है, लेकिन हमारे सिस्टम का दृष्टिकोण लोक को सहभागी मानने की बजाय उनके लिये बाध्यकारी नीतियां बनाने तक ही सिमट कर रह गया है।



डॉ पार्थ शाह इंडियन स्कूल ऑफ पब्लिक पॉलिसी (आईएसपीपी) द्वारा लोकनीति विशेषज्ञों और छात्रों के साथ ‘लोग को लोकनीति में लायें’ विषयक संवाद कार्यक्रम के दौरान अपने विचार प्रस्तुत कर रहे थें। विषय प्रवर्तन आईएसपीपी की एसोसिएट डीन डा. नीति शिखा ने किया।


डॉ पार्थ शाह ने लोकनीतियों के निर्धारण के कार्य को अंग्रेजी भाषी एलीट वर्ग तक ही सीमित रखने को गलत बताते हुए इसके लोकतांत्रिकीकरण पर जोर दिया। लोकनीति कार्यक्रम में ‘लोग’ को वापस लाने की जरूरत पर बल देते हुए उन्होंने कहा कि लोकनीतियों के निर्धारण में हिन्दी भाषी स्थानीय विशेषज्ञों की सहभागिता आवश्यक है।


इस मौके पर उन्होंने लोकनीति विषय के पाठ्यक्रम को हिन्दी में शुरू किये जाने की भी घोषणा की। लोकनीति पाठ्यक्रम को हिन्दी में पढ़ाने का देश का यह पहला कार्यक्रम होगा जो नीति, डेटा और आचार परिवर्तन की शिक्षा प्रदान कर स्थानीय जरूरतों को समझने और साक्ष्य आधारित नीति में संलग्न होने की सीख देगा। डॉ शाह ने विभिन्न देशों की चुनावी प्रणालियों पर भी विश्लेषण प्रस्तुत किया।  





Comments

Most Popular

विज्ञान से लाभ-हानि

आधुनिक युग को 'विज्ञान का युग' कहा जाता है। आधुनिक जीवन में विज्ञान ने हर क्षेत्र में अद्भुत क्रांति उत्पन्न कर रखी है। इसने हमारे जीवन को सहज व सरल बना दिया है। विज्ञान ने मानव की सुख-सुविधा के अनेक साधन जुटाएँ हैं। टेलीफ़ोन, टेलीविजन, सिनेमा, वायुयान, टेलीप्रिंटर आदि विज्ञान के ही आविष्कार हैं। विद्युत के

प्रधानमंत्री मोदी ने किया एम्स नागपुर राष्ट्र को समर्पित

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज, 11 दिसंबर को एम्स नागपुर राष्ट्र को समर्पित किया। प्रधानमंत्री ने नागपुर एम्स परियोजना मॉडल का निरीक्षण भी किया और इस अवसर पर प्रदर्शित माइलस्टोन प्रदर्शनी गैलरी का अवलोकन किया।

 संघर्ष जितना अधिक होगा, संवेदना उतनी ही अधिक छुएगीः ऊषा किरण खान

साहित्य आजतक के मंचपर अंतिम दिन 'ये जिंदगी के मेले' सेशन में देशकी जानी मानी लेखिकाओं ने साहित्य, लेखन और मौजूदा परिदृश्य पर बातें कीं. इनमें लेखिका उपन्यासकार डॉ. सूर्यबाला, लेखिका ममताकालिया, लेखिका ऊषाकिरण खान शामिल हुईं. 

 प्रधानमंत्री मोदी ने नागपुर रेलवे स्टेशन से वंदे भारत एक्सप्रेस को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 11 दिसंबर को नागपुर रेलवे स्टेशन से नागपुर और बिलासपुर को जोड़ने वाली वंदे भारत एक्सप्रेस को झंडी दिखाकर रवाना किया। प्रधानमंत्री ने वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन के डिब्बों का निरीक्षण किया और ऑनबोर्ड सुविधाओं का जायजा लिया। उन्होंने नागपुर और अजनी रेलवे स्टेशनों की विकास योजनाओं का भी जायजा लिया।

चितरंजन त्रिपाठी बने राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय-NSD के नए निदेशक

आखिरकार राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय- NSD को स्थायी निदेशक चितरंजन त्रिपाठी के रूप में मिल गया है। संस्कृति मंत्रालय के अंतर्गत भारत सरकार की स्वायत्त संस्था राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय विश्व पटल पर रंगमंच के लिए स्थापित रंग संस्था है। चितरंजन त्रिपाठी एनएसडी ते 12 वें निदेशक हैं। अच्छी बात यह है कि वे यहां के 9वें स्नातक भी हैं, जिन्होंने निदेशक का पद भार सम्भाला है। श्री त्रिपाठी राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय के 1996 बैच के स्नातक हैं।