Skip to main content

ग्लोबल डिस्मेंटल सत्र

नोटग्लोबल डिस्मेंटल हिंदुत्व के प्रत्युत्तर में इंडोलॉजी फाउंडेशन द्वारा दिल्ली के कांस्टिट्यूशन क्लब में बृहद प्रेस कॉन्फ्रेंस  का आयोजन किया गया जिसमें ग्लोबल डिस्मेंटल सत्र के दौरान उठाए गए प्रश्नों के बिंदुवार उत्तर दिए गए।


इस सत्र में प्रयुक्त डिस्मेंटल शब्द पर आक्षेप करते हुए फाउंडेशन के इंडोलाजिस्ट श्री ललित और प्रवीण ने कहा कि विमर्श या परिचर्चा की जगह शिक्षा संस्थानों के कैंपस में डिस्मेंटल की तरह के शब्द का प्रयोग वैचारिक पूर्वाग्रह युक्त व्यग्रता की मनःस्थिति को व्यक्त करता है। उन्होंने कहा कि इस मनोवृति की ऐतिहासिक पृष्ठभूमि 1848 के कम्युनिस्ट मेनिफेस्टो में प्रयुक्त "वायलेंट ओवरथ्रो तथा एबोलिश" जैसे शब्दों के चयन में देखी जा सकती है, जब मार्क्स ने सामाजिक परिवर्तन के स्थान पर सत्ता परिवर्तन का लक्ष्य सामने रखा था। जिसके साथ ही उन्होंने आयोजकों द्वारा हिंदुत्व में हिंदू या हिंदुइस्म जैसे दो शब्दों के सहारे दी गयी सफाई को भी इस आयोजक समूह द्वारा पूर्व मे संस्कृत को स्कूल पाठ्यक्रम से निकाल कर लेटिन, जर्मन एवं फ़्रेंच शामिल करने की मुहिम चलाने तथा सन में स्कूल पाठ्यक्रम से संपूर्ण वैदिक इतिहास डिलीट करने का प्रतिवेदन देने जैसे क्रियाकलापों के कारण खारिज कर दिया।

मातृ बनाम पितृसत्तात्मक समाज के प्रश्न को अमान्य करते हुए कहा गया कि भारत की विराट संस्कृति ऐसे अनेकानेक अवसरों से गुजर चुकी है। उन्होंने बताया कि उपनिषद काल खंड में गुरु शिष्य परंपरा की 60 पीढ़ियां मातृ सत्तात्मक समाज का प्रतिबिंब करती हैं जिनके नाम बृहदारण्यक उपनिषद की सूची में उपलब्ध है, इसी तरह सातवाहन वंश की राज परंपरा में भी शासन शक्ति का केंद्र मां के हाथों में निहित होने का पता लगता है।

सेकुलरवाद के प्रश्न पर उन्होंने कहा कि धर्म शब्द के अर्थ में ही सब को एक साथ लेकर रहने की भावना व्यक्त हो रही है जिसका प्रथम उद्घोष अथर्ववेद भूमि सूक्त में होता है,  जहां भारत के बहुभाषवादी समाज में विभिन्न मतावलंबियों के मध्य सामाजिक सद्भाव का चित्रण किया गया है।

उन्होंने नेशनलिज्म की अवधारणा के 19वीं सदी में यूरोप से अतीत होने को अमान्य करते हुए कहा कि भारत में तो राष्ट्रीय भावना के पुरातात्विक प्रमाण 3000 वर्ष से मिल रहे हैं, जिनकी पुष्टि धार्मिक ग्रंथो से प्राप्त उद्धरणों से होती है। पांडिचेरी समीपवर्ती एरिकमेडू तथा केरल के पतनम जैसे स्थलों के उत्खनन के दौरान अफगानिस्तान में मिलने वाले लेपिस लजूली तथा इसी तरह नर्मदा के उत्तर में मिलने वाले कार्नेलियन बीड के मिलने से दक्षिण भारत उत्तर भारत के बीच में संपर्क के 3000 वर्ष प्राचीन होने की पुष्टि होती है, क्योंकि इस इस दौरान उत्खनन में किसी नरसंहार के पुरातात्विक प्रमाण नहीं मिले हैं, परस्पर सामाजिक सद्भाव की स्थिति ज्ञात होती है।




Comments

Most Popular

शास्त्रीय संगीत से सजा ठुमरी उत्सव- दूसरे और तीसरे दिन भी मंच पर उतरेंगे प्रख्यात कलाकार

ठुमरी उत्सव साहित्य कला परिषद की ओर से आयोजित किये जाने वाले उत्सवो में से एक है। इस साल यह उत्सव काफी लंबे समय के बाद शुरू हुआ है। इस 3 दिवसीय संगीत कार्यक्रम की शुक्रवार को कमानी सभागार, मंडी हाउस में हुई, जो 28 अगस्त तक चलेगा।

ब्यूटी और वेलनेस सेक्टर स्किल काउंसिल की ओर से होलिस्टिक वैलनेस वर्कशॉप का आयोजन

समग्र रूप से वेलनेस प्राप्त करने और बढ़ावा देने के दृष्टिकोण के साथ ब्यूटी और वेलनेस सेक्टर स्किल काउंसिल (बी एंड डब्ल्यू एस एस सी ) द्वारा कौशल विकास मंत्रालय  के अधिकारियों के लिए एक 360* वेलनेस कार्यशाला  का आयोजन किया गया। इस कार्यशाला का उद्देश्य होलिस्टिक लाइफ्स्टाइल पर जानकारी देना और अवेयरनेस क्रिएट करते हुए होलिस्टिक अप्रोच के साथ स्वस्थ जीवनशैली अपनाने के लिए प्रेरित करना था।  

राम जन्म से सुबाहू वध की लीला का मंचन

देश-विदेश में लोकप्रिय लव कुश रामलीला कमेटी के मंच पर लीला मंचन से पूर्व विशेष अतिथि केंद्रीय राज्य कानून और न्याय मंत्री सत्य पाल सिंह बघेल के साथ लव कुश के प्रेसिडेंट अर्जुन कुमार और लीला के पदाधिकारियों ने प्रभु श्री राम की पूजा अर्चना की।

फिल्म 'आई एम गोना टेल गॉड एवरीथिंग' की स्क्रीनिंग पर पहुंचे सत्यपाल सिंह

संजय दत्त द्वारा प्रस्तुत और गुजरात में जन्मे अमेरिका में पले-बढ़े जय पटेल की हॉलीवुड शॉर्ट फिल्म 'आई एम गोना टेल गॉड एवरीथिंग' सारी दुनिया में चर्चा में है। फ़िल्म के सह निर्माता अभिषेक दुधैया हैं जिन्होंने अजय देवगन के साथ फ़िल्म भुज का निर्माण और निर्देशन किया था। दिल दहला देने वाली इस रीयलिस्टिक फ़िल्म की स्पेशल स्क्रीनिंग राजधानी दिल्ली में हुई, जहां चीफ गेस्ट के रूप में मुम्बई के पूर्व पुलिस कमिश्नर और भाजपा सांसद सत्यपाल सिंह उपस्थित रहे। सत्यपाल सिंह के अलावा यहां काफी गेस्ट्स आए जिन्हें निर्माता जय पटेल और अभिषेक दुधैया ने शॉल और ट्रॉफी देकर सम्मानित किया।

दिल्ली में प्रमोशन करने पहुंची मैग्नम ओपस ‘पीएस-1’ की टीम

डायरेक्टर मणिरत्नम की ड्रीम ‘पीएस-1’ फिल्म 30 सितंबर को रिलीज होने के लिए तैयार है। यह एक ऐतिहासिक फिक्शन फिल्म है और इस साल की सबसे बहुप्रतीक्षित फिल्मों में से एक है।