Skip to main content

ग्लोबल डिस्मेंटल सत्र

नोटग्लोबल डिस्मेंटल हिंदुत्व के प्रत्युत्तर में इंडोलॉजी फाउंडेशन द्वारा दिल्ली के कांस्टिट्यूशन क्लब में बृहद प्रेस कॉन्फ्रेंस  का आयोजन किया गया जिसमें ग्लोबल डिस्मेंटल सत्र के दौरान उठाए गए प्रश्नों के बिंदुवार उत्तर दिए गए।


इस सत्र में प्रयुक्त डिस्मेंटल शब्द पर आक्षेप करते हुए फाउंडेशन के इंडोलाजिस्ट श्री ललित और प्रवीण ने कहा कि विमर्श या परिचर्चा की जगह शिक्षा संस्थानों के कैंपस में डिस्मेंटल की तरह के शब्द का प्रयोग वैचारिक पूर्वाग्रह युक्त व्यग्रता की मनःस्थिति को व्यक्त करता है। उन्होंने कहा कि इस मनोवृति की ऐतिहासिक पृष्ठभूमि 1848 के कम्युनिस्ट मेनिफेस्टो में प्रयुक्त "वायलेंट ओवरथ्रो तथा एबोलिश" जैसे शब्दों के चयन में देखी जा सकती है, जब मार्क्स ने सामाजिक परिवर्तन के स्थान पर सत्ता परिवर्तन का लक्ष्य सामने रखा था। जिसके साथ ही उन्होंने आयोजकों द्वारा हिंदुत्व में हिंदू या हिंदुइस्म जैसे दो शब्दों के सहारे दी गयी सफाई को भी इस आयोजक समूह द्वारा पूर्व मे संस्कृत को स्कूल पाठ्यक्रम से निकाल कर लेटिन, जर्मन एवं फ़्रेंच शामिल करने की मुहिम चलाने तथा सन में स्कूल पाठ्यक्रम से संपूर्ण वैदिक इतिहास डिलीट करने का प्रतिवेदन देने जैसे क्रियाकलापों के कारण खारिज कर दिया।

मातृ बनाम पितृसत्तात्मक समाज के प्रश्न को अमान्य करते हुए कहा गया कि भारत की विराट संस्कृति ऐसे अनेकानेक अवसरों से गुजर चुकी है। उन्होंने बताया कि उपनिषद काल खंड में गुरु शिष्य परंपरा की 60 पीढ़ियां मातृ सत्तात्मक समाज का प्रतिबिंब करती हैं जिनके नाम बृहदारण्यक उपनिषद की सूची में उपलब्ध है, इसी तरह सातवाहन वंश की राज परंपरा में भी शासन शक्ति का केंद्र मां के हाथों में निहित होने का पता लगता है।

सेकुलरवाद के प्रश्न पर उन्होंने कहा कि धर्म शब्द के अर्थ में ही सब को एक साथ लेकर रहने की भावना व्यक्त हो रही है जिसका प्रथम उद्घोष अथर्ववेद भूमि सूक्त में होता है,  जहां भारत के बहुभाषवादी समाज में विभिन्न मतावलंबियों के मध्य सामाजिक सद्भाव का चित्रण किया गया है।

उन्होंने नेशनलिज्म की अवधारणा के 19वीं सदी में यूरोप से अतीत होने को अमान्य करते हुए कहा कि भारत में तो राष्ट्रीय भावना के पुरातात्विक प्रमाण 3000 वर्ष से मिल रहे हैं, जिनकी पुष्टि धार्मिक ग्रंथो से प्राप्त उद्धरणों से होती है। पांडिचेरी समीपवर्ती एरिकमेडू तथा केरल के पतनम जैसे स्थलों के उत्खनन के दौरान अफगानिस्तान में मिलने वाले लेपिस लजूली तथा इसी तरह नर्मदा के उत्तर में मिलने वाले कार्नेलियन बीड के मिलने से दक्षिण भारत उत्तर भारत के बीच में संपर्क के 3000 वर्ष प्राचीन होने की पुष्टि होती है, क्योंकि इस इस दौरान उत्खनन में किसी नरसंहार के पुरातात्विक प्रमाण नहीं मिले हैं, परस्पर सामाजिक सद्भाव की स्थिति ज्ञात होती है।




Comments

Most Popular

ज्योतिष विज्ञान और कोरोना- ज्योतिषाचार्य राजकिशोर

वर्त्तमान समय में कोरोना महामारी एक ऐसा संकट है , एक ऐसी समस्या है जिससे न सिर्फ हिंदुस्तान बल्कि पूरा विश्व जूझ रहा है। बार बार लोगों के दिमाग में सिर्फ और सिर्फ एक ही सवाल आ रहा है और उस सवाल ने सभी की रातों की नींद उड़ा कर रख दी है कि कोरोना महामारी का अंत कब होगा ? इस महामारी के संकट से कैसे और कब छुटकारा मिल पायेगा ?

धरती का सबसे छोटा बच्चा!

काका उदास थे। उदासी उनके पास कोई पड़ा कारण नहीं था। बदलती आबोहवा से जब भी परेशानी होती है, उदासी उनके चेहरे पर बैठ जाती है। जब कोई चिड़िया गीत गाती हुई फुर्र से उड़ती है या कोई वृक्ष तेज हवा में घूमने लगता है, तब जाकर उनका चेहरा सामान्य हो पाता है। वे बड़ी देर से चुप बैठे थे। जो व्यक्ति खुद में उतर रहा हो या सामने किसी दृश्य को टटोल रहा हो, उसे टोकना अच्छी बात नहीं है। मौन में भी मजे है। मैं कभी-कभी सोचने लगती हूं कि पृथ्वी पर चिड़िया कब आयी होगी। हठात काका का मौन टूटा। वे मुझसे पूछ रहे थे कि तुम्हें क्या लगता है, पृथ्वी पर मानव पहले आया होगा और बहुत दिनों के बाद जब वह बोर होने लगा होगा, तब चिड़िया बनायी गयी होगी! मुझे चुप देख कहने लगे कि मनुष्य के पास चिड़िया बनाने का कोई हुनर नहीं है। इतने उपकरण और होशियार हो जाने के बाद, अगर आज भी मानव चिड़िया बनाने बैठे तो असफलता ही हाथ लगेगी। इस बात से यह साबित होता है कि मानव बाद में आया होगा, चिड़िया पहले आयी होगी। वे कहने लगे कि वृक्ष चिड़िया का घर तो होता ही है, साथ ही उनका जीवन भी होता है। पृथ्वी पर पहले वृक्षों को लगाया गया होगा कि चिड़िया आ

झारखंड का आदिवासी समाज और भूमि का उत्तराधिकार!

यूं तो झारखंड के आदिवासी समाज में औरतों की स्थिति, अन्य समाज की स्त्रियो की तुलना में पुरुष से संपत्ति के अधिकार की हो, तो ये उन सारी महिलाओं से पिछडी है जो अन्य क्षेत्रों में इनका अनुकरण करती है। आपको यह जानकर विस्मय होगा कि राज्य के जनजातीय समाज में महिलाओं को अचल संपत्ति में कोई वंशानुक्रम का अधिकार नहीं दिया जाता है। वर्तमान युग में, जब लैंगिक समानता का विषय विश्व भर में जोरों से चर्चा में है, यह अति अफसोसनाक है कि प्रदेश की आदिवासी महिलाओं को प्रथागत कानून के तहत भूमि के उत्तराधिकार से वंचित रखा गया है। छोटानागपुर काश्तकारी अधिनियम, 1908 कि धारा 7 एवं 8 में इस बात का उल्लेख है कि आदिवासी समाज में जमीन का उत्तराधिकार सिर्फ पुरुष वंश में ही किया जा सकता है। अर्थात, समाज की औरतों को इसका कतई अधिकार नहीं। हालांकि अधिनियम कि एक अन्य धारा पर गौर किया जाय तो यह मालूम होता  है कि यादि आदिवासी समाज में भूमि का हस्तांतरण, भेंट अथवा विनिमय किया जाना हो तो इसके लिए वंशानुगत पुरूष अथवा ‘अन्य ‘ योग्य है। जहां एक तरफ संथालपरगना के इलाके में ‘तानसेन जोम’ की परंपरा हैं, वही दूसरी तरफ संथालपरगना का

ईमानदारी की श्रेष्ठता

अजीब स्वभाव है मानव का! हमारी भले ही ईमान से जान पहचान ना हो, पर हम चाहते हैं कि हमारे संपर्क में आने वाले प्रत्येक व्यक्ति ईमानदार हों। व्यापार में, व्यवहार में , साहित्य में या संसार में सभी जगह ईमानदारी की मांग है।

नव वर्ष 2022 में राहु, केतु, शनि और गुरु ग्रहों का गोचर एवं उनका विभिन्न चंद्र राशियों पर होने वाला प्रभाव

2021 की समाप्ति और 2022 की शुरुआत बड़े ही नाटकीय ढंग से हुई है। यह हम इसलिए कह रहे हैं क्योंकि 2021 के आखिरी महीने यानी की दिसंबर महीने में कोरोना के एक और रूप ओमीक्रॉन ने बड़े ही अलग तरीके से, बिना किसी लक्षण के अचानक ही पूरे विश्व पर धावा बोल दिया। भारत या अन्य देश इसके रूप, स्वरुप, असर, परिणाम  को जान और समझ पाते उससे पहले ही इसने लगभग पूरी दुनिया को अपनी चपेट में ले लिया। कोरोना ने इस नए रूप में आकर सभी को एक बार फिर डरा दिया है।