Skip to main content

समय का सदुपयोग

इस संसार में सभी चीजों को घटाया बढ़ाया जा सकता है, पर समय को नहीं। समय किसी के अधीन नहीं रहता। न वह रुकता है, न ही वह किसी की प्रतीक्षा करता है। काल करे सो आज कर, आज करें सो अब, पल में परलै होएगी, बहुरि करोगे कब



समय अमूल्य धन है। समय की दुनिया में अमीर-गरीब, ऊँच-नीच का भेदभाव नहीं है। जिसने भी समय के महत्व को पहचाना तथा उसका सदुपयोग किया, वह उन्नति की सीढ़ियों पर चढ़ता गया। जिसने समय का तिरस्कार किया, समय ने उसे बर्बाद कर दिया। विद्यार्थी जीवन में समय का अत्यधिक महत्व है। समय का सदुपयोग करने वाला


विद्यार्थी भावी जीवन में सफल होता है तथा एक सफल नागरिक बनता है। इसके विपरीत, समय को व्यर्थ की बातों में गँवाने वाला छात्र असफलता का मुँह देखता है। समय का सदुपयोग केवल कर्मठ तथा उद्यमी व्यक्ति ही कर सकता है. आलसी नहीं। आलस्य ही मनुष्य का सबसे बड़ा शत्रु है। विद्यार्थी को इस शत्रु से सावधान रहना चाहिए।
यही शत्रु समय को बर्बाद करता है। विद्यार्थी को अपने एक-एक क्षण के उपयोग के प्रति सचेत एवं सावधान रहना चाहिए। इसके लिए उन्हें अच्छे लोगों की संगति करनी चाहिए।

समय एक ऐसा देवता है, जो प्रसन्न होने पर यदि नेपोलियन तथा सिकंदर जैसा महान बना देता है, तो कुपित होने पर व्यक्ति का समूल नाश कर देता है। विद्यार्थी को अपना समय आमोद-प्रमोद, फ़ैशन तथा अनावश्यक बातों में नहीं खोना चाहिए। समय का सदुपयोग भाग्य निर्माण की आधारशिला है। समय के महत्व को न समझने वाले वास्तव में अभागे हैं। जो व्यक्ति अमूल्य समय का एक पल भी गँवा देता है, वह सारी उम्र पछताता है। अतः हमें समय का सदुपयोग करना चाहिए।शुकि्रया
- प्रेरणा यादव

Comments

Most Popular

विज्ञान से लाभ-हानि

आधुनिक युग को 'विज्ञान का युग' कहा जाता है। आधुनिक जीवन में विज्ञान ने हर क्षेत्र में अद्भुत क्रांति उत्पन्न कर रखी है। इसने हमारे जीवन को सहज व सरल बना दिया है। विज्ञान ने मानव की सुख-सुविधा के अनेक साधन जुटाएँ हैं। टेलीफ़ोन, टेलीविजन, सिनेमा, वायुयान, टेलीप्रिंटर आदि विज्ञान के ही आविष्कार हैं। विद्युत के

प्रधानमंत्री मोदी ने किया एम्स नागपुर राष्ट्र को समर्पित

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज, 11 दिसंबर को एम्स नागपुर राष्ट्र को समर्पित किया। प्रधानमंत्री ने नागपुर एम्स परियोजना मॉडल का निरीक्षण भी किया और इस अवसर पर प्रदर्शित माइलस्टोन प्रदर्शनी गैलरी का अवलोकन किया।

 संघर्ष जितना अधिक होगा, संवेदना उतनी ही अधिक छुएगीः ऊषा किरण खान

साहित्य आजतक के मंचपर अंतिम दिन 'ये जिंदगी के मेले' सेशन में देशकी जानी मानी लेखिकाओं ने साहित्य, लेखन और मौजूदा परिदृश्य पर बातें कीं. इनमें लेखिका उपन्यासकार डॉ. सूर्यबाला, लेखिका ममताकालिया, लेखिका ऊषाकिरण खान शामिल हुईं. 

 प्रधानमंत्री मोदी ने नागपुर रेलवे स्टेशन से वंदे भारत एक्सप्रेस को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 11 दिसंबर को नागपुर रेलवे स्टेशन से नागपुर और बिलासपुर को जोड़ने वाली वंदे भारत एक्सप्रेस को झंडी दिखाकर रवाना किया। प्रधानमंत्री ने वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन के डिब्बों का निरीक्षण किया और ऑनबोर्ड सुविधाओं का जायजा लिया। उन्होंने नागपुर और अजनी रेलवे स्टेशनों की विकास योजनाओं का भी जायजा लिया।

चितरंजन त्रिपाठी बने राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय-NSD के नए निदेशक

आखिरकार राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय- NSD को स्थायी निदेशक चितरंजन त्रिपाठी के रूप में मिल गया है। संस्कृति मंत्रालय के अंतर्गत भारत सरकार की स्वायत्त संस्था राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय विश्व पटल पर रंगमंच के लिए स्थापित रंग संस्था है। चितरंजन त्रिपाठी एनएसडी ते 12 वें निदेशक हैं। अच्छी बात यह है कि वे यहां के 9वें स्नातक भी हैं, जिन्होंने निदेशक का पद भार सम्भाला है। श्री त्रिपाठी राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय के 1996 बैच के स्नातक हैं।