Skip to main content

एक बेबस बेटी

एक लड़की थी जिसका नाम पूनम था। वह अपने पिता श्यामलाल के साथ रहती थी। जब वह छोटी थी तब उसको माँ गुजर गई थी। इसीलिए पूनम और उसके पिता श्यामलाल एक छोटे से घर में रहते थे। पूनम एक अच्छी बेटी तो थी मगर श्यामलाल एक अच्छा पिता नहीं था। वह सिर्फ नाम का ही पिता था, मगर असल में वो एक नम्बर का जुआरी और शराबी आदमी था।


वह अपनी बेटी से घर के नौकरों जैसा सुलूक करता था। वह सुबह-सुबह घर से निकल जाता और सारा दिन अपने दोस्तों के साथ ऐश करके देर रात को घर लौटता था। उसकी बेटी हो उसे सँभालती और उसकी खाना परोस देती, और उल्टा वह उसी को डाँटता रहता और अत्याचार करता रहता। मगर वो बेचारों भी क्या करती। वह इस जिंदगी से भाग भी नहीं सकती थी। आखिर श्यामलाल उसका पिता था। उसे भी अपना जीवन असहनीय हो गया था।

आखिर अपने पिता के बिना उसका संसार में और कौन था। वह भी दूसरे बच्चों की तरह घर से बाहर निकलती थी मगर फर्क सिर्फ इतना था कि बाकी सारे बच्चे स्कूल और खेलने के लिए निकलते और पूनम घर के सामान खरीदने और बाज़ार करने निकलती थी और अपने ही उम्र के बच्चों को खेलते देख दुखी हो जाती। चूंकि वह बाहर निकलती, मोहल्ले के अन्य लोगों के साथ उसकी अच्छी जान पहचान हो गई, और बहुत लोग उसके दोस्त भी बन गए थे। अगर वह कुछ दिनों तक घर से बाहर न निकलती मोहल्ले के लोग उसका हाल पूछने उसके घर पहुँच जाते, मगर श्यामलाल इन सब से बहुत नाराज हो जाता।

सब लोग श्यामलाल से बहुत चिढ़ते क्योंकि वह अपनी छोटी सी बेटी पर बहुत अत्याचार करता था, मगर वो पूनम के लिए कुछ न कर पाते। श्यामलाल एक जिम्मेदार पिता बिल्कुल नहीं था। उसने पूनम को न ही कभी अच्छी शिक्षा दी और न हो उसे कभी अच्छे कपड़े व खिलौने दिए। उसे बस खुद से मतलब था।

एक दिन पूनम को बहुत बुखार आया, मगर उसका इलाज करना तो दूर, हाल पूछने वाला भी कोई नहीं था। उस दिन वह खाना न बना पाई। फिर, रोज की तरह उसका पिता रात घर लौटा, और पूनम को खाना परोसने का हुकुम दिया। वो बेचारी बुखार के मारे काँप रही थी। उसने बड़े ही मायापूर्ण भाव से उत्तर दिया कि, "पिता आज मैं खाना न बना पाई, क्योंकि मुझे बहुत बुखार है।" यह सुनकर श्यामलाल गुस्से से आग-बबूला होकर बोला, "अरे! तुम सारा दिन घर में बैठकर करती क्या हो, अभी तक खाना भी नहीं पकाया।" वह बहुत डर गई और रोने लगी, श्यामलाल ने उसे बहुत डाँटा और उस पर हाथ उठाने ही वाला था कि पूनम वहाँ से भाग गई और बाथरूम में छुप गई तथा दरवाजा अंदर से बंद कर दिया। श्यामलाल दरवाजे के जोर-जोर से पीटता रहा, और दरवाजा खोल' कहकर चीखने लगा। उसकी चीख से मोहल्ले के लोग इकट्ठे हो गए। बेचारी पूनम को समझ नहीं आ रहा था तो कहाँ जाए, अगर वह बाहर निकलती तो उसका पिता उसे मार देता। इसीलिए उसको आत्महत्या करने के सिवा और कोई रास्ता नहीं दिखा। उसने बाथरूम में रखे ब्लीचिंग पाउडर को बिना कुछ सोचे निगल लिया। वह कुछ देर वहीं बाथरूम में बंद रही और समय पर इलाज न मिलने की वजह से उसने वहीं दम तोड़ दिया। सभी लोग अंदर घुस गए और दरवाजे को तोड़ दिया। मगर तब तक बहुत देर हो चुकी थी। उसकी अस्पताल में भर्ती करवाया गया मगर डॉक्टरों ने जवाब दे दिया। इसी बीच किसी ने पुलिस को खबर दे दिया, और सभी ने श्यामलाल के विरूद्ध गवाही दी। श्यामलाल इससे बहुत डर गया और शहर छोड़ कर चला गया। मगर वह पूनम को कभी भुला न पाया। वह पुलिस से तो बच गया मगर वह ऊपरवाले के कानून से कभी न बच पाएगा। आखिर उसने एक नन्हीं सी जान का बचपन नष्ट किया था।

-प्रेरणा  यादव

                  

Comments

Most Popular

शास्त्रीय संगीत से सजा ठुमरी उत्सव- दूसरे और तीसरे दिन भी मंच पर उतरेंगे प्रख्यात कलाकार

ठुमरी उत्सव साहित्य कला परिषद की ओर से आयोजित किये जाने वाले उत्सवो में से एक है। इस साल यह उत्सव काफी लंबे समय के बाद शुरू हुआ है। इस 3 दिवसीय संगीत कार्यक्रम की शुक्रवार को कमानी सभागार, मंडी हाउस में हुई, जो 28 अगस्त तक चलेगा।

ब्यूटी और वेलनेस सेक्टर स्किल काउंसिल की ओर से होलिस्टिक वैलनेस वर्कशॉप का आयोजन

समग्र रूप से वेलनेस प्राप्त करने और बढ़ावा देने के दृष्टिकोण के साथ ब्यूटी और वेलनेस सेक्टर स्किल काउंसिल (बी एंड डब्ल्यू एस एस सी ) द्वारा कौशल विकास मंत्रालय  के अधिकारियों के लिए एक 360* वेलनेस कार्यशाला  का आयोजन किया गया। इस कार्यशाला का उद्देश्य होलिस्टिक लाइफ्स्टाइल पर जानकारी देना और अवेयरनेस क्रिएट करते हुए होलिस्टिक अप्रोच के साथ स्वस्थ जीवनशैली अपनाने के लिए प्रेरित करना था।  

राम जन्म से सुबाहू वध की लीला का मंचन

देश-विदेश में लोकप्रिय लव कुश रामलीला कमेटी के मंच पर लीला मंचन से पूर्व विशेष अतिथि केंद्रीय राज्य कानून और न्याय मंत्री सत्य पाल सिंह बघेल के साथ लव कुश के प्रेसिडेंट अर्जुन कुमार और लीला के पदाधिकारियों ने प्रभु श्री राम की पूजा अर्चना की।

फिल्म 'आई एम गोना टेल गॉड एवरीथिंग' की स्क्रीनिंग पर पहुंचे सत्यपाल सिंह

संजय दत्त द्वारा प्रस्तुत और गुजरात में जन्मे अमेरिका में पले-बढ़े जय पटेल की हॉलीवुड शॉर्ट फिल्म 'आई एम गोना टेल गॉड एवरीथिंग' सारी दुनिया में चर्चा में है। फ़िल्म के सह निर्माता अभिषेक दुधैया हैं जिन्होंने अजय देवगन के साथ फ़िल्म भुज का निर्माण और निर्देशन किया था। दिल दहला देने वाली इस रीयलिस्टिक फ़िल्म की स्पेशल स्क्रीनिंग राजधानी दिल्ली में हुई, जहां चीफ गेस्ट के रूप में मुम्बई के पूर्व पुलिस कमिश्नर और भाजपा सांसद सत्यपाल सिंह उपस्थित रहे। सत्यपाल सिंह के अलावा यहां काफी गेस्ट्स आए जिन्हें निर्माता जय पटेल और अभिषेक दुधैया ने शॉल और ट्रॉफी देकर सम्मानित किया।

दिल्ली में प्रमोशन करने पहुंची मैग्नम ओपस ‘पीएस-1’ की टीम

डायरेक्टर मणिरत्नम की ड्रीम ‘पीएस-1’ फिल्म 30 सितंबर को रिलीज होने के लिए तैयार है। यह एक ऐतिहासिक फिक्शन फिल्म है और इस साल की सबसे बहुप्रतीक्षित फिल्मों में से एक है।