Skip to main content

समाचार-पत्रों का महत्व

व्यक्ति और समाज एक-दूसरे से जुड़े हैं। समाज के बारे में पूरी जानकारी पाने के लिए सस्ता व सरल साधन है-समाचार-पत्र। सुबह उठते ही प्रत्येक व्यक्ति समाचार पत्र पढ़ना चाहता है। समाचार पत्र के बिना दिन अधूरा-अधूरा सा प्रतीत होता है। अधिकतर लोग समाचार-पत्र पढ़कर ही घर के अन्य कार्य शुरू करते हैं।


समाचार पत्रों को प्रजातंत्र का आधार माना जाता है। ये प्रजा में चेतना उत्पन्न करते हैं। लोगों को अधिकारों के प्रति जागरूक करते हैं। सरकार की पोल जनता के सामने खोल देते हैं। समाचार पत्रों के द्वारा पूरे संसार के समाचार घर बैठे ही मिल जाते हैं। समाचार पत्रों को रिकॉर्ड के रूप में भी रखा जा सकता है।


समाचार पत्रों में समाचारों के अलावा ज्ञानवर्धक लेख छपते हैं। संपादकीय लेख महत्वपूर्ण होते हैं। इनमें सामयिक विषयों पर चर्चा होती है। इनसे खेल, विज्ञापन, वाणिज्य हर प्रकार की सूचनाएँ प्राप्त होती हैं।समाचार-पत्र मनोरंजन से भी अछूते नहीं रहते। इनमें बच्चों के लिए भी ज्ञानवर्धक सामग्री होती है तथा चुटकुले, कहानियाँ आदि भी होते हैं। इस प्रकार समाचार पत्र आधुनिक जीवन का आवश्यक अंग हैं।

-प्रेरणा यादव

Comments

Most Popular

विज्ञान से लाभ-हानि

आधुनिक युग को 'विज्ञान का युग' कहा जाता है। आधुनिक जीवन में विज्ञान ने हर क्षेत्र में अद्भुत क्रांति उत्पन्न कर रखी है। इसने हमारे जीवन को सहज व सरल बना दिया है। विज्ञान ने मानव की सुख-सुविधा के अनेक साधन जुटाएँ हैं। टेलीफ़ोन, टेलीविजन, सिनेमा, वायुयान, टेलीप्रिंटर आदि विज्ञान के ही आविष्कार हैं। विद्युत के

प्रधानमंत्री मोदी ने किया एम्स नागपुर राष्ट्र को समर्पित

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज, 11 दिसंबर को एम्स नागपुर राष्ट्र को समर्पित किया। प्रधानमंत्री ने नागपुर एम्स परियोजना मॉडल का निरीक्षण भी किया और इस अवसर पर प्रदर्शित माइलस्टोन प्रदर्शनी गैलरी का अवलोकन किया।

 संघर्ष जितना अधिक होगा, संवेदना उतनी ही अधिक छुएगीः ऊषा किरण खान

साहित्य आजतक के मंचपर अंतिम दिन 'ये जिंदगी के मेले' सेशन में देशकी जानी मानी लेखिकाओं ने साहित्य, लेखन और मौजूदा परिदृश्य पर बातें कीं. इनमें लेखिका उपन्यासकार डॉ. सूर्यबाला, लेखिका ममताकालिया, लेखिका ऊषाकिरण खान शामिल हुईं. 

 प्रधानमंत्री मोदी ने नागपुर रेलवे स्टेशन से वंदे भारत एक्सप्रेस को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 11 दिसंबर को नागपुर रेलवे स्टेशन से नागपुर और बिलासपुर को जोड़ने वाली वंदे भारत एक्सप्रेस को झंडी दिखाकर रवाना किया। प्रधानमंत्री ने वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन के डिब्बों का निरीक्षण किया और ऑनबोर्ड सुविधाओं का जायजा लिया। उन्होंने नागपुर और अजनी रेलवे स्टेशनों की विकास योजनाओं का भी जायजा लिया।

चितरंजन त्रिपाठी बने राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय-NSD के नए निदेशक

आखिरकार राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय- NSD को स्थायी निदेशक चितरंजन त्रिपाठी के रूप में मिल गया है। संस्कृति मंत्रालय के अंतर्गत भारत सरकार की स्वायत्त संस्था राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय विश्व पटल पर रंगमंच के लिए स्थापित रंग संस्था है। चितरंजन त्रिपाठी एनएसडी ते 12 वें निदेशक हैं। अच्छी बात यह है कि वे यहां के 9वें स्नातक भी हैं, जिन्होंने निदेशक का पद भार सम्भाला है। श्री त्रिपाठी राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय के 1996 बैच के स्नातक हैं।