Skip to main content

आज की राजनीति पर कॉमिक सटायर है फ़िल्म "लव यू लोकतंत्र"

सिनेमा अब रियलिस्टिक बनने लगा है, ऐसी कहानी फिल्मों में पेश की जाती है जिससे दर्शक रिलेट कर सकें। इस सप्ताह रिलीज हुई पोलिटिकल सटायर फ़िल्म लव यू लोकतंत्र एक ऐसा ही सब्जेक्ट है जो आज की राजनीतिक हलचल के बारे में है। फ़िल्म में ईशा कोप्पिकर, रवि किशन, मनोज जोशी, स्नेहा उल्लाल, अली असगर, कृष्णा अभिषेक, सपना चौधरी, अमित कुमार ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।


लव यू लोकतंत्र दरअसल आज के राजनीतिक हालात पर व्यंग्य है जिसे बड़े सलीके से दर्शाया गया है। फ़िल्म वर्तमान भारतीय राजनीति पर कॉमिक ढंग से सटायर है। उत्तर भारत की बोली के साथ यह राजनीतिक सिचुएशन पर टिप्पणी करता नजर आती है। देखा जाए तो यह फ़िल्म एक महिला मुख्यमंत्री, एक पुरुष वकील और एक महिला एडवोकेट के इर्दगिर्द घूमती कहानी है जिसमें सरकार गठन का दिलचस्प प्लॉट है। दो अपहृत निर्दलीय विधायकों के पास सरकार बनाने की चाभी है, लेकिन रातों-रात उन्हें किडनैप कर लिया जाता है। वकील और जर्नलिस्ट सरकार बनाने की अपनी रणनीतियों और योजनाओं के साथ फिल्म को रोचक बनाते हैं।

फ़िल्म लव यू लोकतंत्र में वकील से अभिनेता बने अमित कुमार स्नेहा उल्लाल के साथ रोमांस करते नजर आ रहे हैं।


फिल्म को अभय निहलानी ने बड़ी कुशलता से निर्देशित किया है। संगीतकार ललित पंडित ने अपने आकर्षक संगीत के साथ बेहतरीन गाने दिए हैं। फ़िल्म में प्रमुख सिंगर अमृता फडणवीस, दलेर महेंदी, अभिजीत, शान, प्रतिभा बघेल हैं। फिल्म में सपना चौधरी का एक धमाकेदार आइटम गीत भी है। फ़िल्म में इतना ड्रामा, सस्पेंस और क्लाइमेक्स दृश्य इतना बढ़िया है कि दर्शकों को अपनी सीटों से बांध कर रखता है। फिल्म में एक संपूर्ण मनोरंजन के सभी मसाले हैं और इसे आम दर्शकों द्वारा खूब पसंद किया जाएगा।

फ़िल्म में कई जानदार और सीटियां मारने वाले डायलॉग हैं। ईशा कोपिकर एक सीन में कहती है "राजनीति में मौका देखकर धोखा देना चाहिए।" उनका एक और संवाद मजेदार है "जिसे शर्म आती है उसे राजनीति नहीं आती।"

जहां तक अभिनय की बात है रवि किशन ने अपनी अदाकारी की छाप छोड़ी है।  ईशा कोपिकर ने एक मुख्यमंत्री की भूमिका के साथ न्याय किया है। मनोज जोशी, स्नेहा उल्लाल, कृष्णा अभिषेक और अमित कुमार ने भी अपने अभिनय से पॉलिटिकल सटायर फिल्म "लव यू लोकतंत्र" को देखने लायक बना दिया है।

जुरिच मीडिया हाउस एलएलपी के बैनर तले बनी इस कॉमेडी फिल्म में कॉमिक अंदाज में आजके राजनीतिक हालात पर कटाक्ष किया गया है। संजय छैल ने फ़िल्म की कहानी को काफी अच्छे ढंग से लिखा है। रियल लाइफ में वकील होते हुए भी अमित कुमार ने इस फ़िल्म में वकील का किरदार प्रभावी ढंग से निभाया है। लव यू लोकतंत्र देखें आप इसे लव करेंगे।

Comments

Most Popular

विज्ञान से लाभ-हानि

आधुनिक युग को 'विज्ञान का युग' कहा जाता है। आधुनिक जीवन में विज्ञान ने हर क्षेत्र में अद्भुत क्रांति उत्पन्न कर रखी है। इसने हमारे जीवन को सहज व सरल बना दिया है। विज्ञान ने मानव की सुख-सुविधा के अनेक साधन जुटाएँ हैं। टेलीफ़ोन, टेलीविजन, सिनेमा, वायुयान, टेलीप्रिंटर आदि विज्ञान के ही आविष्कार हैं। विद्युत के

प्रधानमंत्री मोदी ने किया एम्स नागपुर राष्ट्र को समर्पित

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज, 11 दिसंबर को एम्स नागपुर राष्ट्र को समर्पित किया। प्रधानमंत्री ने नागपुर एम्स परियोजना मॉडल का निरीक्षण भी किया और इस अवसर पर प्रदर्शित माइलस्टोन प्रदर्शनी गैलरी का अवलोकन किया।

 संघर्ष जितना अधिक होगा, संवेदना उतनी ही अधिक छुएगीः ऊषा किरण खान

साहित्य आजतक के मंचपर अंतिम दिन 'ये जिंदगी के मेले' सेशन में देशकी जानी मानी लेखिकाओं ने साहित्य, लेखन और मौजूदा परिदृश्य पर बातें कीं. इनमें लेखिका उपन्यासकार डॉ. सूर्यबाला, लेखिका ममताकालिया, लेखिका ऊषाकिरण खान शामिल हुईं. 

 प्रधानमंत्री मोदी ने नागपुर रेलवे स्टेशन से वंदे भारत एक्सप्रेस को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 11 दिसंबर को नागपुर रेलवे स्टेशन से नागपुर और बिलासपुर को जोड़ने वाली वंदे भारत एक्सप्रेस को झंडी दिखाकर रवाना किया। प्रधानमंत्री ने वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन के डिब्बों का निरीक्षण किया और ऑनबोर्ड सुविधाओं का जायजा लिया। उन्होंने नागपुर और अजनी रेलवे स्टेशनों की विकास योजनाओं का भी जायजा लिया।

चितरंजन त्रिपाठी बने राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय-NSD के नए निदेशक

आखिरकार राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय- NSD को स्थायी निदेशक चितरंजन त्रिपाठी के रूप में मिल गया है। संस्कृति मंत्रालय के अंतर्गत भारत सरकार की स्वायत्त संस्था राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय विश्व पटल पर रंगमंच के लिए स्थापित रंग संस्था है। चितरंजन त्रिपाठी एनएसडी ते 12 वें निदेशक हैं। अच्छी बात यह है कि वे यहां के 9वें स्नातक भी हैं, जिन्होंने निदेशक का पद भार सम्भाला है। श्री त्रिपाठी राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय के 1996 बैच के स्नातक हैं।