Skip to main content

 'लोग बिस्तर में घुसकर उर्फी जावेद की तस्वीरें देख रहे हैं, लाइक कर रहे', क्यों बोले चेतन भगत?

साहित्य आज तक के मंच पर चेतन भगत ने उर्फी जावेद पर बात करते हुए कहा, यूथ उर्फी जावेद की फोटो लाइक कर रहा है. इंटरव्यू में क्या बोलोगे जाकर मेरे को उर्फी की सारी ड्रेसेस पता है. उर्फी की गलती नहीं है. वो अपना करियर बना रही है. लोग बिस्तर में घुस कर उर्फी की तस्वीरें देख रहे हैं.  


साहित्य आज तक 2022 का शानदार आगाज हो चुका है. साहित्य आज तक के दूसरे दिन बेहतरीन लेखक चेतन भगत ने दस्तक दी. साहित्य के दरबार में चेतन भगत ने आज की युवा पीढ़ी और फैशन क्वीन उर्फी जावेद पर बात की है. जानते हैं कि चेतन भगत ने सोशल मीडिया सेसेशन उर्फी को लेकर क्या कहा.   

उर्फी को लेकर क्या बोले चेतन भगत   
चेतन भगत अपनी लेखनी के साथ-साथ बेबाक अंदाज के लिये जाने जाते हैं. साहित्य आज तक के मंच पर चेतन भगत ने आज के युवाओं को किताबें पढ़ने की सलाह दी. चेतन कहते हैं कि इंटरनेट और डेटा अच्छी चीज है, लेकिन इसने हमारे यूथ को कमजोर बना दिया है. लड़के फोन में सारा दिन रील्स देखते रहते हैं. फोटो लाइक करते रहते हैं.  

आगे वो उर्फी जावेद पर बात करते हैं और कहते हैं, यूथ उर्फी जावेद की फोटो लाइक कर रहा है. इंटरव्यू में क्या बोलोगे जाकर मेरे को उर्फी की सारी ड्रेसेस पता है. उर्फी की गलती नहीं है. वो अपना करियर बना रही है. लोग बिस्तर में घुस कर उर्फी की तस्वीरें देख रहे हैं. आज मैं भी उर्फी की तस्वीरें देखकर आया हूं. आज उसने दो फोन पहने हैं. चेतन भगत ने ये भी कहा कि उर्फी जावेद जैसे लोग मिलते रहते हैं. इस पर कहानियां बनती हैं.   


उल्लू टीवी पर भी की बात   

उर्फी जावेद के अलावा चेतन भगत ने उल्लू टीवी पर भी खुल कर बात की. चेतन कहते हैं कि उल्लू क्या होता है, जो रात को जागता है. उल्लू टीवी वो है जो रात को देखा जाता है. चेतन भगत का कहना है कि उनके वक्त पर एंटरटेनमेंट की कमी थी.  सलिये उन्होंने लिखना चालू किया. चेतन ने आगे कहा कि जिस उम्र में पढ़ाई करनी होती है उसी उम्र में डेट करने, गर्लफ्रेंड बनाने की इच्छा भी बहुत होती है. लेकिन अच्छी गर्लफ्रेंड होने से नौकरी नहीं मिलेगी. हां ऐसा जरूर हो सकता है कि अच्छी नौकरी हो तो गर्लफ्रेंड अच्छी मिल जाएगी.   

चेतन कहते हैं कि मेरा मकसद है कि मैं यूथ को बेस्ट डायरेक्शन में लाऊं. रीडिंग पॉजिटिव चीज है, जो आपके ध्यान को बढ़ाती है. लोगों को फोन की लत लग चुकी है, जो कि अच्छा नहीं है.  

Comments

Most Popular

विज्ञान से लाभ-हानि

आधुनिक युग को 'विज्ञान का युग' कहा जाता है। आधुनिक जीवन में विज्ञान ने हर क्षेत्र में अद्भुत क्रांति उत्पन्न कर रखी है। इसने हमारे जीवन को सहज व सरल बना दिया है। विज्ञान ने मानव की सुख-सुविधा के अनेक साधन जुटाएँ हैं। टेलीफ़ोन, टेलीविजन, सिनेमा, वायुयान, टेलीप्रिंटर आदि विज्ञान के ही आविष्कार हैं। विद्युत के

प्रधानमंत्री मोदी ने किया एम्स नागपुर राष्ट्र को समर्पित

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज, 11 दिसंबर को एम्स नागपुर राष्ट्र को समर्पित किया। प्रधानमंत्री ने नागपुर एम्स परियोजना मॉडल का निरीक्षण भी किया और इस अवसर पर प्रदर्शित माइलस्टोन प्रदर्शनी गैलरी का अवलोकन किया।

 संघर्ष जितना अधिक होगा, संवेदना उतनी ही अधिक छुएगीः ऊषा किरण खान

साहित्य आजतक के मंचपर अंतिम दिन 'ये जिंदगी के मेले' सेशन में देशकी जानी मानी लेखिकाओं ने साहित्य, लेखन और मौजूदा परिदृश्य पर बातें कीं. इनमें लेखिका उपन्यासकार डॉ. सूर्यबाला, लेखिका ममताकालिया, लेखिका ऊषाकिरण खान शामिल हुईं. 

 प्रधानमंत्री मोदी ने नागपुर रेलवे स्टेशन से वंदे भारत एक्सप्रेस को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 11 दिसंबर को नागपुर रेलवे स्टेशन से नागपुर और बिलासपुर को जोड़ने वाली वंदे भारत एक्सप्रेस को झंडी दिखाकर रवाना किया। प्रधानमंत्री ने वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन के डिब्बों का निरीक्षण किया और ऑनबोर्ड सुविधाओं का जायजा लिया। उन्होंने नागपुर और अजनी रेलवे स्टेशनों की विकास योजनाओं का भी जायजा लिया।

चितरंजन त्रिपाठी बने राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय-NSD के नए निदेशक

आखिरकार राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय- NSD को स्थायी निदेशक चितरंजन त्रिपाठी के रूप में मिल गया है। संस्कृति मंत्रालय के अंतर्गत भारत सरकार की स्वायत्त संस्था राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय विश्व पटल पर रंगमंच के लिए स्थापित रंग संस्था है। चितरंजन त्रिपाठी एनएसडी ते 12 वें निदेशक हैं। अच्छी बात यह है कि वे यहां के 9वें स्नातक भी हैं, जिन्होंने निदेशक का पद भार सम्भाला है। श्री त्रिपाठी राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय के 1996 बैच के स्नातक हैं।