Skip to main content

 क्यों नहीं चल रहीं बॉलीवुड फिल्में, क्या है बायकॉट ट्रेंड की वजह?

प्रसून जोशी से पूछा गया कि बॉलीवुड की फिल्में क्यों नहीं चल रही हैं? क्या क्रिएटिवटी की धारा सूख गई है? इसपर वो कहते हैं- फिल्म इंडस्ट्री को आत्ममंथन की जरूरत है. बॉलीवुड को जीवित जड़ों के साथ उगना होगा. उन्हें समझना होगा कि उनकी जड़ें कहां हैं? बहुत जरूरी है फिल्ममेकर्स का अपनी फिल्म के विषय को दूरदर्शिता के हिसाब से चुनना. 


साहित्य आजतक 2022 में शनिवार के दिन बॉलीवुड के फेमस लेखक, गीतकार और सीबीएफसी के चेयरपर्सन प्रसून जोशी ने शिरकत की. प्रसून हमेशा अपनी उपस्थिति से हर बार साहित्य आजतक के मंच को और रोशन करते हैं. इस बार उन्होंने बॉलीवुड की फिल्मों के ना चलाने और बॉयकॉट बॉलीवुड ट्रेंड समेत कई चीजों के बारे में बात की.  

prasoon Joshi
क्यों नहीं चल रहीं बॉलीवुड की फिल्में?  

प्रसून जोशी से पूछा गया कि बॉलीवुड की फिल्में क्यों नहीं चल रही हैं? क्या क्रिएटिवटी की धारा सूख गई है? इसपर वो कहते हैं- फिल्म इंडस्ट्री को आत्ममंथन की जरूरत है. मैंने पहले भी कहा है कि शुरुआत में जब फिल्में बनना शुरू हुई थी, तब उनके पास अडवांटेज था. उन्हें ऑथेंनिक स्टोरी मिल रही थी.  वो कहां से आ रही थी? पौराणिक कहानियों से, रबिन्द्रनाथ और चट्टोपाध्याय से, इन सभी से कहानियां आ रही थीं. वो हमारी संस्कृति से जुड़ी कहानियां थीं. लेकिन कहीं ना कहीं हमारी फिल्म इंडस्ट्री जड़ों से दूर एक बबल में सीमित हो गई. आप अगर जड़ों से जुड़े नहीं होंगे तो आम आदमी का सत्य आपके काम में नहीं होगा.

प्रसून आगे बताते हैं- कई फिल्मकारों से मेरी बात हुई है, जिन्होंने कहा कि हमने जिंदगी में कभी किसान नहीं देखा. लेकिन उन्होंने फिल्म में किसान दिखाए हैं. मैं कहूंगा कि ऐसे तो वो फैन्सी ड्रेस वाला किसान हो सकता है लेकिन जमीन से निकला किसान नहीं हो सकता. आगे उन्होंने अपनी कविता की पंक्तियां सुनाते हुए कहा - जड़ों से कटे पेड़ नहीं होते वो गुब्बारे होते हैं, पेड़ होने के लिए बीज, उर्वर धरती और हवा की जरूरत है. पेड़ साधना है और गुबारे कामना. बॉलीवुड को जीवित जड़ों के साथ उगना होगा. उन्हें समझना होगा कि उनकी जड़ें कहां हैं?  मैं मानता हूं कि बॉलीवुड में अच्छी सोच वाले लोग अभी भी हैं, जो साथ में बैठेंगे तो कोई ना कोई सोल्यूशन जरूर निकाल लेंगे. इस युग में आलोचना और विरोधाभास को समझना और उससे सीखकर आगे बढ़ना जरूरी है. मुझे लगता है कि वो प्रक्रिया शुरू हो चुकी है और हम आगे उज्ज्वल भविष्य देखेंगे. 

बॉयकॉट बॉलीवुड ट्रेंड पर बोले प्रसून  

बॉयकॉट बॉलीवुड पर प्रसून जोशी ने कहा, 'एक स्वाभिवक प्रक्रिया होती है, विचार आपस में टकराते हैं. अगर वो सहजता से हो रहा है तो विचार मंथन के लिए वो जरूरी भी है. ताकि हम समझ पाएं कि कहा हमें जाना है...' 

खो चुकी है बॉलीवुड की क्रेडिबिलिटी...  

आज के समय में माना जा रहा है कि बॉलीवुड अपनी क्रेडिबिलिटी खो रहा है. इस बारे में प्रसून जोशी से उनके विचार पूछे गए तो उन्होंने कहा, 'फिल्मों के रोल मे पहले बहुत फर्क था. शुक्रवार को फिल्में देखने का इंतजार लोग करते थे. लोगों के पास ऑप्शन बहुत थे. पहले मां फोन करती थी कि घर में अच्छा खाना बना है जल्दी घर आ जा. वो जल्दी आता और एन्जॉय करता था. लेकिन आज के समय में आदमी को शाम तक आते-आते बदहजमी हो चुकी होती है.  

उन्होंने आगे कहा- आज के समय में उसने घर पहुंचते हुए बहुत कुछ छोटी-छोटी चीजें सोशल मीडिया पर देख ली होती है. सोशल मीडिया पर देखने के लिए बहुत कुछ है तो वो सिनेमा में फिल्म देखने के लिए तरस नहीं रहा है. पहले आपका स्टार के साथ रिश्ता अलग था. आप सोचते थे कि वो इंसान कैसा होगा? अब ऐसा नहीं है. आज आप उसे देख सकते हैं और पॉज भी कर सकते हैं. तो चीजें अब बदल चुकी हैं. बहुत जरूरी है फिल्ममेकर्स का अपनी फिल्म के विषय को दूरदर्शिता के हिसाब से चुनना.   

क्यों आसान भाषा का नहीं करते इस्तेमाल?  
प्रसून से पूछा गया कि वो कठिन और शुद्ध हिंदी भाषा का इस्तेमाल अपनी लेखनी में करते हैं और उसे उन्होंने अपने काम में भी रखा है. जबकि कई दूसरे लेखक हैं जो आसान भाषा का इस्तेमाल करते हैं. तो क्या आपको ऐसा करने का मन नहीं करता. इसपर उन्होंने कहा कि चाट का ठेला कितना भी अच्छा हो, लेकिन घर के खाने की बात ही कुछ और है. प्रसून मानते हैं कि कोई भी भाषा इसमें सक्षम नहीं है कि मनुष्य के दिल में जो उमड़ रहा है, उसे वो किसी के सामने रख सके. तभी बॉडी लैंग्वेज की बात होती है. उन्होंने कोरोना के दौरान मास्क लगाने और आंखों से बातें करने का उदाहरण भी दिया. उन्होंने इसके लिए 'सीखो ना नैनों की भाषा' गाना गाया.   

Comments

Most Popular

विज्ञान से लाभ-हानि

आधुनिक युग को 'विज्ञान का युग' कहा जाता है। आधुनिक जीवन में विज्ञान ने हर क्षेत्र में अद्भुत क्रांति उत्पन्न कर रखी है। इसने हमारे जीवन को सहज व सरल बना दिया है। विज्ञान ने मानव की सुख-सुविधा के अनेक साधन जुटाएँ हैं। टेलीफ़ोन, टेलीविजन, सिनेमा, वायुयान, टेलीप्रिंटर आदि विज्ञान के ही आविष्कार हैं। विद्युत के

प्रधानमंत्री मोदी ने किया एम्स नागपुर राष्ट्र को समर्पित

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज, 11 दिसंबर को एम्स नागपुर राष्ट्र को समर्पित किया। प्रधानमंत्री ने नागपुर एम्स परियोजना मॉडल का निरीक्षण भी किया और इस अवसर पर प्रदर्शित माइलस्टोन प्रदर्शनी गैलरी का अवलोकन किया।

 संघर्ष जितना अधिक होगा, संवेदना उतनी ही अधिक छुएगीः ऊषा किरण खान

साहित्य आजतक के मंचपर अंतिम दिन 'ये जिंदगी के मेले' सेशन में देशकी जानी मानी लेखिकाओं ने साहित्य, लेखन और मौजूदा परिदृश्य पर बातें कीं. इनमें लेखिका उपन्यासकार डॉ. सूर्यबाला, लेखिका ममताकालिया, लेखिका ऊषाकिरण खान शामिल हुईं. 

 प्रधानमंत्री मोदी ने नागपुर रेलवे स्टेशन से वंदे भारत एक्सप्रेस को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 11 दिसंबर को नागपुर रेलवे स्टेशन से नागपुर और बिलासपुर को जोड़ने वाली वंदे भारत एक्सप्रेस को झंडी दिखाकर रवाना किया। प्रधानमंत्री ने वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन के डिब्बों का निरीक्षण किया और ऑनबोर्ड सुविधाओं का जायजा लिया। उन्होंने नागपुर और अजनी रेलवे स्टेशनों की विकास योजनाओं का भी जायजा लिया।

चितरंजन त्रिपाठी बने राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय-NSD के नए निदेशक

आखिरकार राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय- NSD को स्थायी निदेशक चितरंजन त्रिपाठी के रूप में मिल गया है। संस्कृति मंत्रालय के अंतर्गत भारत सरकार की स्वायत्त संस्था राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय विश्व पटल पर रंगमंच के लिए स्थापित रंग संस्था है। चितरंजन त्रिपाठी एनएसडी ते 12 वें निदेशक हैं। अच्छी बात यह है कि वे यहां के 9वें स्नातक भी हैं, जिन्होंने निदेशक का पद भार सम्भाला है। श्री त्रिपाठी राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय के 1996 बैच के स्नातक हैं।