Skip to main content

 कबीर बेदी की किस बात से परवीन बॉबी को हुआ था प्यार, एक्टर के करियर पर पड़ा था रिश्ते में तनाव का असर

कबीर बेदी ने बॉलीवुड में तो उन्होंने नाम कमाया ही मगरइंटरनेशनल सिनेमा, खासकर इटली के सिनेमा में उन्होंने बहुत पॉपुलैरिटी पाई. साहित्य आजतक 2022 के मंचपर कबीर ने अपनेइंटरनेशनल स्टारडम पर तो बातकी ही, साथही परवीन बॉबीके साथ अपनेचर्चित रिश्ते पर भी दिलखोलकर बात की.  


एक्टर कबीर बेदीको हिंदी फिल्म दर्शक अधिकतर 'नागिन' 'कच्चे धागे' 'खूनभरी मांग' जैसीफिल्मों से यादरखते हैं. लेकिन उन्होंने जितना काम भारतीय सिनेमा  में क्या, उससे ज्यादा बड़ीपहचान उनकी इंटरनेशनल सिनेमा मेंहै. खासकर इटलीमें तो कबीरबेदी बड़े सुपरस्टार बने और उन्हें उन्हें इंडिया का पहलाइंटरनेशनल सुपरस्टार कहाजा सकता है.   

70s और 80s के दशकमें कबीर बेदीको अपने इंटरनेशनल फिल्म करियर में को बड़ीकामयाबी मिल रहीथी. मगर यहांभारत में उनकाचर्चा जिन चीजों के लियाज्यादा हुआ वो है टॉपबॉलीवुड एक्ट्रेस परवीन बॉबी के साथउनका रिलेशनशिप. साहित्य आजतक 2022 मेंपहुंचे कबीर बेदीने बताया कि इस रिलेशनशिप में क्याकुछ ऐसा था जो बहुतउलझा हुआ था. कबीर ने बताया कि इस रिश्ते की वजहसे कई बारऐसी नौबत भी आई कि वो अपनेकरियर और निजीजिन्दगी के बीचफंस गए.  

अब कबीरबेदी एक लेखकभी हैं और उनकीकिताब 'स्टोरीज आई मस्टटेल' एक सालके अंदर बेस्ट सेलर बन गई.  साथ ही उनकीकिताब ने अमेजन का 'मोस्ट पॉपुलर बुकअवार्ड' भी जीता. कबीर ने फेमऔर पैसा दोनों कमाया और एक समयबाद दोनों चलागया. लेकिन अब वो बतौरलेखक पूरे पैशनके साथ आगेबढ़ रहे हैं.  


बड़ा इंटरनेशनल स्टार लेकिन भारत में नहीं मिली लोकप्रियता  

अपनेकरियर के बारेमें बात करतेहुए कबीर बेदीने बताया, 'उन दिनों में किसीइंडियन एक्टर ने नहींसोचा था कि मैंइंटरनेशनल करियर बनाऊंगा.  भलेही मैं इटलीमें फेमस हो गयाथा, लेकिन लोगों का कोलोनियल माइन्ड सेटभी था कि अमेरिका में, इंग्लैंड में कुछनहीं किया. तो प्रेस ने मुझेइतनी पब्लिसिटी नहींदी. सोशल मीडिया नहीं था, तो मुझे नुकसान हुआ. लेकिन इटली मेंमेरे काम और फेमपाना मेरे लिएबहुत खुशी और संतुष्टि की बातथी'.

कबीरने बताया कि उन्हें इंडिया मेंपीआर के तौरतरीकों और मीडिया में अपनानाम बनाने के हुनरभी नहीं पताथे. इस वजहसे भी उनकीइंटरनेशनल पॉपुलैरिटी से भारतमें उनकी लोकप्रियता को ज्यादा हाइप नहींमिल रहा था.   

नाजुक स्थिति में मिलीं परवीन बॉबी

कबीरबेदी ने बताया कि परवीन बॉबी उनसेतब मिलीं, जब बॉलीवुड एक्टर डैनीडेन्जोंगपा से उनकारिश्ता बस खत्मही हुआ था. कबीर ने बताया, 'वो बहुतनाजुक थी. मैंसमझ गया था कि उस ब्रेकअप में बहुतदर्द था'. ब्रेकअप से निकलकर आईं परवीन ने कबीरके साथ रहनेकी बात कहीऔर इमोशनल होकरउन्हें पकड़ लिया. कबीर ने बताया कि उन्होंने बदले मेंपलटकर परवीन को नहींपकड़ा. कबीर ने आगेकहा, 'बाद मेंपरवीन ने बताया कि इस जेस्चर से ही उसेप्यार हो गया- म्युचुअल सेंसिटिविटी'   

जब एक खास डिनर पर उठ कर चल दीं परवीन बॉबी  

इंटरनेशनल लेवल पर कबीरबेदी की कामयाबी तब मुसीबत बनी जब परवीन उनके साथइटली गईं. कबीरबताते हैं, 'हिंदुस्तान में जब थे कोईसमस्या नहीं थी. जब इटली आए और लोगों ने परवीन को साइडलाइन करना शुरूकर दिया तो उन्हें समस्या होनेलगी. प्रोफेशनल लेवलपर कमाल की चीजें हो रहीथीं, पर्सनल लेवलपर कमाल की चीजें हो रहीथीं, पर्सनल लेवलपर ट्रेजिक चीजें हो रही थीं'.   

Comments

Most Popular

घर में रखने योग्य मूर्तियां

हिंदू धर्म के अनुसार घर में सभी देवी-देवताओं के लिए एक अलग स्थान बनाया जाता है। हिंदू धर्म में देवताओं के लिए जो स्थान बता रखे हैं, लोगों ने वैसे ही अपने घरों में देवताओं को स्थापित किया है। आप सभी के घर में देवी-देवताओं का मंदिर जरूर होगा। सबसे पहले आपको बता दें कि घर के मंदिर को हमेशा ही साफ रखना चाहिए। मंदिर में किसी भी तरह की खंडित मूर्ति ना रखें। हम आपको ऐसे देवी-देवताओं के बारे में बताएंगे जिनकी पूजा घर पर नहीं होनी चाहिए। 1. भैरव देव:   भैरव देव भगवान शिव के एक अवतार हैं। भैरव देव की मूर्ति कभी भी अपने घर के मंदिर में नहीं रखनी चाहिए। अब आप बोलेंगे कि ऐसा क्यों है। ऐसा इसलिए है क्योंकि भैरव तंत्र विद्या के देवता माने जाते हैं। भैरव देव की पूजा करनी चाहिए, परंतु घर के अंदर ऐसा नहीं करना चाहिए। 2. नटराज: कुछ लोग ऐसे होंगे जो नटराज जी की मूर्ति को घर में रखते होंगे। नटराज की मूर्ति देखने में तो बहुत सुंदर लगती है।यह मूर्ति भगवान शिव के रौद्र रूप की है। नटराज की मूर्ति को आप भूल कर भी घर के अंदर ना रखें, क्योंकि नटराज भगवान शिव के रौद्र रूप में है यानी भगवान शिव के क्रोधित रूप में ह

छात्रों में अनुशासनहीनता

छात्रावस्था अवोधावस्था होती है, इसमें न बुद्धि परिष्कृत होती है और न विचार। पहले वह माता-पिता तथा गुरुजनों के दबाव से ही कर्त्तव्य पालन करना सीखता है। माता-पिता एवं गुरूजनों के निमंत्रण में रहकर नियमबद्ध रूप से जीवनयापन करना ही अनुशासन कहा जा सकता है। अनुशासन विद्यार्थी जीवन का सार है। अनुशासनहीन विद्यार्थी न तो देश का सभ्य नागरिक बन सकता है और न अपने व्यक्तिगत जीवन में हो सफल हो सकता है।

भाषा सर्वेक्षण पर कालजयी किताब है भारत का भाषा सर्वेक्षण एवं भोजपुरी

भाषा सर्वेक्षण और भोजपुरी के संदर्भ में पृथ्वीराज सिंह द्वारा रचित पुस्तक 'भारत का भाषा सर्वेक्षण एवं भोजपुरी' एक कालजयी किताब है, जो गहन शोध पर आधारित एक श्रमसाध्य कार्य है । इस किताब का व्यापक महत्व है। उक्त बातें इंदिरा गाँधी राष्ट्रीय कला केंद्र के अध्यक्ष सह वरिष्ठ पत्रकार राम बहादुर राय ने 'भारत का भाषा सर्वेक्षण एवं भोजपुरी' किताब के अनावरण सह परिचर्चा कार्यक्रम में कहीं। अनावरण सह परिचर्चा कार्यक्रम का आयोजन शुक्रवार को नई दिल्ली स्थित इंदिरा गाँधी राष्ट्रीय कला केंद्र के उमंग सभागार में संपन्न हुआ।

विद्यालय का वार्षिकोत्सव

उत्सव मनुष्य के जीवन में आनंद और हर्ष का संचार करते हैं। विद्यालय का वार्षिकोत्सव विद्यार्थियों के लिए बहुत महत्वपूर्ण होता है। यही वह अवसर है जब विद्यार्थी अपनी-अपनी प्रतिभाओं को दिखा सकते हैं। विद्यालय का यह उत्सव प्रायः दिसंबर मास के आस-पास मनाया जाता है। इसकी तैयारी एक महीने पूर्व ही प्रारंभ हो जाती है। इस उत्सव में विद्यालय के सभी छात्र-छात्राएँ तथा अध्यापक अध्यापिकाएँ अपना-अपना योगदान देते हैं।

फिल्म ‘आ भी जा ओ पिया’ की स्टारकास्ट ने दिल्ली में किया प्रमोशन

हाल ही में अभिनेता देव शर्मा और अभिनेत्री स्मृति कश्यप अपनी आनेवाली फिल्म ‘आ भी जा ओ पिया’ के प्रमोशन के सिलसिले में दिल्ली पहुंचे। कार्यक्रम का आयोजन नई दिल्ली के पीवीआर प्लाजा में किया गया। यह फिल्म 7 अक्टूबर, 2022 को रिलीज होगी।