Skip to main content

प्रकृति का सुहाना मोड़

सड़कों पर सन्नाटा, दफ्तरों, कारखानों और सावर्जनिक स्थानों पर पड़े ताले से भले ही मानव जीवन में ठहराव आ गया है, लेकिन लॉकडाउन के बीच प्रकृति एक नयी ताजगी महसूस कर रही है। हवा, पानी और वातावरण साफ हो रहे हैं। हम इंसानों के लिए कुछ समय पहले तक ये एक सपने जैसा था। इन दिनों प्रकृति की एक अलग ही खूबसूरती देखने को मिल रही हैं जो वर्षों पहले दिखाई देती थी। 
कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए दुनियाभर में एहतियात के तौर पर लॉकडाउन लागू किया गया है। सभी सार्वजनिक स्थल, दुकान, दफ्तर और स्कूल-कॉलेज बंद हैं। इससे प्रकृति काफी शुद्ध हुई है, जो अतिशय मानवीय हस्तक्षेप के कारण प्राणघातक बन चुकी थी।

जहरीली हवा में सांस लेने और भू-जल के विषाक्त हो जाने की वजह से हर साल हजारों लोग असामयिक मौत का शिकार हो जाते हैं। हाल के वर्षों में वायु प्रदूषण बहुत बड़ा संकट बन गया है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार विषाक्त हवा की वजह से हर साल दुनिया भर में करीब 70 लाख लोगों की मौत हो जाती है।

हर साल भारत में प्रदूषण से 20 लाख से अधिक लोगों को मौत का शिकार होना पड़ता है, जो कि दुनिया में सबसे अधिक है। अभी लॉकडाउन के करण हवा में पीएम 2.5 काफी कम हुआ है, साथ ही फैक्ट्री में काम रुकने के वजह से नाइट्रोजन डाईआक्साइड में भी कमी आयी है।

मानव गतिविधियों में ठहराव आने से दुनिया के कई शहरों की हवा पिछले साल की तुलना में पीएम लेवल में काफी कमी आयी है। वैज्ञानिकों का भी मानना हैं कि वायुमंडल के तापमान को बढ़ाने वाले प्रदूषण में कमी लाकर आसमान को साफ रखा जा सकता है और प्रदूषण से होनेवाली मौत को रोका जा सकता है।

वायु गुणवत्ता आंकड़ों के विश्लेषण से साफ है कि लॉकडाउन के पहले हफ्ते में पिछले पांच वर्ष के मुकाबले सबसे कम वायु प्रदूषण दर्ज किया गया। हालांकि वायु गुणवत्ता जांचने की कवायद मात्र बड़े शहरों तक ही सीमित है। लॉकडाउन के दौरान दिल्ली, मुंबई ही नहीं बल्कि दुनिया के कई शहरों की भी हवा साफ हुई है।

दुनिया के 10 प्रमुख शहरों में किए गए अध्ययन के अनुसार नयी दिल्ली, सिओल, मुंबई, वुहान की हवा में काफी सुधार देखा गया है। चीन के वुहान में हफ्ते के लॉकडाउन में पीएम 2.5 का स्तर जो फरवरी 2019 में 63.2 था, वह उसी अवधि में इस साल घटकर 36.8 दर्ज किया गया है। इसके अलावा लॉस एंजिल्स, लंदन की हवा में प्रदूषण का स्तर काफी कम हुआ है। लॉकडाउन में लगभग 78 प्रतिशत शहरों की हवा की गुणवत्ता में सुधार हुआ है।

दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की एक रिपोर्ट के मुताबिक लॉकडाउन के करण नई दिल्ली में यमुना नदी का पानी भी साफ हुआ है। यमुना में जैविक ऑक्सीजन डिमांड स्तर में 33 प्रतिशत का सुधार हुआ है। यमुना में फेंके जानेवाले विषैले कचरो में कमी आयी है। हालांकि विशेषज्ञ मानते हैं कि यह सुधार कुछ समय के लिए ही है, लॉकडाउन के बाद आर्थिक गतिविधियों के शुरू होने के बाद प्रदूषण फिर से उसी स्तर पर पहुंच जायेंगे।

पिछले कुछ वर्षों से गंगा नदी को लेकर अभियान चलाये जा रहे हैं, लेकिन अनेक प्रयासों के बाद भी गंगा का पानी पीने लायक नहीं हुआ था, लेकिन लॉकडाउन के बीच शहरों में प्रदूषण ना होने से गंगा नदी का पानी पीने योग्य हो गया है।

इन दिनों गंगा के जल में उल्लेखनीय सुधार नजर आ रहा है। कई दशकों के बाद गंगा जल पीने लायक हुआ है, कई जगह इस नदी जल की गुणवत्ता का परीक्षण किया गया और इसे पीने लायक पाया गया। इन दिनों कानपुर में भी गंगा साफ हुई हैं, क्योंकि आजकल विषैले औद्योगिक अपशिष्टों का गंगा में गिरना बंद है। इतना ही नहीं कई जगह पर गंगा का पानी स्नान करने योग्य भी हो गया है।

- भावना भारती


Comments

Post a Comment

Most Popular

प्रवीण मिश्रा को दिल्ली में मिला मीडिया एक्सेलेंस का बेस्ट प्रोड्यूसर अवार्ड

बिहार के मधुबनी जिला में खजौली थाना के सुक्की गांव के प्रवीण कुमार मिश्रा को मीडिया में उत्कृष्ट योगदान के लिए मीडिया फेडरेशन ऑफ इंडिया के बेस्ट प्रोड्यूसर अवार्ड से सम्मानित किया गया है। प्रवीण कुमार मिश्रा को यह सम्मान मीडिया में उत्कृष्ट योगदान के लिए दिया गया है।

ईमानदारी की श्रेष्ठता

अजीब स्वभाव है मानव का! हमारी भले ही ईमान से जान पहचान ना हो, पर हम चाहते हैं कि हमारे संपर्क में आने वाले प्रत्येक व्यक्ति ईमानदार हों। व्यापार में, व्यवहार में , साहित्य में या संसार में सभी जगह ईमानदारी की मांग है।

कोरोना वायरस को भगाने के लिए ऐसे बढ़ाएं अपनी शक्ति

कोरोना वायरस से बचने के लिए जितना जरूरी लॉकडाउन है, उससे ज्यादा जरूरी है इस दौरान खान-पान का ध्यान रखना। प्रतिरोधक क्षमता यानी इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए डॉक्टर पौष्टिक आहार की सलाह दे रहे हैं। जिला अस्पताल के एसआईसी डॉक्टर एके सिंह ने बताया कि आयुष मंत्रालय की ओर से जारी निर्देश को अगर लोग मान ले तो निश्चित तौर पर लोगों की प्रतिरोधक क्षमता मजबूत मजबूत होगी। उन्होंने अपील की है कि लोग लॉकडाउन का पालन जरूर करें । आयुष मंत्रालय की सलाह- 1. पूरे दिन गर्म पानी पीते रहे। 2. नियमित रूप से कम से कम 30 मिनट तक योगासन, प्राणायाम और ध्यान करें। 3. घर में मौजूद हल्दी, जीरा, धनिया और लहसुन आदि मसालों का इस्तेमाल भोजन बनाने में जरूर करें। 4. जिन लोगों की प्रतिरोधक क्षमता कम है, वह चवनप्राश का सेवन करें। 5. तुलसी, दालचीनी, कालीमिर्च, सोंठ पाउडर और मुनक्के (नहीं है तो सूखी अदरक को पीसकर चूर्ण बना लें) से बनी काली चाय को दिन में एक से दो बार पिएं। 6. चाय में चीनी के बजाय गुड़ का उपयोग करें। इससे बेहतर बनाने के लिए नींबू के रस भी मिला सकते हैं। 7. सुबह और शाम दोनों नथुनों में तेल या नारियल का तेल या फिर घ

झारखंड का आदिवासी समाज और भूमि का उत्तराधिकार!

यूं तो झारखंड के आदिवासी समाज में औरतों की स्थिति, अन्य समाज की स्त्रियो की तुलना में पुरुष से संपत्ति के अधिकार की हो, तो ये उन सारी महिलाओं से पिछडी है जो अन्य क्षेत्रों में इनका अनुकरण करती है। आपको यह जानकर विस्मय होगा कि राज्य के जनजातीय समाज में महिलाओं को अचल संपत्ति में कोई वंशानुक्रम का अधिकार नहीं दिया जाता है। वर्तमान युग में, जब लैंगिक समानता का विषय विश्व भर में जोरों से चर्चा में है, यह अति अफसोसनाक है कि प्रदेश की आदिवासी महिलाओं को प्रथागत कानून के तहत भूमि के उत्तराधिकार से वंचित रखा गया है। छोटानागपुर काश्तकारी अधिनियम, 1908 कि धारा 7 एवं 8 में इस बात का उल्लेख है कि आदिवासी समाज में जमीन का उत्तराधिकार सिर्फ पुरुष वंश में ही किया जा सकता है। अर्थात, समाज की औरतों को इसका कतई अधिकार नहीं। हालांकि अधिनियम कि एक अन्य धारा पर गौर किया जाय तो यह मालूम होता  है कि यादि आदिवासी समाज में भूमि का हस्तांतरण, भेंट अथवा विनिमय किया जाना हो तो इसके लिए वंशानुगत पुरूष अथवा ‘अन्य ‘ योग्य है। जहां एक तरफ संथालपरगना के इलाके में ‘तानसेन जोम’ की परंपरा हैं, वही दूसरी तरफ संथालपरगना का

अच्छे स्वास्थ्य के लिए उचित आहार

मनुष्य का स्वास्थ्य इस बात पर निर्भर होता है कि उसका आहार कैसा है। यदि आहार संतुलित हो तो बेहतर है, परंतु यदि शरीर में किसी तत्व की कमी है तो संतुलित आहार भी उसके लिए उचित आहार नहीं होगा। इसके लिए आपको शरीर की जरूरतों के मुताबिक आहार लेना चाहिए। विदेशों में परामर्श के लिए डाइटिशियन होते हैं जो डॉक्टर के भांति स्वतंत्र रूप से प्रैक्टिस करते हैं, परंतु भारत में इस समय केवल बड़े हॉस्पिटल में ही आहार विशेषज्ञ होते हैं। स्वतंत्र प्रैक्टिस करने वाले आहार विशेषज्ञ केवल महानगरों में ही है। अगर आप डाइट के बारे किसी आम आदमी से पूछे तो उत्तर होगा कि पेट भर के खाओ और ठीक से पच जाए तो वही सही आहार है। अगर आप पूछे कि मोटापा कम करना है तो सीधा-साधा उत्तर मिलेगा कि कम खाओ और दबाकर काम करो। अपने आप वजन कम हो, छरहरा होना या बिना कमजोरी के वजन कम करना उतना आसान नहीं है, जितना आसान प्रतीत होता है, फिर भी यह कार्य कठिन भी नहीं है। प्रत्येक मनुष्य की शारीरिक क्षमता, पाचन शक्ति और जीवनशैली का भी आहार से सीधा संबंध होता है। इसलिए आहार का चुनाव करते समय इस बात का सदैव ध्यान रखें।। 1. प्रोटीनयुक्त भोजन करें: प