Skip to main content

ना धर्म देखा ना उम्र देखा, ना अमीर देखा और ना ही गरीब!

कोरोना महामारी से एक बात तो साफ हो गई कि प्रकृति ही सबसे बड़ा धर्म है। इसने किसी भी धर्म को अनदेखा नहीं किया और सब पर बराबर की मार की है। चाहे वह किसी भी धर्म का हो, अमीर हो या गरीब, कोरोना ने किसी को नहीं छोड़ा।
धर्म के नाम पर अपने आप को कोरोना से सुरक्षित नहीं रखा जा सका है। दुनिया के सबसे बड़े ईसाई धर्म में चाहे इटली हो, स्पेन हो या फिर अमेरिका इसकी मार से कोई नहीं बचा है। यहां तक कि चीन में बौद्ध धर्म के अनुयायियों को ही सबसे पहले कोरोना का कहर झेलना पड़ा है और अपने देश भारत में भी हिंदुओं पर हनुमान जी की आशीर्वाद नहीं बनी और इसी तरह इस्लाम में भी अल्लाह के बंदे को इसकी नेमत हासिल नहीं हुई। कितनी अजीब बात है कि आज कोरोना ने सारे मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारा और चर्च में ताले जड दिए गाए हैं।

इसका मतलब यह है कि अब प्रभु की प्रार्थना भी स्वीकार नहीं, जब से संसार बनी और जीवन व मनुष्य को पनपाया। तब से हम खेमों में नहीं बंटे थे। प्रकृति ने हमें बेहतर जीवन जीने के गुण दिये। हमने अपने तरीके से जीने के रास्ते को धर्मों में बांट दिए।

वर्ष 2020 की शुरुआत पूरे विश्व के लिए अच्छी नहीं रही। हर मनुष्य में संरचनाओं का आधार ही प्रकृति है। यह एक ऐसा शास्त्रपूर्ण तर्क है, जो न मानते हुए भी सर्वमान्य है। अब यह तो तय है कि जब आपको मंदिर, मस्जिद या गुरुद्वारा व चर्च नहीं बचा सके, तो स्वीकार करें कि प्रकृति ईश्वरवाद से ऊपर है। इससे साथ सीमा से अधिक छेड़छाड़ किसी भी रूप में या कभी भी हम पर एक बड़ी मार दे सकती है।

पिछले पांच दशकों को ही देख लें, दुनियाभर में बिगड़ते पर्यावरण पर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर हो-हल्ला मचा, पर वायु प्रदूषण हो, मरती नदियों हो या मिट्टी की बिगड़ती गुणवत्ता हो और प्राकृतिक वनों की कटाई हो, इन पर हमने ठीक से ध्यान नहीं दिया। वैसे अंतर्राष्ट्रीय शोर- गुल के बीच समाधान निकालने की कोशिश भी हुई, पर वे आधी-अधूरी ही रही।

यही समय है कि हम सभी गफलत भरी मान्यताओं को दरकिनार करते हुए प्रकृति के सिद्धांतों और नियमों को समझकर अपना आनेवाला समय तय करे। अपनी सीमाओं को जान ले और उल्लंघनों के दोष को समझ ले। शायद तब ही हम बच पायें। कोरोना भी प्रकृति का ही उत्पाद है और इसने इशारा कर दिया है कि अब ज्यादा खंडता स्वीकार नहीं है। हमारा पहला दायित्व इनके संरक्षण की चिंता से जुड़ा होना चाहिए।

विकास की अंधी दौड़ में विनाशा ने आंखें खोल दी, पर अभी लड़खड़ाए ही हैं, पूरी तरह गिरे नहीं। आज प्रकृति के बचने-बचाने की चिंता पर ज्यादा बात होनी चाहिए। आज जैसी महामारी दुनिया में सभी धर्मों को झेलनी पड़ रही  हैं। उसका संकेत स्पष्ट है कि प्रकृति ही सब कुछ है और बेहतर जीवन इसी से संभव है। अच्छा होगा, हम इसको जितना जल्दी समझें और अपनी जीवनशैली सुधार, हम अपना आनेवाला समय श्रेष्ठ कर सकेंगे। अगर समझ में आ जाये कि प्रकृति ही हमें बचा सकती है, तो हम मिलकर इसका नमन करे और माफी मांगते हुए उसकी अलौकिक क्षमताओं पर कार्य करें।

प्रार्थना करें कि अब कोरोना न रहे, बल्कि करो ना पर उतर आयें। प्रकृति मंत्र से ही जीवन तंत्र जुड़ा है और तब ही इस महामारी से अच्छी तरह मुकाबला कर पायेंगे।


- भावना भारती
एमिटी यूनिवर्सिटी
कोलकाता


Comments

Post a Comment

Most Popular

विज्ञान से लाभ-हानि

आधुनिक युग को 'विज्ञान का युग' कहा जाता है। आधुनिक जीवन में विज्ञान ने हर क्षेत्र में अद्भुत क्रांति उत्पन्न कर रखी है। इसने हमारे जीवन को सहज व सरल बना दिया है। विज्ञान ने मानव की सुख-सुविधा के अनेक साधन जुटाएँ हैं। टेलीफ़ोन, टेलीविजन, सिनेमा, वायुयान, टेलीप्रिंटर आदि विज्ञान के ही आविष्कार हैं। विद्युत के

प्रधानमंत्री मोदी ने किया एम्स नागपुर राष्ट्र को समर्पित

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज, 11 दिसंबर को एम्स नागपुर राष्ट्र को समर्पित किया। प्रधानमंत्री ने नागपुर एम्स परियोजना मॉडल का निरीक्षण भी किया और इस अवसर पर प्रदर्शित माइलस्टोन प्रदर्शनी गैलरी का अवलोकन किया।

 संघर्ष जितना अधिक होगा, संवेदना उतनी ही अधिक छुएगीः ऊषा किरण खान

साहित्य आजतक के मंचपर अंतिम दिन 'ये जिंदगी के मेले' सेशन में देशकी जानी मानी लेखिकाओं ने साहित्य, लेखन और मौजूदा परिदृश्य पर बातें कीं. इनमें लेखिका उपन्यासकार डॉ. सूर्यबाला, लेखिका ममताकालिया, लेखिका ऊषाकिरण खान शामिल हुईं. 

 प्रधानमंत्री मोदी ने नागपुर रेलवे स्टेशन से वंदे भारत एक्सप्रेस को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 11 दिसंबर को नागपुर रेलवे स्टेशन से नागपुर और बिलासपुर को जोड़ने वाली वंदे भारत एक्सप्रेस को झंडी दिखाकर रवाना किया। प्रधानमंत्री ने वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन के डिब्बों का निरीक्षण किया और ऑनबोर्ड सुविधाओं का जायजा लिया। उन्होंने नागपुर और अजनी रेलवे स्टेशनों की विकास योजनाओं का भी जायजा लिया।

चितरंजन त्रिपाठी बने राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय-NSD के नए निदेशक

आखिरकार राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय- NSD को स्थायी निदेशक चितरंजन त्रिपाठी के रूप में मिल गया है। संस्कृति मंत्रालय के अंतर्गत भारत सरकार की स्वायत्त संस्था राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय विश्व पटल पर रंगमंच के लिए स्थापित रंग संस्था है। चितरंजन त्रिपाठी एनएसडी ते 12 वें निदेशक हैं। अच्छी बात यह है कि वे यहां के 9वें स्नातक भी हैं, जिन्होंने निदेशक का पद भार सम्भाला है। श्री त्रिपाठी राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय के 1996 बैच के स्नातक हैं।