Skip to main content

ना धर्म देखा ना उम्र देखा, ना अमीर देखा और ना ही गरीब!

कोरोना महामारी से एक बात तो साफ हो गई कि प्रकृति ही सबसे बड़ा धर्म है। इसने किसी भी धर्म को अनदेखा नहीं किया और सब पर बराबर की मार की है। चाहे वह किसी भी धर्म का हो, अमीर हो या गरीब, कोरोना ने किसी को नहीं छोड़ा।
धर्म के नाम पर अपने आप को कोरोना से सुरक्षित नहीं रखा जा सका है। दुनिया के सबसे बड़े ईसाई धर्म में चाहे इटली हो, स्पेन हो या फिर अमेरिका इसकी मार से कोई नहीं बचा है। यहां तक कि चीन में बौद्ध धर्म के अनुयायियों को ही सबसे पहले कोरोना का कहर झेलना पड़ा है और अपने देश भारत में भी हिंदुओं पर हनुमान जी की आशीर्वाद नहीं बनी और इसी तरह इस्लाम में भी अल्लाह के बंदे को इसकी नेमत हासिल नहीं हुई। कितनी अजीब बात है कि आज कोरोना ने सारे मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारा और चर्च में ताले जड दिए गाए हैं।

इसका मतलब यह है कि अब प्रभु की प्रार्थना भी स्वीकार नहीं, जब से संसार बनी और जीवन व मनुष्य को पनपाया। तब से हम खेमों में नहीं बंटे थे। प्रकृति ने हमें बेहतर जीवन जीने के गुण दिये। हमने अपने तरीके से जीने के रास्ते को धर्मों में बांट दिए।

वर्ष 2020 की शुरुआत पूरे विश्व के लिए अच्छी नहीं रही। हर मनुष्य में संरचनाओं का आधार ही प्रकृति है। यह एक ऐसा शास्त्रपूर्ण तर्क है, जो न मानते हुए भी सर्वमान्य है। अब यह तो तय है कि जब आपको मंदिर, मस्जिद या गुरुद्वारा व चर्च नहीं बचा सके, तो स्वीकार करें कि प्रकृति ईश्वरवाद से ऊपर है। इससे साथ सीमा से अधिक छेड़छाड़ किसी भी रूप में या कभी भी हम पर एक बड़ी मार दे सकती है।

पिछले पांच दशकों को ही देख लें, दुनियाभर में बिगड़ते पर्यावरण पर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर हो-हल्ला मचा, पर वायु प्रदूषण हो, मरती नदियों हो या मिट्टी की बिगड़ती गुणवत्ता हो और प्राकृतिक वनों की कटाई हो, इन पर हमने ठीक से ध्यान नहीं दिया। वैसे अंतर्राष्ट्रीय शोर- गुल के बीच समाधान निकालने की कोशिश भी हुई, पर वे आधी-अधूरी ही रही।

यही समय है कि हम सभी गफलत भरी मान्यताओं को दरकिनार करते हुए प्रकृति के सिद्धांतों और नियमों को समझकर अपना आनेवाला समय तय करे। अपनी सीमाओं को जान ले और उल्लंघनों के दोष को समझ ले। शायद तब ही हम बच पायें। कोरोना भी प्रकृति का ही उत्पाद है और इसने इशारा कर दिया है कि अब ज्यादा खंडता स्वीकार नहीं है। हमारा पहला दायित्व इनके संरक्षण की चिंता से जुड़ा होना चाहिए।

विकास की अंधी दौड़ में विनाशा ने आंखें खोल दी, पर अभी लड़खड़ाए ही हैं, पूरी तरह गिरे नहीं। आज प्रकृति के बचने-बचाने की चिंता पर ज्यादा बात होनी चाहिए। आज जैसी महामारी दुनिया में सभी धर्मों को झेलनी पड़ रही  हैं। उसका संकेत स्पष्ट है कि प्रकृति ही सब कुछ है और बेहतर जीवन इसी से संभव है। अच्छा होगा, हम इसको जितना जल्दी समझें और अपनी जीवनशैली सुधार, हम अपना आनेवाला समय श्रेष्ठ कर सकेंगे। अगर समझ में आ जाये कि प्रकृति ही हमें बचा सकती है, तो हम मिलकर इसका नमन करे और माफी मांगते हुए उसकी अलौकिक क्षमताओं पर कार्य करें।

प्रार्थना करें कि अब कोरोना न रहे, बल्कि करो ना पर उतर आयें। प्रकृति मंत्र से ही जीवन तंत्र जुड़ा है और तब ही इस महामारी से अच्छी तरह मुकाबला कर पायेंगे।


- भावना भारती
एमिटी यूनिवर्सिटी
कोलकाता


Comments

Post a Comment

Most Popular

ईमानदारी की श्रेष्ठता

अजीब स्वभाव है मानव का! हमारी भले ही ईमान से जान पहचान ना हो, पर हम चाहते हैं कि हमारे संपर्क में आने वाले प्रत्येक व्यक्ति ईमानदार हों। व्यापार में, व्यवहार में , साहित्य में या संसार में सभी जगह ईमानदारी की मांग है।

कोरोना वायरस को भगाने के लिए ऐसे बढ़ाएं अपनी शक्ति

कोरोना वायरस से बचने के लिए जितना जरूरी लॉकडाउन है, उससे ज्यादा जरूरी है इस दौरान खान-पान का ध्यान रखना। प्रतिरोधक क्षमता यानी इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए डॉक्टर पौष्टिक आहार की सलाह दे रहे हैं। जिला अस्पताल के एसआईसी डॉक्टर एके सिंह ने बताया कि आयुष मंत्रालय की ओर से जारी निर्देश को अगर लोग मान ले तो निश्चित तौर पर लोगों की प्रतिरोधक क्षमता मजबूत मजबूत होगी। उन्होंने अपील की है कि लोग लॉकडाउन का पालन जरूर करें । आयुष मंत्रालय की सलाह- 1. पूरे दिन गर्म पानी पीते रहे। 2. नियमित रूप से कम से कम 30 मिनट तक योगासन, प्राणायाम और ध्यान करें। 3. घर में मौजूद हल्दी, जीरा, धनिया और लहसुन आदि मसालों का इस्तेमाल भोजन बनाने में जरूर करें। 4. जिन लोगों की प्रतिरोधक क्षमता कम है, वह चवनप्राश का सेवन करें। 5. तुलसी, दालचीनी, कालीमिर्च, सोंठ पाउडर और मुनक्के (नहीं है तो सूखी अदरक को पीसकर चूर्ण बना लें) से बनी काली चाय को दिन में एक से दो बार पिएं। 6. चाय में चीनी के बजाय गुड़ का उपयोग करें। इससे बेहतर बनाने के लिए नींबू के रस भी मिला सकते हैं। 7. सुबह और शाम दोनों नथुनों में तेल या नारियल का तेल या फिर घ

प्रवीण मिश्रा को दिल्ली में मिला मीडिया एक्सेलेंस का बेस्ट प्रोड्यूसर अवार्ड

बिहार के मधुबनी जिला में खजौली थाना के सुक्की गांव के प्रवीण कुमार मिश्रा को मीडिया में उत्कृष्ट योगदान के लिए मीडिया फेडरेशन ऑफ इंडिया के बेस्ट प्रोड्यूसर अवार्ड से सम्मानित किया गया है। प्रवीण कुमार मिश्रा को यह सम्मान मीडिया में उत्कृष्ट योगदान के लिए दिया गया है।

झारखंड का आदिवासी समाज और भूमि का उत्तराधिकार!

यूं तो झारखंड के आदिवासी समाज में औरतों की स्थिति, अन्य समाज की स्त्रियो की तुलना में पुरुष से संपत्ति के अधिकार की हो, तो ये उन सारी महिलाओं से पिछडी है जो अन्य क्षेत्रों में इनका अनुकरण करती है। आपको यह जानकर विस्मय होगा कि राज्य के जनजातीय समाज में महिलाओं को अचल संपत्ति में कोई वंशानुक्रम का अधिकार नहीं दिया जाता है। वर्तमान युग में, जब लैंगिक समानता का विषय विश्व भर में जोरों से चर्चा में है, यह अति अफसोसनाक है कि प्रदेश की आदिवासी महिलाओं को प्रथागत कानून के तहत भूमि के उत्तराधिकार से वंचित रखा गया है। छोटानागपुर काश्तकारी अधिनियम, 1908 कि धारा 7 एवं 8 में इस बात का उल्लेख है कि आदिवासी समाज में जमीन का उत्तराधिकार सिर्फ पुरुष वंश में ही किया जा सकता है। अर्थात, समाज की औरतों को इसका कतई अधिकार नहीं। हालांकि अधिनियम कि एक अन्य धारा पर गौर किया जाय तो यह मालूम होता  है कि यादि आदिवासी समाज में भूमि का हस्तांतरण, भेंट अथवा विनिमय किया जाना हो तो इसके लिए वंशानुगत पुरूष अथवा ‘अन्य ‘ योग्य है। जहां एक तरफ संथालपरगना के इलाके में ‘तानसेन जोम’ की परंपरा हैं, वही दूसरी तरफ संथालपरगना का

कोलकाता के प्रमुख पर्यटन स्थल

लगभग 50 लाख से भी ज्यादा आबादी वाला शहर कोलकाता, जनसंख्या के हिसाब से भारत का तीसरा सबसे बड़ा शहर है।