Skip to main content

अर्थव्यवस्था का पुनर्निर्माण!

आत्मनिर्भर भारत का विचार भारतीय लोकाचार और जन-सामान्य से सीधे जुडा हुआ है। अंग्रेजी को हराने के लिए महात्मा गांधी ने स्वदेशी के विचार का इस्तेमाल किया था। उनके लिए स्वदेशी आत्मनिर्भर की ही अभिव्यक्ति थी। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के 12 मई के संबोधन को गांधी के विचार को अपनाने और सुधार के रूप में देखा जाना चाहिए, जिसमें स्थानीयता को बढ़ावा देने का संकल्प है। यह विचार भारत को आर्थिक रूप से स्वतंत्र और आत्मनिर्भर बनाने का मार्ग प्रशस्त करता है।
विकसित देशों ने विकास के लिए दूसरे देशों के मॉडल की नकल नहीं की है। उन्होंने स्वयं ही रणनीतियां बनायी है। लेकिन हमारे नीति निर्माता विदेशी मॉडलों से अभिभूत रहे। न ही उन्हें कभी देशवासियों और उनकी उद्यमशील क्षमता पर भरोसा रहा, न ही लोकाचार व विचार प्रकिया पर उन्हें कभी यह विश्वास ही नहीं रहा कि लोगों को केन्द्र में रखकर विकास किया जा सकता है।

पिछले 70 वर्षों में नीति-निर्माताओं ने हमारे स्वदेशी उद्योगों, संसाधनो और उद्यमियों पर भरोसा ही नहीं किया। जवाहर लाल नेहरू के नेतृत्व में नीति- निर्माताओं ने विकास के रूसी मॉडल पर विश्वास किया। सार्वजनिक क्षेत्र आधारित दर्शन इस मॉडल के मूल में था। माना गया कि सार्वजनिक क्षेत्र इस देश के विकास को गति देगा और उपभोक्ता वस्तुओं से जुड़े उद्योगों के विकास में भी योगदान देगा। लेकिन उस मॉडल में  कृषि और सेवा क्षेत्र शामिल नहीं था। वर्ष 1991 में यह महसूस किया गया कि हमारी अर्थव्यवस्था जिस मॉडल पर आधारित थी, वह विफल रहा है। बढ़ते विदेशी ॠण के कारण देश मुसीबत में आ गया, विदेशी मुद्रा भंडार समाप्त हो गये थे और डिफॉल्ट का खतरा उत्पन्न हो गया था। सो, अर्थव्यवस्था को बचाने का एकमात्र वैश्वीकरण ही माना गया। अर्थव्यवस्था को बचाने का विदेशी प्रत्यक्ष निवेश व बहुराष्ट्रीय निगमों के जरिये विशेषकर विकास में तेजी आयी। सच तो यह है कि 1991 के बाद जीडीपी का जो विकास हुआ, उसका कारण विलासिता की वस्तुओं का अधिक उत्पादन और सेवा क्षेत्र में तेज वृद्धि रही। जीडीपी के विकास का लाभ हालांकि कुछ लाभार्थियों तक ही सीमित रहा।
• वस्तुतः यह विकास रोजगारहीन और बेरहम था। एक तरफ अंधाधुंध रियायत देकर विदेशी पूंजी को हमारी उन कंपनियों के अधिग्रहण की छूट दी गयी, जो पहले ही अच्छा कर रही थी। वहीं दूसरी तरफ वैश्वीकरण के नाम पर चीनी मालिक के आयात की अनुमति देकर हमने अपने रोजगार को नुकसान पहुंचाने और आर्थिक असमानता बढ़ाने का काम किया। इससे विदेशी व्यापार और चालू खाते पर भुगतान शेष में घाटा असहनीय होता गया। कई स्थानीय उद्योग-धंधे चौपट हो गये, क्योंकि उदारीकरण, सम्मिलित ही नहीं थी। बेरोजगारी और गरीबी ने लोगों को सरकारी मदद पर निर्भर बना दिया। रोजगार और भोजन के अधिकार के नये मानदंड बनने लगे। लेकिन ये नीतियां लोगों द्वारा सामाजिक-आर्थिक विकास में योगदान देने में बाधक है। विकास को अधिक भागीदार, समावेशी और रोजगारोंन्मुखी बनाने के लिए ‘यूनिवर्सल बेसिक इनकम देने की बात भी हुई। मौजूदा आर्थिक व्यवस्था में यह एकमात्र समाधान बताया जाता है, लेकिन यह लंबे समय तक नहीं चल सकता है।

-भावना भारती

Comments

Post a Comment

Most Popular

कोरोना से जुड़े अहम सवाल

आंकड़ों को दर्ज करने के मामले में भारतीय स्वास्थ्य प्रबंधन तंत्र कभी अच्छा नहीं रहा। बीमारियों के मामलों को दर्ज करने में पूर्वाग्रह की स्थिति रही है। यह स्थिति कोविड-19 महामारी में भी जारी है। उदाहरण के तौर पर तेलंगाना में छह डॉक्टर ने लिखा कि कैसे राज्य के कुल आंकड़ों में कोविड 19 से होनेवाली मौतों का जिक्र नहीं किया जा रहा है।

विष्णु भक्त नारद मुनि

भगवान विष्णु के परम भक्त नारद ब्रह्मा जी के पुत्र हैं। उन्होंने भगवान विष्णु की भक्ति और तपस्या की। नारद जी पर देवी सरस्वती की भी कृपा थी। उन्हें हर तरह की विद्या में महारत हासिल थी।

प्रकृति का सुहाना मोड़

सड़कों पर सन्नाटा, दफ्तरों, कारखानों और सावर्जनिक स्थानों पर पड़े ताले से भले ही मानव जीवन में ठहराव आ गया है, लेकिन लॉकडाउन के बीच प्रकृति एक नयी ताजगी महसूस कर रही है। हवा, पानी और वातावरण साफ हो रहे हैं। हम इंसानों के लिए कुछ समय पहले तक ये एक सपने जैसा था। इन दिनों प्रकृति की एक अलग ही खूबसूरती देखने को मिल रही हैं जो वर्षों पहले दिखाई देती थी।

ना धर्म देखा ना उम्र देखा, ना अमीर देखा और ना ही गरीब!

कोरोना महामारी से एक बात तो साफ हो गई कि प्रकृति ही सबसे बड़ा धर्म है। इसने किसी भी धर्म को अनदेखा नहीं किया और सब पर बराबर की मार की है। चाहे वह किसी भी धर्म का हो, अमीर हो या गरीब, कोरोना ने किसी को नहीं छोड़ा।

हॉलीवुड की टॉप 10 हॉरर मूवी

क्या आप को हॉरर फिल्में देखना बहुत पसंद हैं? और अगर वो हॉरर फिल्म अगर किसी सच्ची कहानी से प्रेरित हो