Skip to main content

आखिर 1 मई को ही क्यों मनाया जाता है मजदूर दिवस?

मजदूर दिवस हर साल उन लोगों की याद में मनाया जाता है जिन्होंने अपने परिश्रम से देश और दुनिया के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई हैं। किसी भी देश, समाज या संस्था के विकास में मजदूरों की अहम भूमिका होती है। मजदूर दिवस कई वर्षों से 1 मई को हो मनाया जाता है। इस दिन देश की ज्यादातर कंपनियों में छुट्टी रहती है। केवल भारत ही नहीं दुनिया के करीब 80 देश में राष्ट्रीय अवकाश रहता है।
अंतरराषट्रीय मजदूर दिवस की शुरुवात 1 मई 1886 को हुई थी, जब अमेरिका में मजदूरों ने काम करने की अवधि 8 घंटे से ज्यादा ना रखने की मांग की  थी और इसके लिए हड़ताल की थी। इस हड़ताल के दौरान शिकागो में बम धमाका हुआ था। हड़ताली प्रदर्शकारियों से निपटने के लिए पुलिस ने मजदूरों पर गोलियां चला दी और कई मजदूर मारे गएं।

शिकागो में शहीद हुए मजदूरों के याद में पहली बार मजदूर दिवस मनाया गया। इसके बाद पेरिस में सन 1889 में अंतरराष्ट्रीय समाजवादी सम्मेलन में एलान किया गया कि शिकागो में मारे गए निर्दोष लोगो की याद में 1 मई को अंतरराष्ट्रीय मजदूर दिवस मनाया जायेगा और इस दिन सभी कामगारों और श्रमिकों का अवकाश रहेगा। तब से ही भारत समेत दुनिया के करीब 80 देश में मजदूर दिवस को राष्ट्रीय अवकाश के रूप में मनाया जाने लगा।

लॉकडाउन में मजदूरों की स्थिति
लॉकडाउन के दौरान काम करने वाले मजदूर के पास कोई काम नहीं है। बंगाल के जूट मिल में काम करने वाले मजदूर लॉकडाउन में घर में बैठे है। आज उनके पास सिर्फ वो पुरानी यादें हैं जब इसी मजदूर दिवस के दिन छुट्टी का भरपूर आनंद उठाते थे। लेकिन इस बार सिर्फ मायूसी है। इनके पास ना तो कोई काम है और ना कोई मेहनाताना। ये मजदूर पूरी तरह जुट मिल पर ही निर्भर हैं, मगर लॉकडाउन ने इन्हें 2 वक़्त की रोटी के लिए भी मोहताज बना दिया है। लॉकडाउन का सबसे बुरा असर उन कामगारों पर पड़ा है, जो अपने घर और अपनों से दूर 2 वक़्त की रोटी कमाने के लिए निकले तो थे। उनके पास ना तो रोजगार है ना ही पैसा जिससे वह अपना पेट पाल सके।

देश के विकास में... बंगाल के विकास में इन मजदूरों का बड़ा योगदान है। लेकिन लॉकडाउन ने इन मजदूरों को पेट पर गमछा बांधकर दिन गुजारने के लिए मजबूर कर दिया है। राज्य सरकार की ओर से भी कोई खास मदद इन्हें नहीं मिल पा रही है। आज अंतरराष्ट्रीय मजदूर दिवस पर हम इन मजदूरों को सलाम करते हैं।


-प्रेरणा यादव
एमिटी यूनिवर्सिटी कोलकाता


Comments

Post a Comment

Most Popular

झारखंड का आदिवासी समाज और भूमि का उत्तराधिकार!

यूं तो झारखंड के आदिवासी समाज में औरतों की स्थिति, अन्य समाज की स्त्रियो की तुलना में पुरुष से संपत्ति के अधिकार की हो, तो ये उन सारी महिलाओं से पिछडी है जो अन्य क्षेत्रों में इनका अनुकरण करती है। आपको यह जानकर विस्मय होगा कि राज्य के जनजातीय समाज में महिलाओं को अचल संपत्ति में कोई वंशानुक्रम का अधिकार नहीं दिया जाता है। वर्तमान युग में, जब लैंगिक समानता का विषय विश्व भर में जोरों से चर्चा में है, यह अति अफसोसनाक है कि प्रदेश की आदिवासी महिलाओं को प्रथागत कानून के तहत भूमि के उत्तराधिकार से वंचित रखा गया है। छोटानागपुर काश्तकारी अधिनियम, 1908 कि धारा 7 एवं 8 में इस बात का उल्लेख है कि आदिवासी समाज में जमीन का उत्तराधिकार सिर्फ पुरुष वंश में ही किया जा सकता है। अर्थात, समाज की औरतों को इसका कतई अधिकार नहीं। हालांकि अधिनियम कि एक अन्य धारा पर गौर किया जाय तो यह मालूम होता  है कि यादि आदिवासी समाज में भूमि का हस्तांतरण, भेंट अथवा विनिमय किया जाना हो तो इसके लिए वंशानुगत पुरूष अथवा ‘अन्य ‘ योग्य है। जहां एक तरफ संथालपरगना के इलाके में ‘तानसेन जोम’ की परंपरा हैं, वही दूसरी तरफ संथालपरगना का

धरती का सबसे छोटा बच्चा!

काका उदास थे। उदासी उनके पास कोई पड़ा कारण नहीं था। बदलती आबोहवा से जब भी परेशानी होती है, उदासी उनके चेहरे पर बैठ जाती है। जब कोई चिड़िया गीत गाती हुई फुर्र से उड़ती है या कोई वृक्ष तेज हवा में घूमने लगता है, तब जाकर उनका चेहरा सामान्य हो पाता है। वे बड़ी देर से चुप बैठे थे। जो व्यक्ति खुद में उतर रहा हो या सामने किसी दृश्य को टटोल रहा हो, उसे टोकना अच्छी बात नहीं है। मौन में भी मजे है। मैं कभी-कभी सोचने लगती हूं कि पृथ्वी पर चिड़िया कब आयी होगी। हठात काका का मौन टूटा। वे मुझसे पूछ रहे थे कि तुम्हें क्या लगता है, पृथ्वी पर मानव पहले आया होगा और बहुत दिनों के बाद जब वह बोर होने लगा होगा, तब चिड़िया बनायी गयी होगी! मुझे चुप देख कहने लगे कि मनुष्य के पास चिड़िया बनाने का कोई हुनर नहीं है। इतने उपकरण और होशियार हो जाने के बाद, अगर आज भी मानव चिड़िया बनाने बैठे तो असफलता ही हाथ लगेगी। इस बात से यह साबित होता है कि मानव बाद में आया होगा, चिड़िया पहले आयी होगी। वे कहने लगे कि वृक्ष चिड़िया का घर तो होता ही है, साथ ही उनका जीवन भी होता है। पृथ्वी पर पहले वृक्षों को लगाया गया होगा कि चिड़िया आ

कोरोना काल में सुकून देने वाला भजन लॉन्च, पत्रकार से भजन गायक बने हरीश ने पूछा- तो क्या मेरा कोई कन्हैया नहीं

कोरोना के इस संकट काल में चारों ओर भय और निराशा का माहौल है। लोग डरे हुए हैं और डिप्रेशन के शिकार हो रहे हैं। कष्ट की इस घड़ी में ताजा हवा के झोंके की तरह है वरिष्ठ पत्रकार और लेखक हरीश चंद्र बर्णवाल का नया भजन। भगवान कृष्ण की तरह खूबसूरत है यह भजन- 'तो क्या मेरा कोई कन्हैया नहीं।' इस भजन को सुनकर आप अपने सारे गम भूल जाएंगे।

पर्शियन रामायण की विरासत पर अंतर्राष्ट्रीय कार्यशाला संपन्न

"रामायण की सचित्र पर्शियन मैन्युस्क्रिप्ट्स" विषय पर एक कार्यशाला का आयोजन किया गया। अयोध्या शोध संस्थान के निदेशक डॉ लवकुश द्विवेदी के मुख्य आतिथ्य में आयोजित "रामायण की सचित्र पर्शियन मैन्युस्क्रिप्ट्स" विषय पर इंडोलोजी फाउंडेशन द्वारा आयोजित इस कार्यक्रम में मलेशिया से डॉ रामिन, ईरान से डॉ आमिर तथा मारिशस से शैलेन रामकिसुन शामिल हुए। भारत से पुरातत्वविद डॉ बीआर मणि एवं कला इतिहास के मर्मज्ञ प्रो दीनबंधु पांडेय समीक्षा पैनल में शामिल रहें।