Skip to main content

मरुकिया अस्पताल परिसर की साफ-सफाई कर युवाओं ने पेश की मिसाल

कोरोना संकट काल में भले ही गांव-गली के साथ अस्पताल को स्वच्छ रखने का दावा किया जा रहा हो, लेकिन मधुबनी के मरुकिया उप स्वास्थ्य केन्द्र परिसर में बरसात के दौरान जलजमाव के कारण चारों ओर गंदगी का सैलाब देखने को मिला। गंदगी के कारण कई तरह की बीमारी फैलने की आशंका होने बाद भी जब साफ-सफाई के लिए कोई कदम नहीं उठाया गया तो इलाके के नौजवानों से इसकी जिम्मेदारी अपने कंधे पर ले ली। 
इलाकों के युवाओं ने पहल कर संगठित रूप से अस्पताल परिसर की सफाई की। इन युवाओं ने मरुकिया अस्पताल परिसर की साफ-सफाई कर एक मिसाल पेश की है।

परिसर की सफाई का प्रेरणादायक काम करने से लोग काफी खुश हैं। इलाके के लोगों का कहना है कि जो काम सरकार को करना चाहिए था उसे करने इन लोगों ने एक अच्छा काम किया है।

सफाई अभियान में योगदान देने बाले युवाओं में कपिल राय, राम उदगार महतो, राम सेवक महतो, कमलेश राय, राकेश राय, अभिषेक कुमार, धर्म कुमार साफी, विवेक राय, विनोद ठाकुर, मिथिलेश राय, अजय पूर्वे, अमीर राय, सुशील राय, गंगा महतो, मोहन महतो, भरत राय, नवीन राय, संजय राय शामिल हैं।

-लाल कुमार
मरुकिया, अंधराठाढ़ी, मधुबनी

Comments

Most Popular

कोरोना से जुड़े अहम सवाल

आंकड़ों को दर्ज करने के मामले में भारतीय स्वास्थ्य प्रबंधन तंत्र कभी अच्छा नहीं रहा। बीमारियों के मामलों को दर्ज करने में पूर्वाग्रह की स्थिति रही है। यह स्थिति कोविड-19 महामारी में भी जारी है। उदाहरण के तौर पर तेलंगाना में छह डॉक्टर ने लिखा कि कैसे राज्य के कुल आंकड़ों में कोविड 19 से होनेवाली मौतों का जिक्र नहीं किया जा रहा है।

विष्णु भक्त नारद मुनि

भगवान विष्णु के परम भक्त नारद ब्रह्मा जी के पुत्र हैं। उन्होंने भगवान विष्णु की भक्ति और तपस्या की। नारद जी पर देवी सरस्वती की भी कृपा थी। उन्हें हर तरह की विद्या में महारत हासिल थी।

प्रकृति का सुहाना मोड़

सड़कों पर सन्नाटा, दफ्तरों, कारखानों और सावर्जनिक स्थानों पर पड़े ताले से भले ही मानव जीवन में ठहराव आ गया है, लेकिन लॉकडाउन के बीच प्रकृति एक नयी ताजगी महसूस कर रही है। हवा, पानी और वातावरण साफ हो रहे हैं। हम इंसानों के लिए कुछ समय पहले तक ये एक सपने जैसा था। इन दिनों प्रकृति की एक अलग ही खूबसूरती देखने को मिल रही हैं जो वर्षों पहले दिखाई देती थी।

ना धर्म देखा ना उम्र देखा, ना अमीर देखा और ना ही गरीब!

कोरोना महामारी से एक बात तो साफ हो गई कि प्रकृति ही सबसे बड़ा धर्म है। इसने किसी भी धर्म को अनदेखा नहीं किया और सब पर बराबर की मार की है। चाहे वह किसी भी धर्म का हो, अमीर हो या गरीब, कोरोना ने किसी को नहीं छोड़ा।

हॉलीवुड की टॉप 10 हॉरर मूवी

क्या आप को हॉरर फिल्में देखना बहुत पसंद हैं? और अगर वो हॉरर फिल्म अगर किसी सच्ची कहानी से प्रेरित हो