Skip to main content

बरसात के मौसम में सीजनल फ्लू और बैक्टीरिया से दूर रहने के लिए अपने पीने के पानी का रखें खास ध्यान

कोरोनावायरस (कोविड-19) महामारी के इस बेहद चुनौतीपूर्ण दौर में हम लगातार मुश्किलों का सामना कर रहे हैं और ऐसे में पीने के स्वच्छ पानी तक पहुंच और भी अधिक महत्वपूर्ण हो गई है। ये जानना जरूरी है कि कोविड-19 से बचाव के उपायों में सुरक्षित पेयजल भी एक महत्वपूर्ण उपाय है।
डब्ल्यूएचओ के अनुसार,, पीने का साफ पानी और सैनिटेशन यानि स्वच्छता तक पहुंच दुनिया भर में अरबों लोगों के लिए आसान नहीं है। दुनिया भर में लगभग 2.2 बिलियन लोगों के पास सुरक्षित रूप से प्रबंधित पेयजल सेवाओं तक पहुंच नहीं है, जबकि 4.2 बिलियन लोगों के पास स्वच्छता सेवाएं उपलब्ध नहीं हैं और 3 बिलियन लोग बुनियादी तौर पर हाथ धोने की सुविधा से भी वंचित हैं।

इसके अलावा बारिश के मौसम में इस संबंध में और भी सतर्क और सावधान रहना जरूरी हो जाता है। इस तथ्य के बावजूद कि मॉनसून का मौसम आ चुका है क्योंकि कम तापमान काफी लोगों को राहत प्रदान करता है, वहीं काफी लोगों के लिए ये बहुत स्वस्थ महीना नहीं है। यह बल्कि एक खतरनाक अवधि है क्योंकि मौसम के परिवर्तन से स्वास्थ्य चिंताएं बढ़ सकती हैं; नम मौसम, उच्च आर्द्रता और संक्रमण, काफी सारे लोगों के लिए हालात मुश्किल बना देते हैं। देश भर में प्रयोगशालाओं, क्लीनिकों और अस्पतालों के लिए मानसून हमेशा एक व्यस्त मौसम के रूप में दर्ज किया गया है, क्योंकि इसमें अवांछित और हानिकारक वायरस और बीमारियां आती हैं जो विभिन्न रूपों में आम आदमी को अपनी चपेट में लेने में कोई कसर नहीं छोड़ती हैं।

मॉनसून के दौरान व्यापक रूप से फैलने वाली सामान्य बीमारियां आम सर्दी, वायरल संक्रमण, इन्फ्लूएंजा, निमोनिया, मलेरिया, डेंगू, दस्त, गैस्ट्रोएंटेराइटिस, टाइफाइड और हेपेटाइटिस या पीलिया हैं। यह ज्यादातर दूषित पानी के कारण होता है और क्योंकि हमारे शरीर का 70 प्रतिशत हिस्सा पानी से बना होता है, इसलिए सभी लोगों को ये जरूरी सलाह दी जाती है कि हम मॉनसून में अपने लिए सुरक्षित और स्वस्थ पेयजल की निरंतर आपूर्ति सुनिश्चित करें।

मानव स्वास्थ्य को सुरक्षित बनाए रखना हर समय ही महत्वपूर्ण होता है, पर वर्तमान में जिस तरह से कोरोना का दौर चल रहा है, ऐसे में स्वास्थ्य का ख्याल रखना और भी जरूरी हो जाता है। इसके अलावा, हवा में नमी, गंदगी का माहौल और बुनियादी निवारक उपायों का पालन न करना जोखिम को और भी बढ़ा देता है।

दूषित पानी से पैदा होने वाले रोग विशेष रूप से हमारे घरों में अपना रास्ता बनाते हैं और हमारी इम्युन क्षमता पर हमला करते है। इन सब के चलते ही इस सीजन में हम इन सभी सीजनल बीमारियों का शिकार बनते हैं। इसलिए, मॉनसून के दिनों में हम सभी के लिए ये आवश्यक है कि हम अपने स्वास्थ्य का अतिरिक्त ध्यान रखें। यदि हमारे शरीर की रोगों से लड़ने की प्रतिरोधक क्षमता अपने चरम पर नहीं है, तो मौसम के परिवर्तन से संक्रमण हो सकता है। हालांकि, पानी से होने वाली बीमारियों को उचित स्वच्छता, व्यक्तिगत स्वच्छता और विशेष रूप से सुरक्षित पानी का सेवन करने पर ध्यान देकर नियंत्रित किया जा सकता है।

क्या समझने की जरूरत है कि माइक्रोबियल और आर्गेनिक कीटाणुओं को हमेशा हम अपनी समझ-बूझ से अपने से दूर नहीं रख सकते हैं। इसके साथ ही पारंपरिक तरीकों जैसे कि उबलते पानी या पानी को छानकर हम पानी में पैदा होने वाले रोगों से अपनी सुरक्षा कर सकते हैं क्योंकि इस तरह से पानी को छानकर कई तरह के प्रदूषकों से बचा नहीं जा सकता है, जिनमें एल्यूमीनियम, अमोनिया, आर्सेनिक और फ्लोराइड जैसे तत्व शामिल है। इस प्रकार के उपायों से इन से छुटकारा नहीं पाया जा सकता है। इसके अलावा हम आखिरी कितने दिनों तक बोलतबंद पानी खरीद सकते हैं? तो ऐसे में इस समस्या का एक दीर्घकालिक समाधान तलाश करें।

ठसके अलावा इससे भी कोई फर्क नहीं पड़ता कि सरकार अपने नागरिकों को स्वच्छ पानी मुहैया कराने के लिए क्या क्या कदम उठा रही है। आपको अपना काम खुद करना ही होगा और घर पर वाटर प्योरीफायर का उपयोग कर अपने घर पर उपयोग होने वाली पानी को साफ और शुद्ध करना होगा। एक अत्यधिक सावधानी उस पानी के साथ भी रखना जरूरी है, जिसका उपयोग आप रोजाना करते हैं क्योंकि यह दूषित हो सकता है। यदि खाना पकाने, धोने या नहाने के दौरान आप दूषित पानी का उपयोग कर रहे हैं तो भी कई तरह का संक्रमण फैल सकता है।

टापको एक सही वाटर प्योरीफायर को चुनने की जरूरत है और इसके लिए आपको एक वाटर एक्सपर्ट से पूछने की जरूरत है कि सही वाटर-प्योरीफिकेशन टेक्नोलॉजी क्या है और आपको अपने घर पर उपलब्ध पानी के अनुसार किस तरह के वाटर प्योरीफायर का उपयोग करना चाहिए। जब तक प्योरीफायर आपके घर के पानी के लिए अनुकूल नहीं होता है, तब तक यह उसके प्रदूषक तत्वों को शुद्ध करने में सक्षम नहीं होगा। आरओ $ यूवी $ यूएफ जैसी तकनीकें हैं जो न केवल पानी को शुद्ध करने में मदद करती हैं बल्कि कैल्शियम, मैग्नीशियम और जस्ता आदि जैसे सभी जरूरी खनिजों को भी पानी में बरकरार रखती हैं।

इसलिए, अपने और अपने परिवार के सदस्यों की अच्छी देखभाल करें और विशेष रूप से इस मानसून में सभी तरह के जोखिम से संघर्ष के लिए सुरक्षित रहें। मॉनसून के दौरान और हर दिन अपने प्रियजनों की सुरक्षा के लिए एक बेहतर होम वाटर प्योरीफायर में निवेश करने के बारे में महत्वपूर्ण निर्णय लें।


- डॉ.महेश गुप्ता,
सीएमडी,
केंट आरओ सिस्टम्स लिमिटेड

Comments

Most Popular

गांधी जी के ग्राम स्वराज के सपने को साकार करना वक्त की जरूरतः डॉ पार्थ शाह

थिंकटैंक सेंटर फॉर सिविल सोसायटी के प्रेसिडेंट और इंडियन स्कूल ऑफ पब्लिक पॉलिसी के संस्थापक व डायरेक्टर डॉ पार्थ शाह ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के ग्राम स्वराज के उस सपने को साकार करने को वक्त की जरूरत बताया है जिसके केंद्र में गांव और लोग शामिल हों। उन्होंने कहा कि लोकतंत्र का मूल उद्देश्य लोकनीति निर्माण में लोक को शामिल करना है, लेकिन हमारे सिस्टम का दृष्टिकोण लोक को सहभागी मानने की बजाय उनके लिये बाध्यकारी नीतियां बनाने तक ही सिमट कर रह गया है।

झारखंड का आदिवासी समाज और भूमि का उत्तराधिकार!

यूं तो झारखंड के आदिवासी समाज में औरतों की स्थिति, अन्य समाज की स्त्रियो की तुलना में पुरुष से संपत्ति के अधिकार की हो, तो ये उन सारी महिलाओं से पिछडी है जो अन्य क्षेत्रों में इनका अनुकरण करती है। आपको यह जानकर विस्मय होगा कि राज्य के जनजातीय समाज में महिलाओं को अचल संपत्ति में कोई वंशानुक्रम का अधिकार नहीं दिया जाता है। वर्तमान युग में, जब लैंगिक समानता का विषय विश्व भर में जोरों से चर्चा में है, यह अति अफसोसनाक है कि प्रदेश की आदिवासी महिलाओं को प्रथागत कानून के तहत भूमि के उत्तराधिकार से वंचित रखा गया है। छोटानागपुर काश्तकारी अधिनियम, 1908 कि धारा 7 एवं 8 में इस बात का उल्लेख है कि आदिवासी समाज में जमीन का उत्तराधिकार सिर्फ पुरुष वंश में ही किया जा सकता है। अर्थात, समाज की औरतों को इसका कतई अधिकार नहीं। हालांकि अधिनियम कि एक अन्य धारा पर गौर किया जाय तो यह मालूम होता  है कि यादि आदिवासी समाज में भूमि का हस्तांतरण, भेंट अथवा विनिमय किया जाना हो तो इसके लिए वंशानुगत पुरूष अथवा ‘अन्य ‘ योग्य है। जहां एक तरफ संथालपरगना के इलाके में ‘तानसेन जोम’ की परंपरा हैं, वही दूसरी तरफ संथालपरगना का

पर्शियन रामायण की विरासत पर अंतर्राष्ट्रीय कार्यशाला संपन्न

"रामायण की सचित्र पर्शियन मैन्युस्क्रिप्ट्स" विषय पर एक कार्यशाला का आयोजन किया गया। अयोध्या शोध संस्थान के निदेशक डॉ लवकुश द्विवेदी के मुख्य आतिथ्य में आयोजित "रामायण की सचित्र पर्शियन मैन्युस्क्रिप्ट्स" विषय पर इंडोलोजी फाउंडेशन द्वारा आयोजित इस कार्यक्रम में मलेशिया से डॉ रामिन, ईरान से डॉ आमिर तथा मारिशस से शैलेन रामकिसुन शामिल हुए। भारत से पुरातत्वविद डॉ बीआर मणि एवं कला इतिहास के मर्मज्ञ प्रो दीनबंधु पांडेय समीक्षा पैनल में शामिल रहें।  

ईमानदारी की श्रेष्ठता

अजीब स्वभाव है मानव का! हमारी भले ही ईमान से जान पहचान ना हो, पर हम चाहते हैं कि हमारे संपर्क में आने वाले प्रत्येक व्यक्ति ईमानदार हों। व्यापार में, व्यवहार में , साहित्य में या संसार में सभी जगह ईमानदारी की मांग है।

अंतरराष्ट्रीय अग्रवाल सम्मेलन की कार्यकारिणी बैठक संपन्न

अंतर्राष्ट्रीय अग्रवाल सम्मेलन द्वारा आयोजित कार्य कारिणी समिति की बैठक का आयोजन मुबंई के अंधेरी वेस्ट में किया गया। इस बैठक में समिति द्वारा भविष्य में किए जाने वाले अनेक कार्यों की समीक्षा की गई तथा विशेष रुप से अग्रवाल समाज में वैवाहिक संबंधों के चयन की प्रक्रिया को किस तरह सुगम किया जाए इस पर विस्तार में चर्चा की गई।