Skip to main content

कोरोना काल में सुकून देने वाला भजन लॉन्च, पत्रकार से भजन गायक बने हरीश ने पूछा- तो क्या मेरा कोई कन्हैया नहीं

कोरोना के इस संकट काल में चारों ओर भय और निराशा का माहौल है। लोग डरे हुए हैं और डिप्रेशन के शिकार हो रहे हैं। कष्ट की इस घड़ी में ताजा हवा के झोंके की तरह है वरिष्ठ पत्रकार और लेखक हरीश चंद्र बर्णवाल का नया भजन। भगवान कृष्ण की तरह खूबसूरत है यह भजन- 'तो क्या मेरा कोई कन्हैया नहीं।' इस भजन को सुनकर आप अपने सारे गम भूल जाएंगे।

हरीश चंद्र बर्णवाल ने ना सिर्फ इस भजन को शब्दों की मोती से पिरोया है, बल्कि अपनी मखमली आवाज से भजन गायकी को एक नया आयाम भी दिया है। एक-एक शब्द हजारों अर्थ देने वाला है। इस भजन को सुनकर आपका दिल खुश हो जाएगा। मन को सुकून देने वाला यह एक ऐसा भजन है जो वर्षों बाद लोगों को सुनने के लिए मिल रहा है।


लेखक हरीश चंद्र बर्णवाल ने बड़ी खूबसूरती से इस भजन को लिखा है। इसका हर एक शब्द दिल को राहत देता है। मन को शांति प्रदान करता है। सबकुछ भूलकर मन प्रभु भक्ति में लीन हो जाता है। भजन का संगीत बेहतरीन है। राहत देने वाला है। इस भजन को आप बार-बार सुनना तो पसंद करेंगे ही साथ ही खुद को गुनगुनाने से भी रोक नहीं पाएंगे।

इस भजन में गायक हरीश चंद्र बर्णवाल भगवान कृष्ण से खूबसूरत अंदाज में सवाल पूछते हैं। महाभारत की पूरी घटना को शब्दों से शानदार ढंग से सजा कर वे भगवान से पूछते हैं कि 'ना तो राधा हूं मैं, ना तो मीरा हूं मैं। तो क्या मेरा कोई कन्हैया नहीं। सत्यभामा नहीं, न हूं मै रुक्मिणी। तो क्या मेरा कोई कन्हैया नहीं। हरीश बर्णवाल ने इसे अपने यूट्यूब चैनल पर लॉन्च किया है।   

इस भजन के साथ हरीश ने पत्रकारिता से भजन गायिकी की तरफ अपना कदम बढ़ाया है। हरीश चंद्र बर्णवाल एक वरिष्ठ टीवी पत्रकार रहे हैं। एबीपी न्यूज, न्यूज 18 इंडिया, जी न्यूज और डीडी न्यूज में काम कर चुके हैं। इसके अलावा वो सात पुस्तकें भी लिख चुके हैं। प्रधानमंत्री मोदी पर चार पुस्तकें लिखने के अलावा हरीश ने कहानियों पर एक पुस्तक और टीवी पत्रकारिता की भाषा पर भी पुस्तक लिख चुके हैं। हरीश को भारत सरकार का भारतेंदु हरिश्चंद्र पुरस्कार और हिन्दी अकादमी पुरस्कार समेत कई सम्मान मिल चुके हैं। 

देखिए वीडियो-

 


Comments

Most Popular

झारखंड का आदिवासी समाज और भूमि का उत्तराधिकार!

यूं तो झारखंड के आदिवासी समाज में औरतों की स्थिति, अन्य समाज की स्त्रियो की तुलना में पुरुष से संपत्ति के अधिकार की हो, तो ये उन सारी महिलाओं से पिछडी है जो अन्य क्षेत्रों में इनका अनुकरण करती है। आपको यह जानकर विस्मय होगा कि राज्य के जनजातीय समाज में महिलाओं को अचल संपत्ति में कोई वंशानुक्रम का अधिकार नहीं दिया जाता है। वर्तमान युग में, जब लैंगिक समानता का विषय विश्व भर में जोरों से चर्चा में है, यह अति अफसोसनाक है कि प्रदेश की आदिवासी महिलाओं को प्रथागत कानून के तहत भूमि के उत्तराधिकार से वंचित रखा गया है। छोटानागपुर काश्तकारी अधिनियम, 1908 कि धारा 7 एवं 8 में इस बात का उल्लेख है कि आदिवासी समाज में जमीन का उत्तराधिकार सिर्फ पुरुष वंश में ही किया जा सकता है। अर्थात, समाज की औरतों को इसका कतई अधिकार नहीं। हालांकि अधिनियम कि एक अन्य धारा पर गौर किया जाय तो यह मालूम होता  है कि यादि आदिवासी समाज में भूमि का हस्तांतरण, भेंट अथवा विनिमय किया जाना हो तो इसके लिए वंशानुगत पुरूष अथवा ‘अन्य ‘ योग्य है। जहां एक तरफ संथालपरगना के इलाके में ‘तानसेन जोम’ की परंपरा हैं, वही दूसरी तरफ संथालपरगना का

गांधी जी के ग्राम स्वराज के सपने को साकार करना वक्त की जरूरतः डॉ पार्थ शाह

थिंकटैंक सेंटर फॉर सिविल सोसायटी के प्रेसिडेंट और इंडियन स्कूल ऑफ पब्लिक पॉलिसी के संस्थापक व डायरेक्टर डॉ पार्थ शाह ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के ग्राम स्वराज के उस सपने को साकार करने को वक्त की जरूरत बताया है जिसके केंद्र में गांव और लोग शामिल हों। उन्होंने कहा कि लोकतंत्र का मूल उद्देश्य लोकनीति निर्माण में लोक को शामिल करना है, लेकिन हमारे सिस्टम का दृष्टिकोण लोक को सहभागी मानने की बजाय उनके लिये बाध्यकारी नीतियां बनाने तक ही सिमट कर रह गया है।

धरती का सबसे छोटा बच्चा!

काका उदास थे। उदासी उनके पास कोई पड़ा कारण नहीं था। बदलती आबोहवा से जब भी परेशानी होती है, उदासी उनके चेहरे पर बैठ जाती है। जब कोई चिड़िया गीत गाती हुई फुर्र से उड़ती है या कोई वृक्ष तेज हवा में घूमने लगता है, तब जाकर उनका चेहरा सामान्य हो पाता है। वे बड़ी देर से चुप बैठे थे। जो व्यक्ति खुद में उतर रहा हो या सामने किसी दृश्य को टटोल रहा हो, उसे टोकना अच्छी बात नहीं है। मौन में भी मजे है। मैं कभी-कभी सोचने लगती हूं कि पृथ्वी पर चिड़िया कब आयी होगी। हठात काका का मौन टूटा। वे मुझसे पूछ रहे थे कि तुम्हें क्या लगता है, पृथ्वी पर मानव पहले आया होगा और बहुत दिनों के बाद जब वह बोर होने लगा होगा, तब चिड़िया बनायी गयी होगी! मुझे चुप देख कहने लगे कि मनुष्य के पास चिड़िया बनाने का कोई हुनर नहीं है। इतने उपकरण और होशियार हो जाने के बाद, अगर आज भी मानव चिड़िया बनाने बैठे तो असफलता ही हाथ लगेगी। इस बात से यह साबित होता है कि मानव बाद में आया होगा, चिड़िया पहले आयी होगी। वे कहने लगे कि वृक्ष चिड़िया का घर तो होता ही है, साथ ही उनका जीवन भी होता है। पृथ्वी पर पहले वृक्षों को लगाया गया होगा कि चिड़िया आ

पर्शियन रामायण की विरासत पर अंतर्राष्ट्रीय कार्यशाला संपन्न

"रामायण की सचित्र पर्शियन मैन्युस्क्रिप्ट्स" विषय पर एक कार्यशाला का आयोजन किया गया। अयोध्या शोध संस्थान के निदेशक डॉ लवकुश द्विवेदी के मुख्य आतिथ्य में आयोजित "रामायण की सचित्र पर्शियन मैन्युस्क्रिप्ट्स" विषय पर इंडोलोजी फाउंडेशन द्वारा आयोजित इस कार्यक्रम में मलेशिया से डॉ रामिन, ईरान से डॉ आमिर तथा मारिशस से शैलेन रामकिसुन शामिल हुए। भारत से पुरातत्वविद डॉ बीआर मणि एवं कला इतिहास के मर्मज्ञ प्रो दीनबंधु पांडेय समीक्षा पैनल में शामिल रहें।