Skip to main content

जगद्गुरु रामानुजाचार्य जी की सहस्त्राब्दी पर राष्ट्र व्यापी जन-जागरण

11वीं शताब्दी में विश्व को समता, समानता, राष्ट्रीय एकात्मता तथा मानवता का महत्वपूर्ण संदेश देने वाले महान संत पूज्य श्री रामानुजाचार्य की जयंती पर हिन्दू परिषद ने देशभर में अनेक कार्यक्रमों की योजना बनाई है। इस संदर्भ में विहिप के अंतर्राष्ट्रीय कार्याध्यक्ष सीनियर एडवोकेट श्री आलोक कुमार ने शुक्रवार, 4 फरवरी कहा कि यह एक संयोग ही है कि एक ओर भारत अपनी आजादी का अमृत महोत्सव मना रहा है

वहीं दूसरी ओर इसी वर्ष इस आजादी की रक्षा के मूल तत्व समानता व सामाजिक समरसता के उद्घोषक महान संत पूज्य श्री रामानुजाचार्य जी की सहस्त्राब्दी का महोत्सव भी मनाया जा रहा है।


इस 5 फरवरी से प्रारंभ होने वाले इन महोत्सवों में विश्व हिन्दू परिषद के कार्यकर्ता भी देश भर में अपने-अपने स्थानों पर अनेक प्रकार के कार्यक्रम कर उनके पावन संदेशों को जन-जन तक पहुंचाने का कार्य करें।
उन्होंने कहा कि हमें प्रसन्नता है कि उनकी सहस्त्राब्दी के इन कार्यक्रमों में माननीय प्रधानमंत्री व राष्ट्रपति महोदय तो रहेंगे ही विहिप के वरिष्ठ पदाधिकारियों के साथ मुझे भी हैदराबाद (तेलंगाना) स्थित उनके आश्रम द्वारा किए जाने वाले विविध कार्यक्रमों में सहभागी होने का सौभाग्य मिलेगा।
श्री आलोक कुमार ने सभी कार्यकर्ताओं व हिन्दू समाज से आह्वान किया कि वो पूज्य श्री रामानुजाचार्य जी के इन सहस्त्राब्दी समारोहों में बढ़ चढ़ कर हिस्सा लें तथा उनके महान व्यक्तित्व व कृतित्व से सम्पूर्ण विश्व को आलोकित करें।

प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी 5 फरवरी को हैदराबाद में स्‍टैचू ऑफ इक्वेलिटी राष्‍ट्र को समर्पित करेंगे। 216 फीट ऊंची स्टैच्यू ऑफ इक्वेलिटी प्रतिमा 11वीं सदी के भक्ति शाखा के संत श्री रामानुजाचार्य की याद में बनाई गई है।

Comments

Most Popular

विज्ञान से लाभ-हानि

आधुनिक युग को 'विज्ञान का युग' कहा जाता है। आधुनिक जीवन में विज्ञान ने हर क्षेत्र में अद्भुत क्रांति उत्पन्न कर रखी है। इसने हमारे जीवन को सहज व सरल बना दिया है। विज्ञान ने मानव की सुख-सुविधा के अनेक साधन जुटाएँ हैं। टेलीफ़ोन, टेलीविजन, सिनेमा, वायुयान, टेलीप्रिंटर आदि विज्ञान के ही आविष्कार हैं। विद्युत के

प्रधानमंत्री मोदी ने किया एम्स नागपुर राष्ट्र को समर्पित

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज, 11 दिसंबर को एम्स नागपुर राष्ट्र को समर्पित किया। प्रधानमंत्री ने नागपुर एम्स परियोजना मॉडल का निरीक्षण भी किया और इस अवसर पर प्रदर्शित माइलस्टोन प्रदर्शनी गैलरी का अवलोकन किया।

 संघर्ष जितना अधिक होगा, संवेदना उतनी ही अधिक छुएगीः ऊषा किरण खान

साहित्य आजतक के मंचपर अंतिम दिन 'ये जिंदगी के मेले' सेशन में देशकी जानी मानी लेखिकाओं ने साहित्य, लेखन और मौजूदा परिदृश्य पर बातें कीं. इनमें लेखिका उपन्यासकार डॉ. सूर्यबाला, लेखिका ममताकालिया, लेखिका ऊषाकिरण खान शामिल हुईं. 

 प्रधानमंत्री मोदी ने नागपुर रेलवे स्टेशन से वंदे भारत एक्सप्रेस को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 11 दिसंबर को नागपुर रेलवे स्टेशन से नागपुर और बिलासपुर को जोड़ने वाली वंदे भारत एक्सप्रेस को झंडी दिखाकर रवाना किया। प्रधानमंत्री ने वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन के डिब्बों का निरीक्षण किया और ऑनबोर्ड सुविधाओं का जायजा लिया। उन्होंने नागपुर और अजनी रेलवे स्टेशनों की विकास योजनाओं का भी जायजा लिया।

चितरंजन त्रिपाठी बने राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय-NSD के नए निदेशक

आखिरकार राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय- NSD को स्थायी निदेशक चितरंजन त्रिपाठी के रूप में मिल गया है। संस्कृति मंत्रालय के अंतर्गत भारत सरकार की स्वायत्त संस्था राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय विश्व पटल पर रंगमंच के लिए स्थापित रंग संस्था है। चितरंजन त्रिपाठी एनएसडी ते 12 वें निदेशक हैं। अच्छी बात यह है कि वे यहां के 9वें स्नातक भी हैं, जिन्होंने निदेशक का पद भार सम्भाला है। श्री त्रिपाठी राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय के 1996 बैच के स्नातक हैं।