Skip to main content

ग्राम्य जीवन

किसी कवि ने ठीक ही कहा है 'है अपना हिंदुस्तान कहाँ, वह बसा हमारे गाँवों में।'

भारत माता ग्रामवासिनी है। भारत की 75 प्रतिशत जनता गाँवों में निवास करती है, इसीलिए भारत को 'गाँवों का देश' कहा जाता है। गाँव ही भारत की आत्मा हैं। जिस प्रकार आत्मा की स्वस्थ स्थिति पर सारे शरीर की उन्नति निर्भर होती है, उसी प्रकार भारत की उन्नति उसके गाँवों की उन्नति पर निर्भर है। एक समय था जब

भारत के गाँव आत्मनिर्भर तथा संपन्न थे। इनकी धरती सोना उगलती थी तथा चारों ओर सुख-समृद्धि थी, परंतु आज गाँवों की वह दशा नहीं है। आज वे अभावग्रस्त हैं। दरिद्रता की साक्षात प्रतिमा हैं तथा अज्ञान, अशिक्षा, रोग एवं अभावों के घर हैं। आज के गाँवों में जीवन के लिए आवश्यक सुख-सुविधाओं का भी अभाव है। इस कारण अनेक ग्रामीण, शहरों की ओर पलायन करते हैं तथा शहरों पर जनसंख्या का दबाव बढ़ता जा रहा है। गाँवों में स्वास्थ्य सेवाओं व अन्य सुविधाओं का भी बड़ा अभाव है।


गाँवों की दुर्दशा के लिए अशिक्षा तथा अज्ञान भी उत्तरदायी हैं। भारत के किसान आज भी अंधविश्वासों के दलदल में फँसे हुए हैं। दिखावे के लिए विवाह, मुंडन जैसे उत्सवों पर अनावश्यक धन खर्च करने के कारण किसानों को सेठ साहूकारों से ऋण लेना पड़ता है, जो जीवन भर नहीं उतरता तथा उनकी दरिद्रता का कारण बन जाता है। दरिद्रता के कारण न तो वे अच्छे हल-बैल जुटा पाते हैं और न ही अच्छे बीज और खाद भारतीय वर्षा भी किसानों के जीवन से खिलवाड़ करने में पीछे नहीं रहती। कभी

समय से पूर्व वर्षा, तो कभी अतिवृष्टि और कभी अनावृष्टि। इसके कारण देश के अधिकांश भागों में या तो सूखे की स्थिति बनी रहती है या फिर खड़ी फसलें बाढ़ों के कारण चौपट हो जाती हैं।

खुशी की बात यह है कि भारत में सरकारी प्रयासों के कारण हरित क्रांति हो रही है तथा एक नए युग का सूत्रपात हो रहा है। आज गाँवों में शिक्षा, चिकित्सा तथा मनोरंजन की सुविधाएँ उपलब्ध कराई जा रही हैं तथा वहाँ पीने के पानी, सड़कों तथा बिजली की पर्याप्त व्यवस्था की जा रही है।

भारतीय ग्राम्य जीवन, जो एक दयनीय स्थिति में पहुँच गया था. अब पुनः आकर्षक बनता नजर आ रहा है। गाँवों की दशा सुधारने के लिए केवल सरकारी उपाय ही पर्याप्त नहीं हैं। इसके लिए ग्रामीणों को चाहिए कि वे अपने बच्चों को विद्यालय भेजें तथा उन्हें शिक्षित करें। प्राचीन रूढ़ियों, कुसंस्कारों, कुरीतियों तथा कुप्रथाओं का त्याग करें, तभी वे उन्नति कर सकते हैं।


-प्रेरणा यादव


Comments

Most Popular

विज्ञान से लाभ-हानि

आधुनिक युग को 'विज्ञान का युग' कहा जाता है। आधुनिक जीवन में विज्ञान ने हर क्षेत्र में अद्भुत क्रांति उत्पन्न कर रखी है। इसने हमारे जीवन को सहज व सरल बना दिया है। विज्ञान ने मानव की सुख-सुविधा के अनेक साधन जुटाएँ हैं। टेलीफ़ोन, टेलीविजन, सिनेमा, वायुयान, टेलीप्रिंटर आदि विज्ञान के ही आविष्कार हैं। विद्युत के

प्रधानमंत्री मोदी ने किया एम्स नागपुर राष्ट्र को समर्पित

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज, 11 दिसंबर को एम्स नागपुर राष्ट्र को समर्पित किया। प्रधानमंत्री ने नागपुर एम्स परियोजना मॉडल का निरीक्षण भी किया और इस अवसर पर प्रदर्शित माइलस्टोन प्रदर्शनी गैलरी का अवलोकन किया।

 संघर्ष जितना अधिक होगा, संवेदना उतनी ही अधिक छुएगीः ऊषा किरण खान

साहित्य आजतक के मंचपर अंतिम दिन 'ये जिंदगी के मेले' सेशन में देशकी जानी मानी लेखिकाओं ने साहित्य, लेखन और मौजूदा परिदृश्य पर बातें कीं. इनमें लेखिका उपन्यासकार डॉ. सूर्यबाला, लेखिका ममताकालिया, लेखिका ऊषाकिरण खान शामिल हुईं. 

 प्रधानमंत्री मोदी ने नागपुर रेलवे स्टेशन से वंदे भारत एक्सप्रेस को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 11 दिसंबर को नागपुर रेलवे स्टेशन से नागपुर और बिलासपुर को जोड़ने वाली वंदे भारत एक्सप्रेस को झंडी दिखाकर रवाना किया। प्रधानमंत्री ने वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन के डिब्बों का निरीक्षण किया और ऑनबोर्ड सुविधाओं का जायजा लिया। उन्होंने नागपुर और अजनी रेलवे स्टेशनों की विकास योजनाओं का भी जायजा लिया।

चितरंजन त्रिपाठी बने राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय-NSD के नए निदेशक

आखिरकार राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय- NSD को स्थायी निदेशक चितरंजन त्रिपाठी के रूप में मिल गया है। संस्कृति मंत्रालय के अंतर्गत भारत सरकार की स्वायत्त संस्था राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय विश्व पटल पर रंगमंच के लिए स्थापित रंग संस्था है। चितरंजन त्रिपाठी एनएसडी ते 12 वें निदेशक हैं। अच्छी बात यह है कि वे यहां के 9वें स्नातक भी हैं, जिन्होंने निदेशक का पद भार सम्भाला है। श्री त्रिपाठी राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय के 1996 बैच के स्नातक हैं।