Skip to main content

महारानी चंद्रिका

यह कहानी १९०३ की है जब अंग्रेज हिंदुस्तान पर अपने अधिकार के सर्वोपरि मुकाम पे थे। उस समय बिहार के जबलपुर गाँव में महारानी चंद्रिका की सेना अपनी डेरा बसाए हुए थी। वे और उनकी सेना आधुनिक से आधुनिकतम हथियारों के इस्तेमाल से वाकिफ़ थे। और यही प्रधान वजह थी कि महारानी के एक हजार सैन्य ब्रिटिश जनरलों को चैन से सोने नहीं देते थे। उनकी बड़ी से बड़ी सेना भी चंद्रिका के कौशलपूर्वक छापामारा हमलों के सामने घुटने टेकने पर मजबूर हो जाते थे। परंतु इस बार

चुनौती दूसरी थी और स्थान भी दूसरा था। इस बार उन्हें जनरल वॉरेल को खुद उनके रेसीडेंसी में जाकर मारना था जो उनके निपुण सेना के लिए भी लगभग असंभव था। परंतु किसी भी चुनौती की कठिनता इस विरांगना को डराने के काबिल नहीं थी और फिर वॉरेल तो खुद उनके पिता के हत्यारे थे।

गहरी रात का समय था। महारानी ने रेसीडेंसी के गुप्त द्वार पर खड़े दोनों सैनिकों को जहरीले डंक से मार गिराया और फिर वे अंदर घुस गई और फिर एक के बाद सारे सैनिकों को चुपचाप मौत की नींद सुलाती गई। फिर अचानक ही उन्हें वॉरेल का शयनकक्ष दिखा। वह दरवाजा खोलकर वॉरेल को जगा हुआ देखकर चौंक गई। वरिल ने उनका स्वागत करने के ढोंग में कहा- 'वेलकॅम चंद्रिका वेलकम टू डेथ आखिर कार तुम्हें मेरे हाथों ही मरना है, यह कहते हुए उन्होंने अपने बाएँ हाथ से एक चाकू चंद्रिका पर फेंक दिया जिसे अनायास ही उसने रोक लिया। अचानक ही घर में भयंकर गोलीबारी शुरु हो गई। एक गोली चंद्रिका के हाथ में लग गई। परंतु वे तेजी से उस घर से निकल आई। बाहर अब तक भयंकर गोलीबारी शुरू हो गई थी, और चंद्रिका की सेना अपनी कुशलता के बावजूद ब्रिटिश की संख्या के सामने हारती हुई नज़र आ रही थी। ब्रिटिश गोलियों के नीचे शहीद हो गए। फिर अचानक ही चंद्रिका ने वॉरल को अपने गार्डस के साथ भागते हुए देखा। महारानी ने उनका पीछा किया और अपनी अचूक निशानेवाजी से वॉरेल और उनके गार्डस को मौत की नींद सुला दिया। इसके बाद ब्रिटिश सेना में खलबली मच गई और वे हार गए। महारानी चंद्रिका रेसीडेंसी के ऊपर तिरंगा लहराने के बाद भयंकर रक्तपात के कारण जमीन पर गिर गई और जय हिंद' कहते हुए वीरता को प्राप्त हुई।


-प्रेरणा यादव

Comments

Most Popular

घर में रखने योग्य मूर्तियां

हिंदू धर्म के अनुसार घर में सभी देवी-देवताओं के लिए एक अलग स्थान बनाया जाता है। हिंदू धर्म में देवताओं के लिए जो स्थान बता रखे हैं, लोगों ने वैसे ही अपने घरों में देवताओं को स्थापित किया है। आप सभी के घर में देवी-देवताओं का मंदिर जरूर होगा। सबसे पहले आपको बता दें कि घर के मंदिर को हमेशा ही साफ रखना चाहिए। मंदिर में किसी भी तरह की खंडित मूर्ति ना रखें। हम आपको ऐसे देवी-देवताओं के बारे में बताएंगे जिनकी पूजा घर पर नहीं होनी चाहिए। 1. भैरव देव:   भैरव देव भगवान शिव के एक अवतार हैं। भैरव देव की मूर्ति कभी भी अपने घर के मंदिर में नहीं रखनी चाहिए। अब आप बोलेंगे कि ऐसा क्यों है। ऐसा इसलिए है क्योंकि भैरव तंत्र विद्या के देवता माने जाते हैं। भैरव देव की पूजा करनी चाहिए, परंतु घर के अंदर ऐसा नहीं करना चाहिए। 2. नटराज: कुछ लोग ऐसे होंगे जो नटराज जी की मूर्ति को घर में रखते होंगे। नटराज की मूर्ति देखने में तो बहुत सुंदर लगती है।यह मूर्ति भगवान शिव के रौद्र रूप की है। नटराज की मूर्ति को आप भूल कर भी घर के अंदर ना रखें, क्योंकि नटराज भगवान शिव के रौद्र रूप में है यानी भगवान शिव के क्रोधित रूप में ह

छात्रों में अनुशासनहीनता

छात्रावस्था अवोधावस्था होती है, इसमें न बुद्धि परिष्कृत होती है और न विचार। पहले वह माता-पिता तथा गुरुजनों के दबाव से ही कर्त्तव्य पालन करना सीखता है। माता-पिता एवं गुरूजनों के निमंत्रण में रहकर नियमबद्ध रूप से जीवनयापन करना ही अनुशासन कहा जा सकता है। अनुशासन विद्यार्थी जीवन का सार है। अनुशासनहीन विद्यार्थी न तो देश का सभ्य नागरिक बन सकता है और न अपने व्यक्तिगत जीवन में हो सफल हो सकता है।

भाषा सर्वेक्षण पर कालजयी किताब है भारत का भाषा सर्वेक्षण एवं भोजपुरी

भाषा सर्वेक्षण और भोजपुरी के संदर्भ में पृथ्वीराज सिंह द्वारा रचित पुस्तक 'भारत का भाषा सर्वेक्षण एवं भोजपुरी' एक कालजयी किताब है, जो गहन शोध पर आधारित एक श्रमसाध्य कार्य है । इस किताब का व्यापक महत्व है। उक्त बातें इंदिरा गाँधी राष्ट्रीय कला केंद्र के अध्यक्ष सह वरिष्ठ पत्रकार राम बहादुर राय ने 'भारत का भाषा सर्वेक्षण एवं भोजपुरी' किताब के अनावरण सह परिचर्चा कार्यक्रम में कहीं। अनावरण सह परिचर्चा कार्यक्रम का आयोजन शुक्रवार को नई दिल्ली स्थित इंदिरा गाँधी राष्ट्रीय कला केंद्र के उमंग सभागार में संपन्न हुआ।

विद्यालय का वार्षिकोत्सव

उत्सव मनुष्य के जीवन में आनंद और हर्ष का संचार करते हैं। विद्यालय का वार्षिकोत्सव विद्यार्थियों के लिए बहुत महत्वपूर्ण होता है। यही वह अवसर है जब विद्यार्थी अपनी-अपनी प्रतिभाओं को दिखा सकते हैं। विद्यालय का यह उत्सव प्रायः दिसंबर मास के आस-पास मनाया जाता है। इसकी तैयारी एक महीने पूर्व ही प्रारंभ हो जाती है। इस उत्सव में विद्यालय के सभी छात्र-छात्राएँ तथा अध्यापक अध्यापिकाएँ अपना-अपना योगदान देते हैं।

फिल्म ‘आ भी जा ओ पिया’ की स्टारकास्ट ने दिल्ली में किया प्रमोशन

हाल ही में अभिनेता देव शर्मा और अभिनेत्री स्मृति कश्यप अपनी आनेवाली फिल्म ‘आ भी जा ओ पिया’ के प्रमोशन के सिलसिले में दिल्ली पहुंचे। कार्यक्रम का आयोजन नई दिल्ली के पीवीआर प्लाजा में किया गया। यह फिल्म 7 अक्टूबर, 2022 को रिलीज होगी।