Skip to main content

विभाजन की विभीषिका को बार-बार याद किया जाना चाहिए- डॉ. चंद्रप्रकाश द्विवेदी

“चाणक्य” जैसे लोकप्रिय टीवी धारावाहिक और “पिंजर” जैसी संवेदनशील फिल्म के निर्देशक डॉ चंद्रप्रकाश द्विवेदी ने कहा कि विभाजन की विभीषिका को बार-बार इसलिए याद करना चाहिए, ताकि भविष्य में ऐसा न हो। 1947 के बाद इसकी पहल हर साल होनी चाहिए थी। अभी भी बहुत सारे घाव भरे नहीं हैं। उन्होंने कहा, विभाजन की त्रासदी पर जिस तरह से फिल्में बननी चाहिए थीं, सीरियल बनने चाहिए थे, नाटक बनने चाहिए थे, नहीं बने। हम डरते रहे। इतिहास मानव सभ्यता

की तीसरी आंख है। उन्होंने ये बातें केंद्रीय संस्कृति मंत्रालय और इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केंद्र की ओर से केंद्र के सभागार “समवेत” में आयोजित भारत विभाजन विभीषिका पर आधारित फिल्मों की स्क्रीनिंग के दो दिवसीय आयोजन के समापन सत्र में कहीं।

इस अवसर पर “गदर” जैसी ब्लॉकबस्टर फिल्म के निर्देशक अनिल शर्मा ने कहा कि आज की पीढ़ी विभाजन के दर्द को नहीं जानती। यह द्वितीय विश्वयुद्ध में हुई हिरोशिमा त्रासदी से भी बड़ी त्रासदी थी। इसलिए इसके बारे में फिल्मों के माध्यम से भी युवा पीढ़ी को बताना चाहिए। इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केंद्र के सदस्य सचिव डॉ. सच्चिदानंद जोशी ने कहा कि यह वक्त अपने अंदर झांक कर देखने का है कि जिन्होंने विभाजन की पीड़ा सही, जो विस्थापित होकर आए, हमने उनके साथ क्या किया। हम आज भी उन्हें कई बार रिफ्यूजी, शरणार्थी कह देते हैं। इसीलिए प्रधानमंत्री माननीय नरेंद्र मोदी ने 14 अगस्त को विभाजन विभीषिका दिवस मनाने का आह्वान किया था, ताकि हम उनकी पीड़ा को जान सकें।


कार्यक्रम के अंत में कला केंद्र के मीडिया नियंत्रक श्री अनुराग पुनेठा ने आगंतुकों और अतिथियों के प्रति आभार प्रकट करते हुए कहा कि विभाजन पर आधारित फिल्मों की स्क्रीनिंग का यह दो दिवसीय कार्यक्रम काफी उत्साह बढ़ाने वाला रहा। युवाओं ने इसमें सहभागिता की, जिनका विभाजन की वीभिषिका से कोई सीधा सम्बंध नहीं है। उन्होंने अपने बुजुर्गों से विभाजन की कहानियां सुनी होंगी।

समापन कार्यक्रम से पूर्व, दोपहर 12 बजे से विभाजन पर आधारित तीन शॉर्ट फिल्में/डॉक्यूमेंट्री फिल्में- ‘घर’, ‘द अनओन्ड हाउस’, और ‘झूठा सच’ तथा अनिल शर्मा निर्देशित फीचर फिल्म ‘गदर’ दिखाई गई। दो दिवसीय आयोजन के पहले दिन विभाजन पर आधारित चार शॉर्ट फिल्में/डॉक्यूमेंट्री फिल्में- ‘विभाजन विभीषिका’, ‘असमर्थ’, ‘डेरे तूं दिल्ली’ और ‘फेडेड मेमोरीज’ के साथ डॉ. चंद्रप्रकाश द्विवेदी निर्देशित फीचर फिल्म ‘पिंजर’ दिखाई गई थी।

Comments

Most Popular

शास्त्रीय संगीत से सजा ठुमरी उत्सव- दूसरे और तीसरे दिन भी मंच पर उतरेंगे प्रख्यात कलाकार

ठुमरी उत्सव साहित्य कला परिषद की ओर से आयोजित किये जाने वाले उत्सवो में से एक है। इस साल यह उत्सव काफी लंबे समय के बाद शुरू हुआ है। इस 3 दिवसीय संगीत कार्यक्रम की शुक्रवार को कमानी सभागार, मंडी हाउस में हुई, जो 28 अगस्त तक चलेगा।

ब्यूटी और वेलनेस सेक्टर स्किल काउंसिल की ओर से होलिस्टिक वैलनेस वर्कशॉप का आयोजन

समग्र रूप से वेलनेस प्राप्त करने और बढ़ावा देने के दृष्टिकोण के साथ ब्यूटी और वेलनेस सेक्टर स्किल काउंसिल (बी एंड डब्ल्यू एस एस सी ) द्वारा कौशल विकास मंत्रालय  के अधिकारियों के लिए एक 360* वेलनेस कार्यशाला  का आयोजन किया गया। इस कार्यशाला का उद्देश्य होलिस्टिक लाइफ्स्टाइल पर जानकारी देना और अवेयरनेस क्रिएट करते हुए होलिस्टिक अप्रोच के साथ स्वस्थ जीवनशैली अपनाने के लिए प्रेरित करना था।  

राम जन्म से सुबाहू वध की लीला का मंचन

देश-विदेश में लोकप्रिय लव कुश रामलीला कमेटी के मंच पर लीला मंचन से पूर्व विशेष अतिथि केंद्रीय राज्य कानून और न्याय मंत्री सत्य पाल सिंह बघेल के साथ लव कुश के प्रेसिडेंट अर्जुन कुमार और लीला के पदाधिकारियों ने प्रभु श्री राम की पूजा अर्चना की।

फिल्म 'आई एम गोना टेल गॉड एवरीथिंग' की स्क्रीनिंग पर पहुंचे सत्यपाल सिंह

संजय दत्त द्वारा प्रस्तुत और गुजरात में जन्मे अमेरिका में पले-बढ़े जय पटेल की हॉलीवुड शॉर्ट फिल्म 'आई एम गोना टेल गॉड एवरीथिंग' सारी दुनिया में चर्चा में है। फ़िल्म के सह निर्माता अभिषेक दुधैया हैं जिन्होंने अजय देवगन के साथ फ़िल्म भुज का निर्माण और निर्देशन किया था। दिल दहला देने वाली इस रीयलिस्टिक फ़िल्म की स्पेशल स्क्रीनिंग राजधानी दिल्ली में हुई, जहां चीफ गेस्ट के रूप में मुम्बई के पूर्व पुलिस कमिश्नर और भाजपा सांसद सत्यपाल सिंह उपस्थित रहे। सत्यपाल सिंह के अलावा यहां काफी गेस्ट्स आए जिन्हें निर्माता जय पटेल और अभिषेक दुधैया ने शॉल और ट्रॉफी देकर सम्मानित किया।

दिल्ली में प्रमोशन करने पहुंची मैग्नम ओपस ‘पीएस-1’ की टीम

डायरेक्टर मणिरत्नम की ड्रीम ‘पीएस-1’ फिल्म 30 सितंबर को रिलीज होने के लिए तैयार है। यह एक ऐतिहासिक फिक्शन फिल्म है और इस साल की सबसे बहुप्रतीक्षित फिल्मों में से एक है।