Skip to main content

तकनीक की दिशा में नए आयाम स्थापित करने की दिशा में आज़ादी के पर्व पर लांच की गयी युवाओं के लिए प्रभावी कैंपेन

जयपुर बेस्ड टेक्नोलॉजी गुरु ने लांच की यह कैंपेन जिसका उदेश्य तकनीकी एजुकेशन और सिस्टम डिज़ाइन की लर्निंग को सरल बनाना है ताकि युवा इसका सीधा फायदा उठा सके।  

आज, हमें एजुकेशन सीखने की जटिल तकनीकों और टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में  " सिस्टम डिजाइन " जो टेक्नोलॉजी इनोवेशन का आधार है को सीखने के लिए पुराने पैटर्न्स और भ्रामक तरीकों को छोड़ने की ज़रूरत है। यह तरीके भ्रामक हनी के साथ ही टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में भविष्य बनाने के लिए तैयार हो रहे युवाओं को सही मार्गदर्शन नहीं दे पा रहे हैं, " यह कहा टेक्नोलॉजी गुरु के नाम से मशहूर जयपुर बेस्ड विमल डागा ने।  तकनीकी शिक्षा और स्किलिंग के लक्ष्यों  को प्राप्त करने के लिए आज  ज़रूरी है कि  युवाओं को सही मार्गदर्शन मिले और युवा सरल और सीधे तरीकों से एडुकेशन प्राप्त कर सके। इन्ही इशूस को एड्रेस करते हुए भारत की स्वतंत्रता की  ७५ वी सालगिरह के अवसर पर  विमल डागा  ने " सिंपलीफाई लर्निंग " कैंपेन लांच की जिसका उद्देश्य युवाओं को को सिस्टम डिजाइन और टेक लर्निंग  के जटिल और भ्रमित करने वाले तरीके से बचाते हुए उन्हे सही मार्गदर्शन देना था और साथ ही उन्हें एजुकेशन के सरल तरीके, सही दृष्टिकोण और सही अप्रोच से अवगत करवाना था।  


इस मुद्दे को संबोधित करने और छात्रों को उनके भविष्य के लिए बेहतर विकल्प में मदद करने के लिए प्रौद्योगिकी विशेषज्ञ, विमल डागा ने एक महीने तक चलने वाले इस अभियान का अनावरण किया जिसके द्वारा शिक्षा पर अधिक बल देना था ना  कि उसके प्रोसेस को जटिल बना देना जैसे महत्वपूर्ण पहलुओं  को उजागर किया जाएगा। एक महीने तक चलने वाले इस अभियान के माध्यम से, छात्रों को उन प्रैक्टिसेज को  त्यागने के लिए प्रोत्साहित  किया जाएगा जो उन्हें आगे नहीं बढ़ने देते हैं. इसके बारे में बोलते हुए विमल ने कहा, सिस्टम  डिजाइन तकनीक के क्षेत्र में सबसे ज़रूरी मार्ग है और इसी में अलग अलग सब्जेक्ट्स को  सीखने के लिए स्टूडेंट्स अलग अलग टीचर्स के पास जाते हैं, ये सब्जेक्ट्स और घटक आपस में जुड़े हुए हैं और इसको सिखाने वाले टीचर्स का सभी सब्जेक्ट्स में एक्सपर्ट होना ज़रूरी है जो की नहीं हो रहा है और बच्चे आधी अधूरी जानकारी लेकर रह जाते हैं, समस्या तब खड़ी होती है जब वो इस जानकारी के साथ जॉब के लिए उतरते हैं और टेक्नोलॉजी को क्रैक नहीं कर पाते हैं.  यही नहीं ऐसे और भी अनेक इशूस हैं जिनके बारे में स्टूडेंट्स को पता ही नहीं होता और हम इन्ही को लेकर आज़ादी के पर्व के अवसर पर जागरूकता अभियान चलाना चाहते हैं.

यह कैंपेन  उन्हें टेक्नोलॉजी, सिस्टम डिजाइन को लेकर  सरल प्रणाली अपनाने में मदद करेगा  इस अभियान में राजस्थान, जयपुर, दिल्ली, गुड़गांव और पंजाब के युवा  भाग ले रहे हैं और इसके अतिरिक्त अभियान के माध्यम से अन्य महत्वपूर्ण मुद्दों पर भी प्रकाश डाला जाएगा और उन्हें संबोधित करेगा, वे इशूस हैं , इंजीनियरिंग छात्रों के लिए कठिन परीक्षाओं की तैयारी, एक अनुशासित कार्यक्रम बनाए रखना, ग्रेड के साथ सहज होना, पाठ्यक्रम के साथ रहना, भाषा प्रवीणता, अवशोषित क्षमता में कमी, कम उद्योग संपर्क, रोजगार योग्यता, सही लक्ष्य बनाना और गलत लक्ष्य बनाने से बचना, प्लेसमेंट के मुद्दे, आत्मविश्वास की कमी, समय प्रबंधन की ट्रिक्स, उचित शिक्षा और करियर मार्गदर्शन की कमी, उच्च शुल्क और खर्च जैसी समस्याएँ ,  संकल्प की कमी इत्यादि।  

Comments

Most Popular

शास्त्रीय संगीत से सजा ठुमरी उत्सव- दूसरे और तीसरे दिन भी मंच पर उतरेंगे प्रख्यात कलाकार

ठुमरी उत्सव साहित्य कला परिषद की ओर से आयोजित किये जाने वाले उत्सवो में से एक है। इस साल यह उत्सव काफी लंबे समय के बाद शुरू हुआ है। इस 3 दिवसीय संगीत कार्यक्रम की शुक्रवार को कमानी सभागार, मंडी हाउस में हुई, जो 28 अगस्त तक चलेगा।

ब्यूटी और वेलनेस सेक्टर स्किल काउंसिल की ओर से होलिस्टिक वैलनेस वर्कशॉप का आयोजन

समग्र रूप से वेलनेस प्राप्त करने और बढ़ावा देने के दृष्टिकोण के साथ ब्यूटी और वेलनेस सेक्टर स्किल काउंसिल (बी एंड डब्ल्यू एस एस सी ) द्वारा कौशल विकास मंत्रालय  के अधिकारियों के लिए एक 360* वेलनेस कार्यशाला  का आयोजन किया गया। इस कार्यशाला का उद्देश्य होलिस्टिक लाइफ्स्टाइल पर जानकारी देना और अवेयरनेस क्रिएट करते हुए होलिस्टिक अप्रोच के साथ स्वस्थ जीवनशैली अपनाने के लिए प्रेरित करना था।  

राम जन्म से सुबाहू वध की लीला का मंचन

देश-विदेश में लोकप्रिय लव कुश रामलीला कमेटी के मंच पर लीला मंचन से पूर्व विशेष अतिथि केंद्रीय राज्य कानून और न्याय मंत्री सत्य पाल सिंह बघेल के साथ लव कुश के प्रेसिडेंट अर्जुन कुमार और लीला के पदाधिकारियों ने प्रभु श्री राम की पूजा अर्चना की।

फिल्म 'आई एम गोना टेल गॉड एवरीथिंग' की स्क्रीनिंग पर पहुंचे सत्यपाल सिंह

संजय दत्त द्वारा प्रस्तुत और गुजरात में जन्मे अमेरिका में पले-बढ़े जय पटेल की हॉलीवुड शॉर्ट फिल्म 'आई एम गोना टेल गॉड एवरीथिंग' सारी दुनिया में चर्चा में है। फ़िल्म के सह निर्माता अभिषेक दुधैया हैं जिन्होंने अजय देवगन के साथ फ़िल्म भुज का निर्माण और निर्देशन किया था। दिल दहला देने वाली इस रीयलिस्टिक फ़िल्म की स्पेशल स्क्रीनिंग राजधानी दिल्ली में हुई, जहां चीफ गेस्ट के रूप में मुम्बई के पूर्व पुलिस कमिश्नर और भाजपा सांसद सत्यपाल सिंह उपस्थित रहे। सत्यपाल सिंह के अलावा यहां काफी गेस्ट्स आए जिन्हें निर्माता जय पटेल और अभिषेक दुधैया ने शॉल और ट्रॉफी देकर सम्मानित किया।

दिल्ली में प्रमोशन करने पहुंची मैग्नम ओपस ‘पीएस-1’ की टीम

डायरेक्टर मणिरत्नम की ड्रीम ‘पीएस-1’ फिल्म 30 सितंबर को रिलीज होने के लिए तैयार है। यह एक ऐतिहासिक फिक्शन फिल्म है और इस साल की सबसे बहुप्रतीक्षित फिल्मों में से एक है।