Skip to main content

पुस्तक की आत्मकथा

मेरे जन्म की कहानी बड़ी विचित्र है। मैं आज जो कुछ भी हैं, मानव के कारण हैं। मानव की तपस्या, लगन तथा परिश्रम का ही फल है कि आज मैं इस रूप में आपके सामने हैं। जन्म से पूर्व में केवल सूक्ष्म विचारों और ज्ञान के रूप में थी। एक दिन मेरे स्रष्टा की तपस्या सफल हुई और मैंने भी उसकी साधना पर प्रसन्न होकर उसकी

भाषा और शब्दों को अपने भीतर समा लिया। मानव अपनी उस रचना पर स्वयं आत्म-विभोर हो उठा था। आज से सैकड़ों वर्ष पूर्व जब मेरा जन्म हुआ था, तब मानव के पास आज जैसे उन्नत साधन नहीं थे। उस समय तो वह आज की भाँति लिखना भी नहीं जानता था। वह केवल सुंदर-सुंदर चित्रों तथा तस्वीरों के रूप में ही मेरा निर्माण किया करता था।

आज भी मैं जब शिलाओं, गुफाओं तथा स्तंभों पर अंकित अपने पुराने रूप को देखती हूँ. तो मुझे स्वयं आश्चर्य होता है कि मैं कहाँ से कहाँ पहुँच गई। जब मानव ने लेखन कला का विकास किया, तो मुझ पर भी उसका प्रभाव पड़ा, अब मैं ताम्रपत्रों या भोज-पत्रों पर लिखी जाने लगी। आज भी अनेक संग्रहालयों में मेरा वह पुराना स्वरूप देखा जा सकता है।

इसके बाद मैंने प्रवेश किया-कागज के युग में सबसे पहले कागज पर लिखने का सौभाग्य चीनियों को प्राप्त हुआ। चीनवालों ने हो कागज का निर्माण किया तथा वहीं से यह ज्ञान अन्य देशों में गया। कागज निर्माण के साथ-साथ मुद्रण कला का भी आविष्कार हो गया। वर्षों का काम कुछ ही दिनों में पूर्ण होने लगा। मेरा प्राचीन स्वरूप बिलकुल ही बदल गया। मैं आधुनिका बनकर पाठकों के सामने आई। आज मेरा स्वरूप अत्यंत आकर्षक है।

पुस्तक के रूप में ढलने के लिए मैंने अनेक कष्टों को सहन किया है। मुद्रण-मशीन में मुझे भयानक यातनाएँ सहनी पड़ीं। तत्पश्चात् जिल्दसाज़ ने मेरे शरीर को सँवारा, उसके बाद मैं इतने आकर्षक रूप में आपके सामने हूँ। इतनी काट-छाँट, सिलाई, छपाई तथा जिल्द बाँध जाने के कष्टों को सहन करने का परिणाम अच्छा ही हुआ है। आज मैं ज्ञान-विज्ञान का भंडार मानी जाती हूँ। अनेक प्रकार के विचार मुझमें संकलित है। मेरे बिना संसार की कल्पना करना भी मुश्किल है। यदि मैं न रहूँ तो ज्ञान-विज्ञान और मनोरंजन की दुनिया सूनी हो जाए। मुझे हर्ष है कि आजकल कंप्यूटर के आने से मेरा स्वरूप और भी सुंदर हो गया है तथा दिन-प्रतिदिन निखरता जा रहा है।

- प्रेरणा यादव


Comments

Most Popular

शास्त्रीय संगीत से सजा ठुमरी उत्सव- दूसरे और तीसरे दिन भी मंच पर उतरेंगे प्रख्यात कलाकार

ठुमरी उत्सव साहित्य कला परिषद की ओर से आयोजित किये जाने वाले उत्सवो में से एक है। इस साल यह उत्सव काफी लंबे समय के बाद शुरू हुआ है। इस 3 दिवसीय संगीत कार्यक्रम की शुक्रवार को कमानी सभागार, मंडी हाउस में हुई, जो 28 अगस्त तक चलेगा।

ब्यूटी और वेलनेस सेक्टर स्किल काउंसिल की ओर से होलिस्टिक वैलनेस वर्कशॉप का आयोजन

समग्र रूप से वेलनेस प्राप्त करने और बढ़ावा देने के दृष्टिकोण के साथ ब्यूटी और वेलनेस सेक्टर स्किल काउंसिल (बी एंड डब्ल्यू एस एस सी ) द्वारा कौशल विकास मंत्रालय  के अधिकारियों के लिए एक 360* वेलनेस कार्यशाला  का आयोजन किया गया। इस कार्यशाला का उद्देश्य होलिस्टिक लाइफ्स्टाइल पर जानकारी देना और अवेयरनेस क्रिएट करते हुए होलिस्टिक अप्रोच के साथ स्वस्थ जीवनशैली अपनाने के लिए प्रेरित करना था।  

राम जन्म से सुबाहू वध की लीला का मंचन

देश-विदेश में लोकप्रिय लव कुश रामलीला कमेटी के मंच पर लीला मंचन से पूर्व विशेष अतिथि केंद्रीय राज्य कानून और न्याय मंत्री सत्य पाल सिंह बघेल के साथ लव कुश के प्रेसिडेंट अर्जुन कुमार और लीला के पदाधिकारियों ने प्रभु श्री राम की पूजा अर्चना की।

फिल्म 'आई एम गोना टेल गॉड एवरीथिंग' की स्क्रीनिंग पर पहुंचे सत्यपाल सिंह

संजय दत्त द्वारा प्रस्तुत और गुजरात में जन्मे अमेरिका में पले-बढ़े जय पटेल की हॉलीवुड शॉर्ट फिल्म 'आई एम गोना टेल गॉड एवरीथिंग' सारी दुनिया में चर्चा में है। फ़िल्म के सह निर्माता अभिषेक दुधैया हैं जिन्होंने अजय देवगन के साथ फ़िल्म भुज का निर्माण और निर्देशन किया था। दिल दहला देने वाली इस रीयलिस्टिक फ़िल्म की स्पेशल स्क्रीनिंग राजधानी दिल्ली में हुई, जहां चीफ गेस्ट के रूप में मुम्बई के पूर्व पुलिस कमिश्नर और भाजपा सांसद सत्यपाल सिंह उपस्थित रहे। सत्यपाल सिंह के अलावा यहां काफी गेस्ट्स आए जिन्हें निर्माता जय पटेल और अभिषेक दुधैया ने शॉल और ट्रॉफी देकर सम्मानित किया।

दिल्ली में प्रमोशन करने पहुंची मैग्नम ओपस ‘पीएस-1’ की टीम

डायरेक्टर मणिरत्नम की ड्रीम ‘पीएस-1’ फिल्म 30 सितंबर को रिलीज होने के लिए तैयार है। यह एक ऐतिहासिक फिक्शन फिल्म है और इस साल की सबसे बहुप्रतीक्षित फिल्मों में से एक है।