Skip to main content

प्रदूषण

'प्रदूषण' शब्द का अर्थ है-वायुमंडल या वातावरण का दूषित होना। प्रदूषण की समस्या आज सारे विश्व के सामने विकराल रूप धारण करती जा रही है। आज प्रदूषण की समस्या ने संसार के समस्त प्राणियों के स्वास्थ्य के आगे एक प्रश्नचिह्न लगा दिया है। प्रदूषण चार प्रकार का हो सकता है-प्रदूषण, जल प्रदूषण, ध्वनि प्रदूषण तथा भूमि प्रदूषण वायुप्रदूषण का प्रकोप सबसे अधिक महानगरी पर हुआ है।


इसका कारण है औद्योगिकीकरण। कारखानों को चिमनियों से चौबीसों घंटे निकलने वाले धुएं ने सारे वातावरण को विषाक्त बना दिया है। सड़कों पर चलने वाले वाहनों के धुएँ से निकलने वाली "कार्बन मोनोअक्साइड गैस के कारण आज साँस और फेफड़ों को न जाने कितने प्रकार की बीमारियाँ आम बात हो गई है। शहरों की बढ़ती जनसंख्या के लिए आवास की सुविधाएँ उपलब्ध कराने के लिए वृक्षों और वनों को भी निरंतर काटा जा रहा है। वायु प्रदूषण से बचाने वाले उपायों की हमें खोज करनी चाहिए। कारखानों को नगर से कहीं दूर लगाया जाना चाहिए। पर्यावरण का रक्षा के लिए अधिक से अधिक वृक्ष लगाए जाने चाहिए।

जल प्रदूषण भी आज एक विकट समस्या बन गया है। गाँवों में तो लोगों को स्वच्छ हवा और स्वच्छ जल मिल जाता है. परंतु नगरों में वायु और जल दोनों ही दूषित हो गए हैं। कारखानों का दूषित जल, बचे हुए रसायन, कचरा सभी कुछ नालों से होता हुआ नदियों में मिल जाता है। इसके अलावा नदी-तालाबों में, जिनका जल पीने के लिए प्रयुक्त होता है। लोगों का नहाना, कपड़े धोना, मल-मूत्र डालना, शवों की राख डालना, जानवरों को गरी डालना ऐसे अवगुण हैं, जिनके कारण जल प्रदूषित हो जाता है और इससे तरह-तरह के रोग, जैसे- पीलिया, हैजा, पेचिश, मलेरिया, डेंगू आदि फैलते हैं।

नगरों और महानगरों में ध्वनि प्रदूषण भी मनुष्य के जीवन को तनावयुक्त बनाए रखने का एक प्रमुख कारण है। सड़कों पर शोर करते हुए वाहनों की आवाज का हमारी श्रवण शक्ति प प्रभाव पड़ता ही है, इसके अतिरिक्त यह हृदय रोग तथा रक्तचाप की बीमारियों को भी जन्म देता है। लोग दूसरों को सुविधा का ध्यान न रखते हुए रेडियो, टेपरिकॉर्डर, लाउडस्पीकर को तेव आवाज़ में बजा-बजाकर ध्वनि प्रदूषण फैलाते हैं। इन सब पर प्रतिबंध लगाया जाना चाहिए।

भूमि प्रदूषण भी आज के वैज्ञानिक युग की देन है। उपज बढ़ाने के लिए आज लोग जमीन में न जाने कौन-कौन सी रासायनिक खादों को डालते हैं। इन खादों और रसायनों से फसल तो अधिक मात्रा में प्राप्त हो जाती है. पर ऐसी प्रदूषित भूमि से उत्पन्न होने वाला अनाज, सब्जियाँ, दालें आदि सभी प्रदूषित हो जाते हैं। इनको खाने से लोगों में उदर संबर्ध न जाने कितने प्रकार के रोग विकसित हो जाते हैं।

पर्यावरण की सुरक्षा के लिए वन रोपण तथा वृक्ष लगाने होंगे और जनसंख्या वृद्धि अंकुश लगाना होगा। अणु / परमाणु परीक्षणों पर रोक लगानी होगी। रासायनिक पदार्थों का उपयोग कम करना होगा। शोर मचाने वाले यंत्रों, चिल्ल-पी करने वाले वाहनों पर निय रखना होगा। यदि हम यह सब कर पाने में अक्षम रहे, तो आने वाले वर्षों में हमारा जीवन दूभर हो जाएगा।

-प्रेरणा यादव

Comments

Most Popular

शास्त्रीय संगीत से सजा ठुमरी उत्सव- दूसरे और तीसरे दिन भी मंच पर उतरेंगे प्रख्यात कलाकार

ठुमरी उत्सव साहित्य कला परिषद की ओर से आयोजित किये जाने वाले उत्सवो में से एक है। इस साल यह उत्सव काफी लंबे समय के बाद शुरू हुआ है। इस 3 दिवसीय संगीत कार्यक्रम की शुक्रवार को कमानी सभागार, मंडी हाउस में हुई, जो 28 अगस्त तक चलेगा।

ब्यूटी और वेलनेस सेक्टर स्किल काउंसिल की ओर से होलिस्टिक वैलनेस वर्कशॉप का आयोजन

समग्र रूप से वेलनेस प्राप्त करने और बढ़ावा देने के दृष्टिकोण के साथ ब्यूटी और वेलनेस सेक्टर स्किल काउंसिल (बी एंड डब्ल्यू एस एस सी ) द्वारा कौशल विकास मंत्रालय  के अधिकारियों के लिए एक 360* वेलनेस कार्यशाला  का आयोजन किया गया। इस कार्यशाला का उद्देश्य होलिस्टिक लाइफ्स्टाइल पर जानकारी देना और अवेयरनेस क्रिएट करते हुए होलिस्टिक अप्रोच के साथ स्वस्थ जीवनशैली अपनाने के लिए प्रेरित करना था।  

राम जन्म से सुबाहू वध की लीला का मंचन

देश-विदेश में लोकप्रिय लव कुश रामलीला कमेटी के मंच पर लीला मंचन से पूर्व विशेष अतिथि केंद्रीय राज्य कानून और न्याय मंत्री सत्य पाल सिंह बघेल के साथ लव कुश के प्रेसिडेंट अर्जुन कुमार और लीला के पदाधिकारियों ने प्रभु श्री राम की पूजा अर्चना की।

फिल्म 'आई एम गोना टेल गॉड एवरीथिंग' की स्क्रीनिंग पर पहुंचे सत्यपाल सिंह

संजय दत्त द्वारा प्रस्तुत और गुजरात में जन्मे अमेरिका में पले-बढ़े जय पटेल की हॉलीवुड शॉर्ट फिल्म 'आई एम गोना टेल गॉड एवरीथिंग' सारी दुनिया में चर्चा में है। फ़िल्म के सह निर्माता अभिषेक दुधैया हैं जिन्होंने अजय देवगन के साथ फ़िल्म भुज का निर्माण और निर्देशन किया था। दिल दहला देने वाली इस रीयलिस्टिक फ़िल्म की स्पेशल स्क्रीनिंग राजधानी दिल्ली में हुई, जहां चीफ गेस्ट के रूप में मुम्बई के पूर्व पुलिस कमिश्नर और भाजपा सांसद सत्यपाल सिंह उपस्थित रहे। सत्यपाल सिंह के अलावा यहां काफी गेस्ट्स आए जिन्हें निर्माता जय पटेल और अभिषेक दुधैया ने शॉल और ट्रॉफी देकर सम्मानित किया।

दिल्ली में प्रमोशन करने पहुंची मैग्नम ओपस ‘पीएस-1’ की टीम

डायरेक्टर मणिरत्नम की ड्रीम ‘पीएस-1’ फिल्म 30 सितंबर को रिलीज होने के लिए तैयार है। यह एक ऐतिहासिक फिक्शन फिल्म है और इस साल की सबसे बहुप्रतीक्षित फिल्मों में से एक है।