Skip to main content

बुलेट ट्रेन

भारत में 16 अप्रैल, 1853 को 33.81 किलोमीटर लंबे मार्ग पर मुंबई से ठाणे के बीच 8 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ़्तार से पहली रेलगाड़ी चलाई गई थी, किंतु आज भारत के रेल नेटवर्क ने न सिर्फ़ वैश्विक स्तर पर अपनी पहचान बनाई है, बल्कि विश्व के 5 बड़े रेल नेटवर्कों में इसका स्थान है। कर्मचारियों की वृहत संख्या के आधार पर 1.307 मिलियन कर्मचारी वाली भारतीय रेल विश्व की नौवीं सबसे बड़ी व्यावसायिक संस्था है। भारत में रेल यातायात को तीव्र गति प्रदान करने के लिए बुलेट ट्रेन की योजना पर विचार किया गया।



विश्व में सबसे तेज चलने वाली ट्रेन को 'बुलेट ट्रेन' नाम दिया गया। पहली बुलेट ट्रेन जापान की राजधानी टोक्यों से ओसाका के मध्य 1964 में चलाई गई। बुलेट ट्रेन का आविष्कार जापान के हिद्दयों शाइमा ने किया था। शिनकानसेन नामक यह बुलेट उन दिनों 200 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ती थी, पर आज इस ट्रेन की गति 300 किलोमीटर प्रति घंटा है। जापान के बाद फ्रांस, जर्मनी, इंग्लैंड, इटली, पोलैंड, पुर्तगाल, ऑस्ट्रेलिया, बेल्जियम, चीन आदि दशा में भी बुलेट ट्रेन पर कार्य किया जा रहा है।

भारत में भी गुजरात के अहमदाबाद में पहली बुलेट ट्रेन का शुभारंभ किया गया है। इसका शिलान्यास प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जापान के प्रधानमंत्री के साथ मिलकर किया। अहमदाबाद और मुंबई के बीच बुलेट ट्रेन को दौड़ाने का सपना 15 अगस्त, 2022 को पूरा किए जाने का लक्ष्य रखा गया है। जब यह ट्रेन भारत में चलने लगेगी तो भारत उन चुनिंदा देशों को कतार में शामिल हो जाएगा, जहाँ पर हाई स्पीड ट्रेन चलती हैं। भारत और जापान के बीच हुए समझौते के मुताबिक अहमदाबाद-मुंबई बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट में जापान पूरा तकनीकी सहयोग करेगा। प्रोजेक्ट पूरा होने के बाद भारत के लोगों को बुलेट ट्रेन चलाने की ट्रेनिंग देगा और इसके अलावा बुलेट ट्रेन तकनीक को भारत के अन्य क्षेत्रों में प्रयोग करने के लिए भी पूरी मदद करेगा। बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट के लिए हाई स्पीड रेल ट्रेनिंग इंस्टिट्यूट वडोदरा में बनाया जा रहा है। इस इंस्टिट्यूट में बुलेट ट्रेन के संचालन और रखरखाव के लिए 4000 लोगों को प्रशिक्षण दिया जाएगा।


अहमदाबाद और मुंबई के बीच चलने वाली पहली बुलेट ट्रेन 320 किलोमीटर प्रति घंटे की अधिकतम गति से चलाई जाएगी। मुंबई और अहमदाबाद के बीच चलने वाली पहली बुलेट ट्रेन 2 घंटा 7 मिनट में सफर पूरा करेगी। इस सफ़र में चार जगहों पर ट्रेन रुकेगी, तो वहीं दूसरी तरफ़ सभी 12 स्टेशनों पर बुलेट ट्रेन रुकने की स्थिति में यह सफ़र 2 घंटा 58 मिनट में पूरा हो पाएगा। यह भी अनुमान लगाया जा रहा है कि बुलेट ट्रेन परियोजना से देश में रोजगार के अवसर बहेंगे तथा 'मेक इन इंडिया' को बढ़ावा मिलेगा। 508 किलोमीटर की लंबाई वाला रूट महाराष्ट्र, गुजरात और दादरा नगर हवेली से होकर गुजरेगा। महाराष्ट्र में बुलेट ट्रेन रूट का 156 किलोमीटर का हिस्सा, गुजरात में 351 किलोमीटर का हिस्सा और केंद्र शासित प्रदेश दादरा नगर हवेली से 2 किलोमीटर का हिस्सा गुजरेगा। बुलेट ट्रेन रूट पर कई सुरंगे होंगी और इनमें से सबसे लंबी सुरंग 21 किलोमीटर की होगी। इसके अलावा अहमदाबाद-मुंबई बुलेट ट्रेन रूट का 7 किलोमीटर का हिस्सा ठाणे क्रिक में समुद्र के नीचे से होकर गुजरेगा।

भारत में बुलेट ट्रेन के सकारात्मक पहलुओं के साथ कुछ अन्य पक्षों पर भी विचार करना होगा। जापान जैसे संपन्न देशों की तुलना में भारत का रेल- तंत्र काफ़ी कमजोर है। भारत जैसे विकासशील देश में बुलेट ट्रेन चलाने की योजना से यहाँ की अर्थव्यवस्था पर भी भारी बोझ पड़ेगा। दक्षिण और दक्षिण-पश्चिम रेलवे की कुछ परियोजनाओं को पूर्ण होने में पाँच दशक का समय भी लग सकता है, क्योंकि परियोजना के अनुरूप धनराशि आवंटित नहीं हो पाएगी। फिर भारत जैसे देश में जहाँ 'राजधानी' और 'शताब्दी एक्सप्रेस' जैसी महंगी ट्रेनों में यात्र करने के लिए आम आदमी को काफी कुछ सोचना पड़ता है, वहाँ विमान यात्रा के किराये के बराबर व्यय वाली बुलेट ट्रेनों को पटरियों पर दौड़ाना आर्थिक स्तर पर कितना लाभप्रद और लोगों के हित में होगा यह तो आने वाला समय ही बताएगा।

-प्रेरणा यादव

Comments

Most Popular

शास्त्रीय संगीत से सजा ठुमरी उत्सव- दूसरे और तीसरे दिन भी मंच पर उतरेंगे प्रख्यात कलाकार

ठुमरी उत्सव साहित्य कला परिषद की ओर से आयोजित किये जाने वाले उत्सवो में से एक है। इस साल यह उत्सव काफी लंबे समय के बाद शुरू हुआ है। इस 3 दिवसीय संगीत कार्यक्रम की शुक्रवार को कमानी सभागार, मंडी हाउस में हुई, जो 28 अगस्त तक चलेगा।

ब्यूटी और वेलनेस सेक्टर स्किल काउंसिल की ओर से होलिस्टिक वैलनेस वर्कशॉप का आयोजन

समग्र रूप से वेलनेस प्राप्त करने और बढ़ावा देने के दृष्टिकोण के साथ ब्यूटी और वेलनेस सेक्टर स्किल काउंसिल (बी एंड डब्ल्यू एस एस सी ) द्वारा कौशल विकास मंत्रालय  के अधिकारियों के लिए एक 360* वेलनेस कार्यशाला  का आयोजन किया गया। इस कार्यशाला का उद्देश्य होलिस्टिक लाइफ्स्टाइल पर जानकारी देना और अवेयरनेस क्रिएट करते हुए होलिस्टिक अप्रोच के साथ स्वस्थ जीवनशैली अपनाने के लिए प्रेरित करना था।  

राम जन्म से सुबाहू वध की लीला का मंचन

देश-विदेश में लोकप्रिय लव कुश रामलीला कमेटी के मंच पर लीला मंचन से पूर्व विशेष अतिथि केंद्रीय राज्य कानून और न्याय मंत्री सत्य पाल सिंह बघेल के साथ लव कुश के प्रेसिडेंट अर्जुन कुमार और लीला के पदाधिकारियों ने प्रभु श्री राम की पूजा अर्चना की।

फिल्म 'आई एम गोना टेल गॉड एवरीथिंग' की स्क्रीनिंग पर पहुंचे सत्यपाल सिंह

संजय दत्त द्वारा प्रस्तुत और गुजरात में जन्मे अमेरिका में पले-बढ़े जय पटेल की हॉलीवुड शॉर्ट फिल्म 'आई एम गोना टेल गॉड एवरीथिंग' सारी दुनिया में चर्चा में है। फ़िल्म के सह निर्माता अभिषेक दुधैया हैं जिन्होंने अजय देवगन के साथ फ़िल्म भुज का निर्माण और निर्देशन किया था। दिल दहला देने वाली इस रीयलिस्टिक फ़िल्म की स्पेशल स्क्रीनिंग राजधानी दिल्ली में हुई, जहां चीफ गेस्ट के रूप में मुम्बई के पूर्व पुलिस कमिश्नर और भाजपा सांसद सत्यपाल सिंह उपस्थित रहे। सत्यपाल सिंह के अलावा यहां काफी गेस्ट्स आए जिन्हें निर्माता जय पटेल और अभिषेक दुधैया ने शॉल और ट्रॉफी देकर सम्मानित किया।

दिल्ली में प्रमोशन करने पहुंची मैग्नम ओपस ‘पीएस-1’ की टीम

डायरेक्टर मणिरत्नम की ड्रीम ‘पीएस-1’ फिल्म 30 सितंबर को रिलीज होने के लिए तैयार है। यह एक ऐतिहासिक फिक्शन फिल्म है और इस साल की सबसे बहुप्रतीक्षित फिल्मों में से एक है।