Skip to main content

विद्यालय का वार्षिकोत्सव

उत्सव मनुष्य के जीवन में आनंद और हर्ष का संचार करते हैं। विद्यालय का वार्षिकोत्सव विद्यार्थियों के लिए बहुत महत्वपूर्ण होता है। यही वह अवसर है जब विद्यार्थी अपनी-अपनी प्रतिभाओं को दिखा सकते हैं। विद्यालय का यह उत्सव प्रायः दिसंबर मास के आस-पास मनाया जाता है। इसकी तैयारी एक महीने पूर्व ही प्रारंभ हो जाती है। इस उत्सव में विद्यालय के सभी छात्र-छात्राएँ तथा अध्यापक अध्यापिकाएँ अपना-अपना योगदान देते हैं।
हमारे विद्यालय में यह उत्सव दिसंबर की अठारह तारीख को मनाया गया। इसके लिए एक माह पूर्व तैयारी शुरू हो गई थी। इस दिन विद्यालय को खूब सजाया गया। शहर के जिलाधीश को मुख्य अतिथि के रूप में आमंत्रित करने के साथ-साथ शहर के अन्य गणमान्य व्यक्तियों तथा अभिभावकों को भी आमंत्रित किया गया।

विद्यालय के भव्य मैदान में अतिथियों के बैठने का प्रबंध था तथा एक विशाल और ऊँचा मंच बनवाया गया था। ठीक तीन बजे मुख्य अतिथि पधारे। विद्यालय के बैंड ने धुन बजाकर उनका स्वागत किया। प्रबंधक महोदय एवं प्रधानाचार्य उनको लेकर मंच की ओर बढ़े। मंच पर पहुँचने के बाद प्रबंधक महोदय एवं प्रधानाचार्य ने पुष्पमालाओं से उनका स्वागत किया तथा उनको नियत स्थान पर बैठाया।

कार्यक्रम का शुभारंभ ईश वंदना से हुआ। उसके बाद मुख्य अतिथि ने दीप प्रज्वलित किया। फिर कुछ रंगारंग कार्यक्रम प्रस्तुत किए गए। तत्पश्चात् प्रधानाचार्य जी ने विद्यालय की वार्षिक रिपोर्ट पढ़कर सुनाई तथा मुख्य अतिथि ने मेधावी छात्र-छात्राओं को पुरस्कृत किया। उसके बाद मुख्य अतिथि ने अपने भाषण में विद्यालय की सफलता तथा प्रगति की कामना की एवं विद्यार्थियों द्वारा प्रस्तुत कार्यक्रम की खुले दिल से प्रशंसा की।

प्रधानाचार्य ने कार्यक्रम की सफलतापूर्ण प्रस्तुति के लिए छात्र-छात्राओं तथा अध्यापक अध्यापिकाओं की सराहना तथा अगले दिन अवकाश की घोषणा की, जिससे विद्यार्थियों में हर्ष की लहर दौड़ गई। अंत में प्रधानाचार्य ने मुख्य अतिथि तथा आए हुए अन्य अतिथियों को धन्यवाद दिया।

तत्पश्चात् राष्ट्रीय गान गाया गया और कार्यक्रम समाप्त हो गया। कार्यक्रम समाप्त होने के उपरांत कार्यक्रम में उपस्थित सभी अतिथियों और विद्यार्थियों को जलपान करवाया गया। इस प्रकार हमारा यह वार्षिक उत्सव सफलतापूर्वक संपन्न हुआ।


- प्रेरणा यादव

Comments

Most Popular

शास्त्रीय संगीत से सजा ठुमरी उत्सव- दूसरे और तीसरे दिन भी मंच पर उतरेंगे प्रख्यात कलाकार

ठुमरी उत्सव साहित्य कला परिषद की ओर से आयोजित किये जाने वाले उत्सवो में से एक है। इस साल यह उत्सव काफी लंबे समय के बाद शुरू हुआ है। इस 3 दिवसीय संगीत कार्यक्रम की शुक्रवार को कमानी सभागार, मंडी हाउस में हुई, जो 28 अगस्त तक चलेगा।

ब्यूटी और वेलनेस सेक्टर स्किल काउंसिल की ओर से होलिस्टिक वैलनेस वर्कशॉप का आयोजन

समग्र रूप से वेलनेस प्राप्त करने और बढ़ावा देने के दृष्टिकोण के साथ ब्यूटी और वेलनेस सेक्टर स्किल काउंसिल (बी एंड डब्ल्यू एस एस सी ) द्वारा कौशल विकास मंत्रालय  के अधिकारियों के लिए एक 360* वेलनेस कार्यशाला  का आयोजन किया गया। इस कार्यशाला का उद्देश्य होलिस्टिक लाइफ्स्टाइल पर जानकारी देना और अवेयरनेस क्रिएट करते हुए होलिस्टिक अप्रोच के साथ स्वस्थ जीवनशैली अपनाने के लिए प्रेरित करना था।  

राम जन्म से सुबाहू वध की लीला का मंचन

देश-विदेश में लोकप्रिय लव कुश रामलीला कमेटी के मंच पर लीला मंचन से पूर्व विशेष अतिथि केंद्रीय राज्य कानून और न्याय मंत्री सत्य पाल सिंह बघेल के साथ लव कुश के प्रेसिडेंट अर्जुन कुमार और लीला के पदाधिकारियों ने प्रभु श्री राम की पूजा अर्चना की।

फिल्म 'आई एम गोना टेल गॉड एवरीथिंग' की स्क्रीनिंग पर पहुंचे सत्यपाल सिंह

संजय दत्त द्वारा प्रस्तुत और गुजरात में जन्मे अमेरिका में पले-बढ़े जय पटेल की हॉलीवुड शॉर्ट फिल्म 'आई एम गोना टेल गॉड एवरीथिंग' सारी दुनिया में चर्चा में है। फ़िल्म के सह निर्माता अभिषेक दुधैया हैं जिन्होंने अजय देवगन के साथ फ़िल्म भुज का निर्माण और निर्देशन किया था। दिल दहला देने वाली इस रीयलिस्टिक फ़िल्म की स्पेशल स्क्रीनिंग राजधानी दिल्ली में हुई, जहां चीफ गेस्ट के रूप में मुम्बई के पूर्व पुलिस कमिश्नर और भाजपा सांसद सत्यपाल सिंह उपस्थित रहे। सत्यपाल सिंह के अलावा यहां काफी गेस्ट्स आए जिन्हें निर्माता जय पटेल और अभिषेक दुधैया ने शॉल और ट्रॉफी देकर सम्मानित किया।

दिल्ली में प्रमोशन करने पहुंची मैग्नम ओपस ‘पीएस-1’ की टीम

डायरेक्टर मणिरत्नम की ड्रीम ‘पीएस-1’ फिल्म 30 सितंबर को रिलीज होने के लिए तैयार है। यह एक ऐतिहासिक फिक्शन फिल्म है और इस साल की सबसे बहुप्रतीक्षित फिल्मों में से एक है।