Skip to main content

रांची का लड़का सुनहरे पर्दे पर कर रहा कमाल!

मंजिल उन्हीं को मिलती है, जिनके सपनो में जान होती है, पंख से कुछ नहीं होता, हौंसलों से उड़ान होती है। ये कहावत बिलकुल सटीक बैठती है रांची एक लड़के राजेश सिंह पर जो अपने सपनों की जिद को हक़ीक़त बनाने और अपने आप को अर्श तक ले जाने की कोशिश में लगा है। श्री राम सेंटर में थिएटर के साथ-साथ

नुक्कड़ करते वक्त देखे ख्वाब को बॉलीवुड के सुनहरे पर्दे पर उतारने में लगा है। जल्द रिलीज होने वाली वेब सीरीज खाकी: द चैप्टर ऑफ बिहार में अहम भूमिका में नजर आएगा।


वेब सीरीज 'खाकी-द बिहार चैप्टर' में किया काम

मिर्जापुर के बाद अब एक और यूपी-बिहार बेस्ड सीरीज आपके एंटरटेनमेंट का डबल डोज देने आ रही है। नेटफ्लिक्स की अपकमिंग क्राइम आधारित वेब सीरीज 'खाकी-द बिहार चैप्टर' का ट्रेलर रिलीज कर दिया गया है। वेब सीरीज नामी डायरेक्टर नीरज पांडेय द्वारा निर्देशित है। वेब सीरीज 25 नवंबर को रिलीज होगा। इस सीरीज में राजेश सिंह छोटे मगर छाप छोड़ने वाले किरदार में नजर आएंगे।

कई बड़े प्रोजेक्टस में राजेश सिंह आएंगे नजर

राजेश के एक्टिंग की शुरुआत थिएटर और नुक्कड़ नाटक से हुई। श्री राम सेंटर से दो साल का कोर्स किया और अपने आप को एक्टिंग के मापदंडों से निखारा। जिसके बाद उन्होंने कभी पीछे मुड़ कर नहीं देखा। सुनहरे पर्दे पर शुरुआत की बात की जाए तो राजेश ने फेमस डायरेक्टर प्रकाश झा की फिल्म ‘परीक्षा’ में काम किया। आगे आने वाले प्रोजेक्ट की बात की जाए तो गैंग ऑफ़ वासेपुर फेम राइटर जिसान कादरी की अपकमिंग प्रोजेक्ट ‘फर्रे’ में भी आएंगे नजर। साथ ही दांतेवाड़ा और एंडेमॉल की अपकमिंग प्रोजेक्ट AK -47 में भी नजर आयेंगे।

'हर पथ पर संघर्ष, आगे बढ़ते रहना इंसानी धर्म'

राजेश सिंह बताते हैं सारे प्रोजेक्ट में किरदार भले ही छोटे है पर छाप छोड़ने वाले हैं। संघर्ष के सवाल पर उन्होंने कहा कि हर पथ पर संघर्ष है और प्रगति पथ पर आगे बढ़ते रहना इंसानी धर्म है। मुंबई जाने के सवाल पर उन्होंने कहा कि सपने जगह की मोहताज नहीं होती पर वेब सीरीज का दौर आने के बाद छोटे शहरों के सपनों को उनका आसमान थोड़ी आसानी से मिलने लगा है, मेहनत में कोई कमी नहीं आई है। काम करेंगे तभी नाम होगा।

Comments

Most Popular

विज्ञान से लाभ-हानि

आधुनिक युग को 'विज्ञान का युग' कहा जाता है। आधुनिक जीवन में विज्ञान ने हर क्षेत्र में अद्भुत क्रांति उत्पन्न कर रखी है। इसने हमारे जीवन को सहज व सरल बना दिया है। विज्ञान ने मानव की सुख-सुविधा के अनेक साधन जुटाएँ हैं। टेलीफ़ोन, टेलीविजन, सिनेमा, वायुयान, टेलीप्रिंटर आदि विज्ञान के ही आविष्कार हैं। विद्युत के

प्रधानमंत्री मोदी ने किया एम्स नागपुर राष्ट्र को समर्पित

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज, 11 दिसंबर को एम्स नागपुर राष्ट्र को समर्पित किया। प्रधानमंत्री ने नागपुर एम्स परियोजना मॉडल का निरीक्षण भी किया और इस अवसर पर प्रदर्शित माइलस्टोन प्रदर्शनी गैलरी का अवलोकन किया।

 संघर्ष जितना अधिक होगा, संवेदना उतनी ही अधिक छुएगीः ऊषा किरण खान

साहित्य आजतक के मंचपर अंतिम दिन 'ये जिंदगी के मेले' सेशन में देशकी जानी मानी लेखिकाओं ने साहित्य, लेखन और मौजूदा परिदृश्य पर बातें कीं. इनमें लेखिका उपन्यासकार डॉ. सूर्यबाला, लेखिका ममताकालिया, लेखिका ऊषाकिरण खान शामिल हुईं. 

 प्रधानमंत्री मोदी ने नागपुर रेलवे स्टेशन से वंदे भारत एक्सप्रेस को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 11 दिसंबर को नागपुर रेलवे स्टेशन से नागपुर और बिलासपुर को जोड़ने वाली वंदे भारत एक्सप्रेस को झंडी दिखाकर रवाना किया। प्रधानमंत्री ने वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन के डिब्बों का निरीक्षण किया और ऑनबोर्ड सुविधाओं का जायजा लिया। उन्होंने नागपुर और अजनी रेलवे स्टेशनों की विकास योजनाओं का भी जायजा लिया।

चितरंजन त्रिपाठी बने राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय-NSD के नए निदेशक

आखिरकार राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय- NSD को स्थायी निदेशक चितरंजन त्रिपाठी के रूप में मिल गया है। संस्कृति मंत्रालय के अंतर्गत भारत सरकार की स्वायत्त संस्था राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय विश्व पटल पर रंगमंच के लिए स्थापित रंग संस्था है। चितरंजन त्रिपाठी एनएसडी ते 12 वें निदेशक हैं। अच्छी बात यह है कि वे यहां के 9वें स्नातक भी हैं, जिन्होंने निदेशक का पद भार सम्भाला है। श्री त्रिपाठी राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय के 1996 बैच के स्नातक हैं।